एडवांस्ड सर्च

Advertisement

एंकर्स चैटः माया-अखिलेश पर भारी, योगी-मोदी की यारी?

एंकर्स चैटः माया-अखिलेश पर भारी, योगी-मोदी की यारी?
रोहित सरदाना [Edited by: वरुण शैलेश]नई दिल्ली, 15 January 2019

लोकसभा चुनाव के मद्देनजर बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी ने गठबंधन का ऐलान किया है. सपा-बसपा उत्तर प्रदेश की 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी. इस बीच राष्ट्रीय जनता दल के नेता और लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी यादव ने मायावती से रविवार देर रात मुलाकात कर उन्हें जन्मदिन की बधाई दी. तेजस्वी यादव ने सोमवार को अखिलेश यादव से भी मुलाकात किया. मायावती और अखिलेश यादव से तेजस्वी यादव की मुलाकात सिर्प औपचारिक नहीं है. इस मुलाकात के पीछे तीनों राजनीतिक दलों का एक मकसद भी छिपा हुआ है. सपा-बसपा गठबंधन के जरिये आरजेडी उत्तर प्रदेश में प्रवेश करना चाहती है. अखिलेश और मायावती की नजर भी बिहार पर है. लेकिन सवाल है कि क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुकाबले के लिए सभी विपक्षी दल एकजुट हो रहे हैं. आज का एंकर्स चैट इसी विषय पर है.

In view of the Lok Sabha elections 2019, Bahujan Samaj Party and Samajwadi Party have declared the alliance. SP-BSP will fight in Uttar Pradesh on 38-38 seats. Meanwhile, the leader of the Rashtriya Janata Dal and Lalu Prasad Yadav son Tejaswi Yadav, greeted Mayawati on Sunday night and congratulated her on birthday. Tejaswi Yadav also met with Akhilesh Yadav on Monday. Meetings with Mayawati and Akhilesh Yadav are not just formal. Behind this meeting, one motive of the three political parties is also hidden. Through the SP-BSP alliance, RJD wants to enter Uttar Pradesh parliamentary elections. The eyes of Akhilesh and Mayawati are also on Bihar. But the question is whether all opposition parties are uniting against Prime Minister Narendra Modi. Today Anchor Chats is on this topic.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay