एडवांस्ड सर्च

Advertisement

दंगल: नागरिकता के नाम पर किसी को कुछ भी बोलने की आजादी है?

दंगल: नागरिकता के नाम पर किसी को कुछ भी बोलने की आजादी है?
aajtak.inनई दिल्ली, 24 January 2020

नागरिकता पर राजनीति की लड़ाई में हर दिन सीमाएं टूट रही हैं और बयानों के तीर निकल रहे हैं. बीजेपी के वरिष्ठ नेता कैलाश विजयवर्गीय के ऐसे ही एक बयान पर बवाल मच गया है, जिसका मजमून ये है कि उन्होंने बस पोहा खाते मजदूरों को देखा तो समझ गए कि वो बांग्लादेशी घुसपैठिये हैं. कांग्रेस ने कैलाश विजयवर्गीय के इस बयान को एक समुदाय को डराने वाला करार दिया है तो उधर अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष फैजुल हसन नागरिकता कानून विरोधी प्रदर्शन के दौरान बोल पड़े हैं कि ये मुसलमानों का सब्र है, वर्ना बर्बाद करने पर आएंगे तो देश खत्म कर देंगे. इन बयानों के मद्देनजर हमारा सवाल ये है कि नागरिकता के नाम पर किसी को कुछ भी बोलने की आजादी है?

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay