एडवांस्ड सर्च

Advertisement

मैं भाग्य हूं: सांसारिक सुख की लालसा लक्ष्य में बाधक

तेज ब्यूरो[Edited By: पन्ना लाल]नई दिल्ली, 16 April 2019

कोई भी व्यक्ति जीवन में सफल तभी होता है जब वो लक्ष्य का निर्धारण करता है. बिना लक्ष्य साधे निशाना सही जगह नहीं लगता है, और व्यक्ति को असफलता ही हाथ लगती है. लोभ-लालच में आकर कई बार आदमी रास्ते से भटक जाता है, वह दर-दर की ठोकरें खाता है, कामयाबी उसके पास आते-आते रह जाती है. दरअसल सांसरिक सुख की लालसा उसके दुखों का कारण बन जाती है, लेकिन जो शख्स बिना लालच के कर्म करता है, सफलता उसे ही मिलती है.

A person succeeds in life only when he determines his goal. Without a target he can not achieve his goal and the person gets failure. Basically these kind of person are not stable with their views of life, so they roam from one place to another place. Indeed, the longing for worldly pleasures becomes the cause of his sorrows, but the person who does the work without greed, only gets success.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay