एडवांस्ड सर्च

Advertisement

...तो इसलिए सुंदर तन से ज्यादा जरूरी है सुंदर मन

तेज ब्यूरो [Edited by: सना जैदी]नई दिल्ली, 01 September 2018

 व्यक्ति के कर्मों के आधार पर ही भाग्य निर्धारित होता है. किसी व्यक्ति की पहचान उसके बाहरी रंग-रूप से नहीं बल्कि उसके मन और कर्म से करनी चाहिए. सुनिए इसी विषय से जुड़ी दिलचस्प कहानी और साथ ही जानिए अपना राशिफल.

Nature and character is more better than physical beauty

Fate is determined only on the basis of the deeds of the person. The beauty of a person should not be messure by appearance, but his activity and deeds. Nature and character is more better than physical beauty.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay