एडवांस्ड सर्च

Advertisement
Sahitya Aajtak 2018

गे, लेस्बियन होना है बीमारी? जानें समलैंगिकता से जुड़े सवालों के जवाब

aajtak.in [Edited By: मोहित पारीक]
09 September 2018
गे, लेस्बियन होना है बीमारी? जानें समलैंगिकता से जुड़े सवालों के जवाब
1/7
हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने धारा 377 को खत्म कर दिया है. समलैंगिक संबंधों को अपराध की श्रेणी से बाहर करने से एलजीबीटीक्यू समुदाय के उन लोगों को बड़ी राहत मिली है, जो समाज की उपेक्षाएं झेलते रहे हैं. कुछ वर्ग समलैंगिकता को मनोविकार या बीमारी की श्रेणी में रखने को लेकर बहस करते हुए भी नजर आते हैं. आइए जानते हैं समलैंगिकता से जुड़े उन सवालों के जवाब, जो हर कोई जानना चाहता है.
गे, लेस्बियन होना है बीमारी? जानें समलैंगिकता से जुड़े सवालों के जवाब
2/7
इंडियन साइकेट्रिक सोसायटी और इंडियन साइकेट्रिक एसोसिएशन जैसे संगठनों ने भी फैसले का स्वागत करते हुए कहा है कि अब समलैंगिकता को अपराध की दृष्टि से देखना बंद होना चाहिए. मनोचिकित्सक और फोर्टिस हेल्थकेयर में मानसिक स्वास्थ्य एवं व्यवहार विज्ञान विभाग के निदेशक डॉ समीर पारिख ने समाचार एजेंसी भाषा को उन सवालों के जवाब दिए हैं, जो हर आम आदमी पूछता है.
गे, लेस्बियन होना है बीमारी? जानें समलैंगिकता से जुड़े सवालों के जवाब
3/7
सवाल: देश में मनोचिकित्सकों की नजर में समलैंगिकता क्या है?
जवाब: समलैंगिकता कोई विकार या बीमारी नहीं है, जिसके लिए मनोवैज्ञानिक उपचार की जरूरत हो. हम इसे कभी मानसिक समस्या नहीं मानते. यह यौन प्रवृत्ति है जो पूरी तरह जैविक है. यह विपरीत लिंगी लोगों के साथ संबंधों की तरह ही मानवीय यौन प्रवृत्ति का एक स्वरूप है.
गे, लेस्बियन होना है बीमारी? जानें समलैंगिकता से जुड़े सवालों के जवाब
4/7
सवाल: क्या समलैंगिकता की ओर झुकाव रखने वाले लोगों के लिए 'कन्वर्जन थैरेपी' या यौन संबंधों की प्रवृत्ति बदलने की जरूरत है?
उत्तर : समलैंगिकता कोई विकार है ही नहीं, तो इसमें किसी तरह के उपचार या थैरेपी की भी जरूरत नहीं है.
गे, लेस्बियन होना है बीमारी? जानें समलैंगिकता से जुड़े सवालों के जवाब
5/7
सवाल: क्या एलजीबीटीक्यू समुदाय के लोग आपके पास आते रहे हैं और उनके प्रति समाज के बर्ताव को लेकर आपके क्या अनुभव हैं?
उत्तर : इस समुदाय के लोग अक्सर हमारे पास आते हैं, जो सामाजिक भेदभाव और अलगाव के कारण अत्यंत अवसाद से घिरे होते हैं. हमें लगता है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद समलैंगिकता को अपराध की श्रेणी से बाहर करने से यह भेदभाव समाप्त होगा.
गे, लेस्बियन होना है बीमारी? जानें समलैंगिकता से जुड़े सवालों के जवाब
6/7
सवाल: आगे मनोचिकित्सकों को एलजीबीटीक्यू समुदाय के लिए क्या करना चाहिए?
जवाब: मानसिक स्वास्थ्य के क्षेत्र में काम करने के नाते हम एलजीबीटीक्यू समुदाय को गरिमापूर्ण जीवन जीने में मदद देने के लिए अपनी भूमिका निभाएंगे. चिकित्सक होने के नाते हम इस समुदाय के लोगों की जरूरत को लेकर सहानुभूतिपूर्ण रवैया रख सकते हैं.
गे, लेस्बियन होना है बीमारी? जानें समलैंगिकता से जुड़े सवालों के जवाब
7/7
सवाल: आम लोगों में इस समुदाय के प्रति धारणा बदलने के लिए क्या प्रयास होने चाहिए?
जवाब: समाज में समलैंगिकता को स्वीकार्य बनाना और लोगों को संवेदनशील बनाना समय की जरूरत है. जिम्मेदार नागरिक के रूप में हमें जागरुकता अभियान चलाने चाहिए ताकि इस तरह का भेदभाव समाप्त हो.
Advertisement
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay