एडवांस्ड सर्च

Advertisement

एक और एक ग्यारह: मध्यस्थता कमेटी को 15 अगस्त तक का वक्त मिला

aajtak.in [Edited By: अमित रायकवार]नई दिल्ली, 10 May 2019

अयोध्या मामले पर मध्यस्थता की प्रक्रिया के आदेश के बाद शुक्रवार को पहली बार सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई. इस दौरान जस्टिस एफएमआई खलीफुल्ला ने सुप्रीम कोर्ट में अपनी रिपोर्ट दाखिल की, जिसमें मध्यस्थता प्रक्रिया को पूरा करने के लिए 15 अगस्त तक का समय मांगा गया. इसके बाद कोर्ट ने मामले की मध्यस्थता का समय 15 अगस्त तक बढ़ा दिया. इस दौरान चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा, 'हम मामले में मध्यस्थता कहां तक पहुंची, इसकी जानकारी सार्वजनिक नहीं कर सकते हैं. इसको गोपनीय रहने दिया जाए. इस दौरान वरिष्ठ वकील राजीव धवन ने कहा, 'हम कोर्ट के बाहर बातचीत से समस्या के हल निकालने का समर्थन करते हैं.' साथ ही मुस्लिम याचिकाकर्ताओं की ओर से अनुवाद पर सवाल उठाते हुए कहा कि अनुवाद में  कई गलतियां हैं. पांच वक्त नमाज और जुमा नमाज को लेकर गलतफहमी है.

The Supreme Court on Friday granted additional time to a three-member special mediation panel in the Ayodhya Ram Janmbhoomi land title dispute case. The court has extended the time till August 15 to find an amicable solution to the dispute. A five-member Constitutional bench headed by Chief Justice of India Ranjan Gogoi heard the matter on Friday morning. The mediation panel sought an extension of time to find an amicable solution.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay