एडवांस्ड सर्च

Advertisement

चाल चक्र: अपशब्द बोलने के योग कैसे बन जाते हैं?

चाल चक्र: अपशब्द बोलने के योग कैसे बन जाते हैं?
तेज ब्यूरोनई दिल्ली, 09 July 2019

चाल चक्र में आज हम आपको बताएंगे अपशब्द बोलने के योग कैसे बनते हैं. कुंडली का दूसरा, तीसरा और आठवां भाव वाणी से संबंध रखता है. इन भावों में अशुभ ग्रह होने से वाणी दूषित हो जाती है. वैसे वाणी को सबसे ज्यादा दूषित राहु और मंगल करते हैं. इनके प्रभाव से व्यक्ति अंट शंट बोलता है. शनि का प्रभाव होने से अपशब्द बोलने की आदत पड़ जाती है. बुध के दूषित होने पर भी व्यक्ति अपशब्द बोलता है. हालांकि ऐसी दशा में व्यक्ति अपशब्द हमेशा नहीं बोलता. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay