एडवांस्ड सर्च

Advertisement
FIFA World Cup 2018

आजादी के जश्‍न में शामिल नहीं थे महात्‍मा गांधी, देखें RARE PHOTOS

12 August 2017
आजादी के जश्‍न में शामिल नहीं थे महात्‍मा गांधी, देखें RARE PHOTOS
1/7
बच्‍चों को यही पढ़ाया जाता है कि आजादी की लड़ाई में सबसे अहम योगदान महात्मा गांधी का था. पर शायद ही आपको पता हो कि जब देश आज़ाद घोषित किया गया, उस समय गांधी दिल्‍ली में नहीं थे.
आजादी के जश्‍न में शामिल नहीं थे महात्‍मा गांधी, देखें RARE PHOTOS
2/7
महात्‍मा गांधी 15 अगस्‍त 1947 को बंगाल के नोआखली में थे. वहां पर वे हिंदू-मुसलमानों के बीच सांप्रदायिक हिंसा को रोकने के लिए अनशन कर रहे थे.
आजादी के जश्‍न में शामिल नहीं थे महात्‍मा गांधी, देखें RARE PHOTOS
3/7
नेहरू और पटेल ने गांधी को ख़त भेजकर बताया था कि 15 अगस्त को देश का पहला स्वाधीनता दिवस मनाया जाएगा. पर गांधी फिर भी नहीं आए.
आजादी के जश्‍न में शामिल नहीं थे महात्‍मा गांधी, देखें RARE PHOTOS
4/7
उन्‍होंने खत के जरिए कहा था, जब हिंदु-मुस्लिम एक-दूसरे की जान ले रहे हैं, ऐसे में मैं जश्न मनाने के लिए कैसे आ सकता हूं'.
आजादी के जश्‍न में शामिल नहीं थे महात्‍मा गांधी, देखें RARE PHOTOS
5/7
नेहरू ने ऐतिहासिक भाषण 'ट्रिस्ट विद डेस्टनी' दिया था. ये भाषण उन्‍होंने 14 अगस्त की मध्यरात्रि को वायसराय लॉज यानी आज का राष्ट्रपति भवन, से दिया था.
आजादी के जश्‍न में शामिल नहीं थे महात्‍मा गांधी, देखें RARE PHOTOS
6/7
हर स्वतंत्रता दिवस पर भारतीय प्रधानमंत्री, लाल किले से झंडा फहराते हैं. पर 15 अगस्त 1947 को ऐसा नहीं हुआ था. लोकसभा सचिवालय के एक शोध पत्र के अनुसार, नेहरू ने 16 अगस्त 1947 को लाल किले से झंडा फहराया था.
आजादी के जश्‍न में शामिल नहीं थे महात्‍मा गांधी, देखें RARE PHOTOS
7/7
भारत 15 अगस्त को आज़ाद जरूर हो गया, लेकिन उसका अपना कोई राष्ट्रगान नहीं था. रवींद्रनाथ टैगोर के जन-गण-मन को 1950 में राष्‍ट्रगान बनाया गया. हालांकि टैगोर इसे 1911 में ही लिख चुके थे.
Advertisement
NEXT PHOTO GALLERY
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay