एडवांस्ड सर्च

Advertisement

कहानी: सियासत बनाम सिनेमा का राष्ट्रवाद

aajtak.in [Edited by: विशाल कसौधन] 14 April 2019

कहानी में आज बात हो रही है सिनेमा बनाम सियासत के राष्ट्रवाद की. राष्ट्रवाद के मौजूदा रूप और राजनीतिक स्वरूप के बीच हम आपको ले चलते हैं उस दौर में जब हमारे लिए राष्ट्रवाद का मतलब था- देश की आजादी. मगर आजादी के साथ जो देश बंटा- राष्ट्रवाद भी शायद उसी वक्त दो धड़ों में बंट गया. उस लकीर के एक तरफ मोहम्मद अली जिन्ना का राष्ट्रवाद, जिसमें एक धर्म को राष्ट्र की पहचान बनाया जाता है. और दूसरी तरफ जवाहर लाल नेहरू का राष्ट्रवाद जिसकी संवैधानिक भूमिका में लिखा जाता है- हम एक धर्मनिरपेक्ष राज्य है.

In Kahani this episode we talk about Politics vs Cinema nationalism. We take you between the current form and political nature of nationalism, in that time when nationalism was meant for us- the country independence, But the nation divided after independence. nationalism may also have been divided into two factions at the same time. On the one side the nationalism of Mohammad Ali Jinnah, in which one religion is made to identify the nation. And on the other side of Jawaharlal Nehru nationalism whose constitutional role is written - we are a secular state.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay