एडवांस्ड सर्च

Advertisement

चाल चक्र: क्या है गणेश चतुर्थी का त्योहार और विसर्जन की महिमा?

तेज ब्यूरोनई दिल्ली, 11 September 2019

चाल चक्र में आज हम आपको बताएंगे गणेश चतुर्थी के त्योहार और विसर्जन की महिमा के बारे में. भाद्रपद शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि से चतुर्दशी तिथि तक भगवान गणेश की उपासना के लिए गणेश चतुर्थी का पर्व मनाया जाता है. श्री गणेश प्रतिमा की स्थापना चतुर्थी को की जाती है और विसर्जन चतुर्दशी को किया जाता है. कुल मिलाकर ये नौ दिन गणेश नवरात्रि कहे जाते हैं. माना जाता है कि प्रतिमा का विसर्जन करने से भगवान पुनः कैलास पर्वत पर पहुंच जाते हैं. स्थापना से ज्यादा विसर्जन की महिमा होती है, इस दिन अनंत शुभ फल प्राप्त किए जा सकते हैं, अतः इस दिन को अनंत चतुर्दशी भी कहते हैं. कुछ विशेष उपाय करके इस दिन जीवन कि मुश्किल से मुश्किल समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है.  इस बार गणेश जी की मूर्ति का विसर्जन और अनंत चतुर्दशी 12 सितंबर को होगा. 

Lord Ganesha is associated with auspiciousness or Shubh. He is believed to be the remover of obstacles and the one who blesses his devotees with knowledge, good health, wealth, peace and prosperity. There are various legends associated with Shri Ganesha, who is also known as Vinayaka, Vighnaharta, Ganapati etc. Today, devotees of the son of Shiva and Parvati will celebrate Ganesh Chaturthi. It is believed that Ganesha was born on Chaturthi in the Hindu month of Bhadrapada during the Shukla Paksha. Hence, people celebrate the homecoming of Lord Ganesha, who brings wellness and goodness.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay