एडवांस्ड सर्च

Advertisement

हॉर्वर्ड से पढ़े हैं चिदंबरम, इतने लाख फीस, इसलिए ज्वाॅइन की कांग्रेस

aajtak.in
22 August 2019
हॉर्वर्ड से पढ़े हैं चिदंबरम, इतने लाख फीस, इसलिए ज्वाॅइन की कांग्रेस
1/7
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2014 में पूर्व वित्त मंत्री पलानीअप्पन चिदंबरम यानी पी चिदंबरम पर यह कहकर निशाना साधा था कि अर्थव्यवस्था को चलाने के लिए हॉर्वर्ड नहीं हार्ड वर्क की जरूरत है. उस दौरान इस मुद्दे ने काफी तूल पकड़ा था. लोगों ने कहा था कि कांग्रेस के ज्यादातर नेता हॉवर्ड से पढ़े हैं. हॉर्वर्ड  विश्वविद्यालय से पढ़े पी चिदंबरम नौ बार देश का बजट बना चुके हैं. तमिलनाडु के एक गांव से राजनीति का सितारा बनने का उनका पूरा सफर काफी रोचक रहा है. कांग्रेस में पहली पंक्ति के नेताओं में शामिल पी चिदंबरम से जुड़ी पूरी जानकारियां यहां पढ़ें.
हॉर्वर्ड से पढ़े हैं चिदंबरम, इतने लाख फीस, इसलिए ज्वाॅइन की कांग्रेस
2/7
चिदंबरम का जन्म 16 सितंबर 1945 को तमिलनाडु के एक छोटे से गांव कनाडुकथन में हुआ था. उनकी शुरुआती पढ़ाई मद्रास क्रिश्चियन सेकेंडरी स्कूल चेन्नई से हुई. फिर चेन्नई से ही प्रेसिडेंसी कॉलेज से विज्ञान में स्नातक की डिग्री ली. इसके बाद मद्रास यूनिवर्सिटी से एलएलबी करने के बाद बोस्टन में हॉर्वर्ड यूनिवर्सिटी से बिजनेस मैनेजमेंट में परास्नातक किया.
हॉर्वर्ड से पढ़े हैं चिदंबरम, इतने लाख फीस, इसलिए ज्वाॅइन की कांग्रेस
3/7
कहा जाता है कि राजीव गांधी से निकटता के कारण उन्होंने 1972 में भारतीय कांग्रेस कमेटी की सदस्यता ग्रहण की. उधर दूसरी तरफ वो जाने माने वकील भी रहे हैं. एक वकील के तौर पर उन्होंने कई बड़े केस लड़े हैं.
हॉर्वर्ड से पढ़े हैं चिदंबरम, इतने लाख फीस, इसलिए ज्वाॅइन की कांग्रेस
4/7
पी चिदंबरम ने पढ़ाई पूरी करने के बाद अपने साथी एन राम (जो बाद में द हिंदू के संपादक बने) और महि‍ला मुद्दों पर काम कर रहीं मैथिली सिवारमन के साथ रैडिकल रिव्यू नाम से जर्नल शुरू किया. ये एक तरह से उनके पॉलिटिकल करियर की शुरुआत थी. बता दें कि उनके पिता टेक्सटाइल्स ट्रेडिंग और प्लांटेशंस के बिजनेस में थे, जिसमें पी चिदंबरम आसानी से कमान संभाल सकते थे, लेकिन उन्होंने वकालत को अपना पेशा बनाया.
हॉर्वर्ड से पढ़े हैं चिदंबरम, इतने लाख फीस, इसलिए ज्वाॅइन की कांग्रेस
5/7
साल 1984 में सीनियर एडवोकेट बनकर मद्रास हाईकोर्ट में प्रैक्टिस शुरू कर दी थी. वकील के तौर पर उनकी ख्याति ये थी कि वो दिल्ली और चेन्नई के अलावा भारत के विभिन्न उच्च न्यायालयों में प्रैक्टिस करते थे. जानकारी के मुताबिक वो सुप्रीम कोर्ट में एक सुनवाई का छह से सात लाख रुपये लेते थे, वहीं दिल्ली हाईकोर्ट या अन्य हाईकोर्ट में ये फीस 7 से 15 लाख रुपये प्रति सुनवाई रही है.
हॉर्वर्ड से पढ़े हैं चिदंबरम, इतने लाख फीस, इसलिए ज्वाॅइन की कांग्रेस
6/7
पहली बार साल 1984 में पी चिदंबरम ने तमिलनाडु के शिवगंगा निर्वाचन क्षेत्र से लोकसभा चुनाव लड़ा और उसमें जीते भी. इस तरह वो सक्रिय राजनीति में आ गए. फिर इसी सीट से वो छह बार चुनाव जीते.
हॉर्वर्ड से पढ़े हैं चिदंबरम, इतने लाख फीस, इसलिए ज्वाॅइन की कांग्रेस
7/7
इन्होंने भी की हॉर्वर्ड से पढ़ाई

हावर्ड से पढ़ाई करने वालों में पी चिदंबरम अकेले नहीं है. कांग्रेस के अलावा बीजेपी में भी ऐसे कई नेता हैं जो हॉर्वर्ड से पढ़े हैं. कांग्रेस में हॉर्वर्ड से पढ़ने वालों में कपिल सिब्बल और ज्योतिरादित्य सिंधिया जैसे नाम हैं तो भाजपा में सुब्रमण्यम स्वामी और जयंत सिन्हा जैसे नेता भी हॉर्वर्ड यूनिवर्सिटी से डिग्री ले चुके हैं.
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay