एडवांस्ड सर्च

Advertisement

कहानी: जन्मदिन पर लता मंगेशकर के सुरीले नगमे

aajtak.inनई दिल्ली, 28 September 2019

75 बरस से सुर साधना के महायज्ञ को जिन्होनें अपनी आवाज़ की समिधा से पवित्र बनाए रखा उस आध्यात्मिक खुशबू का नाम लता मंगेशकर होता है. उनकी आवाज़ ने पीढ़ी दर पीढ़ी पीढ़ियों के दिल में ये अहसास बनाए रखा कि अगर देवत्व की कोई आवाज़ होती तो निश्चित तौर पर वो लता दी जैसी ही होती. ज़िंदगी का सफ़र उन्हें 90 के पड़ाव पर ज़रूर ले आया है लेकिन उनकी आवाज़ अब भी जब कहीं भी गूंजती है हर किसी का दिल हूम हूम कर उठता है. भारत रत्न लता दी को नज़राना है हमारी आज की कहानी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay