एडवांस्ड सर्च

Advertisement

दंगल: इधर सेना तैनात, उधर करतारपुर पर बात

रोहित सरदाना [Edited By: अमित रायकवार]नई दिल्ली, 15 March 2019

पाकिस्तान के आतंक के खिलाफ भारत दुनिया के मंच पर आवाज उठा रहा है, लेकिन पाकिस्तान से भारत ने कल करतारपुर कॉरिडोर पर बातचीत की है. वैसे तो भारत के विदेश मंत्रालय ने साफ कहा है कि करतारपुर कॉरिडोर को लेकर हुई बातचीत को द्विपक्षीय संबंधों की बहाली का संकेत नहीं माना जाना चाहिए, क्योंकि आतंक और बातचीत साथ-साथ नहीं चल सकती. लेकिन सवाल उठे हैं कि जो पाकिस्तान किसी भी मामले में भरोसे के काबिल नहीं उससे किसी तरह के ताल्लुकात को क्या जारी रखना चाहिए? क्या पाकिस्तान इसका फायदा उठाने की कोशिश नहीं करेगा?

Amid heightened tensions between India and Pakistan over Pulwama terror attack and Balakot airstrike, a meeting was held between officials of the two nations to finalise the modalities for setting up of the Kartarpur corridor. India has made it clear that the meeting was in no way a resumption of a bilateral dialogue becuase dialogue and terrorism can not go hand in hand. But question arises, should we trust Pakistan this time. Find out what our panelists have to say on this.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay