एडवांस्ड सर्च

Advertisement

मैं भाग्य हूं: 'कर्म' है 'भाग्य' का विधाता

तेज ब्यूरोनई दिल्ली, 05 September 2019

मैं भाग्य हूं...  मैं आपको हर रोज बताता हूं कि इस बात पर भरोसा मत कीजिए कि आपका भाग्य ईश्वर ने लिखा है. बल्कि आप इस बात पर भरोसा कीजिए कि अपना भाग्य, अपना मुकद्दर आप खुद रचते हैं. हम अक्सर सुनते हैं कि हमें अपने दिल की सुननी चाहिए. जिस काम में मन लगे वो करना चाहिए अपने जुनून का पीछा करना चाहिए. उसी को अपना करियर और अपनी जिदंगी बनाना चाहिए. ये बातें बिल्कुल सही हैं. मैं भी अपनी बातों में इन्हीं बिंदुओं पर जोर देता हूं. लेकिन मेरे बार-बार कहने के बावजूद ज्यादातर लोग ऐसा नहीं करते.

Several times in Main Bhagya Hoon, we have told you that your future depends on the actions you perform. We have always told you to follow your passion, to do what you like. But, even after telling it for several times, people do not do that. So, in this episode of Main Bhagya Hoon, we will tell you why it is important to follow your passion and dream. Watch video.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay