एडवांस्ड सर्च

Advertisement

मैं भाग्य हूं: संतोष से बड़ा कोई सुख नहीं

मैं भाग्य हूं: संतोष से बड़ा कोई सुख नहीं
aajtak.inनई दिल्ली, 08 October 2019

एक घर के पास बहुत दिनों से एक बड़ी इमारत का निर्माण कार्य चल रहा था. वहां रोज मजदूरों के छोटे बच्चे एक दूसरे की शर्ट पकड़कर रेल-रेल का खेल खेला करते. इस खेल में रोज कोई एक बच्चा इंजन बनता और बाकी बच्चे डिब्बे बनते थे. इंजन और डिब्बे वाले बच्चे रोज बदल जाते थे. इस पूरी कहानी और उससे क्या सीख मिलती है, यह जानने के लिए मैं भाग्य हूं देखिए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay