एडवांस्ड सर्च

Advertisement

क्या मोदी राज में मुस्लिम खुद को बदलेंगे?

पुण्य प्रसून वाजपेयी [Edited By: विकास कुमार] 18 March 2017

आजादी के साथ विभाजन की लकीर तले मुस्लिमो की ये तादाद हिन्दुस्तान का ऐसा सच है जिसके आसरे राजनीति इस हद तक पली बढी कि सियासत के लिये मुस्लमान वजीर माना गया और सामाजिक-आर्थिक विपन्नता ने इसे प्यादा बना दिया. लेकिन जो सवाल बीते 70 बरस में मुस्लिमो को लेकर सियासी तौर पर नहीं वह सवाल आज की तारिख में सबसे ज्वलंत है कि क्या मोदी राज में मुस्लिम खुद को बदलेगें या फिर मुस्लिम सियासी प्यादा बनना छोड अपनी पहचान को भी बदल लेगें.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay