एडवांस्ड सर्च

Advertisement

राम मंदिर पर रोजाना सुनवाई से वक्फ बोर्ड को आपत्ति क्यों?

राम मंदिर पर रोजाना सुनवाई से वक्फ बोर्ड को आपत्ति क्यों?
aajtak.inनई दिल्ली, 10 August 2019

पहले राम मंदिर की सुनवाई पर तारीख पर तारीख आती थी लेकिन अब जब सुप्रीम कोर्ट ने अपनी परंपरा को तोड़ते हुए हफ्ते में पांच दिन सुनवाई का फैसला लिया तो मुस्लिम पक्ष में विरोध में खड़ा हो गया. सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील ने चीफ जस्टिस से कहा कि वो हफ्ते में पांच दिन सुनवाई के लिए कोर्ट की मदद नहीं कर सकते हैं क्योंकि हमें दिन-रात अनुवाद के कागज पढ़ने होते हैं और अन्य तैयारियां करनी पड़ती हैं. इसलिए हफ्ते में पांच दिन सुनवाई के फैसले से हड़बड़ी होगी. आपको बता दें कि राम मंदिर के पक्षकार लंबे समय से रोजाना सुनवाई कर जल्द से जल्द फैसले की मांग कर रहे थे. ऐसे में वक्फ बोर्ड की दलील से क्या ऐसा नहीं लगता कि वो मामले को लगातार लटकाए रखने के पक्ष में है? आज के दंगल में इस फैसले से जुड़े तमाम पहलुओं की चर्चा करेंगे.

Earlier, the court was giving date after dates in Ram Janmabhoomi-Babri Masjid land dispute in Ayodhya, but now the Supreme Court is set to commence day-to-day hearing. The decision of the court is being opposed by the Muslim party. Advocate of Sunni Waqf Board has told Chief Justice Ranjan Gogoi that it was not possible to assist the court if it is rushed through. In this episode of Dangal we will ask whether Waqf board is willingly trying to make delay in Ram Janmabhoomi-Babri Masjid land dispute.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay