एडवांस्ड सर्च

Advertisement

मैं भाग्य हूं: अपने गुणों का ना करें अभिमान

तेज ब्यूरो [ Edited By: अजय भारतीय ]नई दिल्ली, 18 April 2019

कोई अपने जीवन में क्या हासिल करेगा, ये उसके बाहरी रंग रूप पर निर्भर नहीं करता बल्कि इस बात पर निर्भर करता है कि उसके अंदर क्या है. हमारा व्यवहार ही हमारा जीवन निर्माण करता है. हमारा व्यवहार वो है, जिससे हमें जीवन जीने की शक्ति मिलती है. अगर हम संतुष्ट हैं तो हम खुश भी रहेंगे. अगर हम हमेशा अतिरिक्त और हमेशा अपने आप को कमजोर समझते रहेंगे. तो हम हमेशा दुखी ही रहेंगे. अपने आपको कभी प्रसन्न महसूस नहीं करेंगे. इसलिए आप अपने रंग, रूप और आकार को लेकर मन में आने वाले नकारात्मक विचारों को पीछे छोड़कर अपने गुणों और अपनी शक्तियों पर ध्यान दीजिए. और इससे भी महत्वपूर्ण बात ये है कि अगर भगवान ने आपको दूसरों से सुंदर उनसे अधिक बुद्धिमान या सफल बनाया है तो इस बात पर अहंकार मत कीजिए. अन्यथा आपका अहंकार आपके गुणों को हमेशा ढक देगा.

What someone will achieve in his life, does not depend on his outer appearance, depending on what is inside him. Our behavior creates our life. Our behavior is that, which gives us the power to live life. If we are satisfied then we will be happy too. If we always feel weaker. So we will always be unhappy. Never feel pleased with all. So, after leaving your negative thoughts in mind about your color, shape, and shape, pay attention to your qualities and your powers. And more importantly, do not ego on this matter if God has made you more intelligent than others or wiser than them. Otherwise, your ego will always cover your Qualities.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay