एडवांस्ड सर्च

Advertisement

चाल चक्र: गंगा दशहरा पर मिलेगा पुण्य

तेज ब्यूरो [Edited By: अमित रायकवार]नई दिल्ली, 11 June 2019

चाल चक्र में आज हम बात करेंगे गंगा दशहरा पर मिलने वाले पुण्य की. माना जाता है कि गंगा श्री विष्णु के चरणों में रहती थीं. भागीरथ की तपस्या से, शिव ने उन्हें अपनी जटाओं में धारण किया.  फिर शिव जी ने अपनी जटाओं को सात धाराओं में विभाजित कर दिया. ये धाराएं हैं - नलिनी, हृदिनी, पावनी, सीता, चक्षुष, सिंधु और भागीरथी.  भागीरथी ही गंगा हुईं और हिन्दू धर्म में मोक्षदायिनी मानी गईं.  इन्हें कहीं कहीं पर पार्वती की बहन कहा जाता है और भगवान शिव की अर्धांगिनी भी माना जाता है. शिव की जटाओं में इनका वास है.

Ganga Dussehra falls on the tenth day of the Shukla Paksha of Jyeshta month. Pleased with King Bhagirath penance, Mother Ganga descended to earth to purge the cursed souls of Bhagirathas ancestors on this day. Ganga Dussehra is celebrated to mark the arrival of river Gange on the Earth. Before descending on the Earth, Ganges was residing in the stoup of Lord Brahma. Hence, she has the purity of heaven. After descending on the Earth, the purity of heaven came along with her. Ganga Dussehra is celebrated in commemoration of the day when Goddess Ganga arrived on Earth. Usually, the festival is celebrated a day before the Nirjala Ekadashi.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay