एडवांस्ड सर्च

Advertisement

DUSU में ABVP के 'बॉडी बिल्डर' के सामने NSUI-AISA की लड़कियां

मानसी मिश्रा
05 September 2019
DUSU में ABVP के 'बॉडी बिल्डर' के सामने NSUI-AISA की लड़कियां
1/7
इन दिनों दिल्ली विश्वविद्यालय छात्रसंघ (DUSU) चुनाव की प्रक्रिया जारी है. पूरे कैंपस में चुनावी माहौल है, हर तरफ चुनावी चर्चाओं का दौर है. इसी क्रम में गुरुवार को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) और नेशनल स्टूडेंट यूनियन ऑफ इंडिया (NSUI) और ऑल इंडिया स्टूडेंट एसोसिएशन (AISA) का चुनावी पैनल घोषित हो चुका है. एबीवीपी ने जहां इस बार अध्यक्ष पद पर एक बॉडी बिल्डर को उतारा है, वहीं एनएसयूआई और आइसा ने अध्यक्ष पद पर महिला उम्मीदवार को उतारा है.

फोटो: NSUI, ABVP और AISA उम्मीदवार, बायें से दायें
DUSU में ABVP के 'बॉडी बिल्डर' के सामने NSUI-AISA की लड़कियां
2/7
बॉडी बिल्डर है एबीवीपी से अध्यक्ष पद के उम्मीदवार
एबीवीपी ने डूसू में अध्यक्ष पद पर अक्षित दहिया, उपाध्यक्ष पद पर प्रदीप तंवर, सचिव पद पर योगित राठी और सह-सचिव पद पर शिवांगी खरवाल के नामों की घोषणा की है. इन‌ प्रत्याशियों से संबंधित संक्षिप्त जानकारी ये है2016-2019 रामजस कॉलेज से बीएससी फिजिकल साइंस में स्नातक दिल्ली विश्वविद्यालय से बॉडी बिल्डिंग में सिल्वर मेडल लिया. वर्तमान में फैकल्टी ऑफ लॉ प्रथम वर्ष के छात्र हैं. (फोटो  अक्षित दहिया)
DUSU में ABVP के 'बॉडी बिल्डर' के सामने NSUI-AISA की लड़कियां
3/7
वहीं एबीवीपी से उपाध्यक्ष पद पर प्रदीप तंवर (2015-2018) पीजीडीएवी कॉलेज से बीए प्रोग्राम स्नातक किया है. वो वर्तमान में देशबंधु कॉलेज से एमए हिंदी प्रथम वर्ष के छात्र हैं. सचिव पद पर योगित राठी (2014-2017) को उतारा है. वो रामजस कॉलेज से बीए ( ऑनर्स ) हिस्ट्री में स्नातक हैं. इसके अलावा 2016-2017 में वो रामजस कॉलेज से छात्रसंघ अध्यक्ष रहे हैं. वर्तमान में फैकल्टी ऑफ लॉ से एलएलबी तृतीय वर्ष के छात्र हैं. एबीवीपी ने सह सचिव पद पर छात्रा शिवांगी खरवाल  को उतारा है. शिवांगी (2016-2019) श्यामा प्रसाद मुखर्जी कॉलेज से बीए प्रोग्राम में स्नातक कर चुकी हैं. वो वर्तमान में एमए बुद्धिस्ट प्रथम वर्ष की छात्रा हैं. उनके पास अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद में राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य का दायित्व रहा है.

फोटो: एबीवीपी पैनल
DUSU में ABVP के 'बॉडी बिल्डर' के सामने NSUI-AISA की लड़कियां
4/7
AISA से प्रेसीडेंट पोस्ट पर हैं टॉपर दामिनी

AISA ने भी प्रेसीडेंट पद पर हिंदू कॉलेज की छात्रा दामिनी काइन को मैदान में उतारा है. दामिनी जीसस एंड मैरी कॉलेज में स्नातक के दौरान टॉपर रही हैं. इसके साथ ही वो जामिया मिलिया इस्लामिया में अपने मास्टर के प्रवेश और राजनीति विज्ञान के लिए दिल्ली विश्वविद्यालय एमए के प्रवेश में अव्वल थीं. कैंपस में व उसके बाहर सामाजिक न्याय से जुड़े आंदोलनों में वह सबसे आगे रही हैं.

उपाध्यक्ष पद पर आफताब आलम हैं जो  देशबंधु कॉलेज से स्नातक हैं और वर्तमान में बौद्ध अध्ययन के छात्र हैं. इसके अलावा सचिव पद के लिए विकास कुमार को चुना गया है जो हंसराज कॉलेज के छात्र हैं. आफताब ने देशबंधु कॉलेज से स्नातक किया और अपने परिसर में विभिन्न आंदोलनों का नेतृत्व किया. विकास ने अपनी स्नातक की पढ़ाई दयाल सिंह कॉलेज से की है और एमए हिंदी में हंसराज कॉलेज में प्रवेश लिया. वह पिछले तीन सालों से AISA नेता हैं और DU में AISA का प्रमुख चेहरा हैं. वह सस्ती परिवहन के लिए आंदोलन में सबसे आगे रहे है जिसने एसी बसों में बस पास की मान्यता सुनिश्चित की.

ज्वाइंट सेक्रेटरी पद पर चेतना को उतारा गया है जो मिरांडा हाउस कॉलेज की प्रथम वर्ष की छात्रा हैं और आइसा की सबसे कम उम्र की सदस्य हैं. वो राजस्थान के सिरोही जिले से हैं और अपने गांव की पहली महिला हैं जो स्नातक की पढ़ाई के लिए दिल्ली आईं. आईसा दिल्ली की अध्यक्ष कवलप्रीत कौर ने कहा कि इस डूसू चुनाव में हमें छात्रों का भारी समर्थन मिल रहा है.

फोटो: दामिनी
DUSU में ABVP के 'बॉडी बिल्डर' के सामने NSUI-AISA की लड़कियां
5/7
NSUI से अध्यक्ष पद पर मुकाबला करेगी ये छात्रा

एनएसयूआई की अध्यक्ष पद की उम्मीदवार चेतना त्यागी पूर्व सेन्ट्रल काउंसलर व डूसू एक्सीक्यूटिव काउंसलर भी रही है. चेतना ने गुरुवार को कहा कि एनएसयूआई ने ऐसे समय में मुझे डीयू की महिलाओं का नेतृत्व करने का मौक़ा दिया है जब भाजपा दुष्कर्म करने वालों की रक्षा कर रही है और आरएसएस कुशासन को बढ़ावा दे रहा है. ऐसे में महिलाओं की सुरक्षा, सम्मान और सशक्तिकरण के लिए कार्य करूंगी.

नामांकन के बाद सभी उम्मीदवारों ने अपने समर्थकों के साथ आर्टस फैकल्टी में छात्रों का अभिवादन स्वीकार किया. NSUI ने अपने पैनल के बारे मे बताते हुए कहा कि हमारा पैनल जमीन से संबंध रखने वाले छात्रों का नेतृत्व कर रहा है. इसमें सभी उम्मीदवार मध्यम व ग्रामीण परिवेश से संबंध रखते हैं. प्रेस कांफ्रेंस मे सभी उम्मीदवारों ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि हमारी सबसे पहली प्राथमिकता छात्रों के मुददों पर काम करने की रहेगी न कि राष्ट्रीय मुददों पर बात करके छात्रों के मुददों को भटकाने की. हम सबसे पहले विकलांग छात्रों व कैंपस मे समानता लाने पर जोर देगें. राष्ट्रीय अध्यक्ष नीरज कुंदन ने कहा कि NSUI हमेशा से ही छात्रों के साथ रही है और छात्र हितों की लड़ाई लड़ती आई है. इसी कारण आज दिल्ली विश्वविद्यालय को सर्वश्रेष्ठ संस्थान का दर्जा और 1000 करोड़ रूपये का अधिक धन भी मिला. संगठन के संघर्ष के कारण ही दिल्ली मेट्रो ने वादा किया कि 2020 तक दिल्ली मेट्रो का किराया नही बढ़ने देगें.

फोटो: चेतना त्यागी
DUSU में ABVP के 'बॉडी बिल्डर' के सामने NSUI-AISA की लड़कियां
6/7
बाकी पदों पर दलित, किसान और इंटरनेशनल खिलाड़ी

एनएसयूआई से उपाध्यक्ष पद पर दलित, सचिव पद पर इंटरनेशनल खिलाड़ी और सह सचिव प्रत्याशी के तौर पर किसान पुत्र मुकाबला कर रहे हैं. वहीं एनएसयूआई से उपाध्यक्ष पद के उम्मीदवार अंकित भारती दलित समुदाय के छात्र हैं. उन्होंने कहा कि वो दिल्ली विश्वविद्यालय में SC, ST छात्रों के साथ होने वाले भेदभाव और समस्याओं को उठाएंगे और लॉ फैकल्टी के दलित छात्रों को न्याय दिलवाने के लिये लड़ेंगे.


DUSU में ABVP के 'बॉडी बिल्डर' के सामने NSUI-AISA की लड़कियां
7/7
एनएसयूआई पैनल से आशीष हैं इंटरनेशनल खिलाड़ी

सचिव पद के उम्मीदवार आशीष लांबा अंतिम वर्ष कानून के छात्र और अंतरराष्ट्रीय हॉकी खिलाड़ी हैं. उन्होंने कहा कि मेरी प्राथमिकता डीयू में आने वाले खिलाड़ियों और आम स्टूडेंट्स की परेशानियों का समाधान करने पर रहेगी. वहीं
संयुक्त सचिव पद के उम्मीदवार अभिषेक चपराना एक साधारण किसान के बेटे हैं. उनका कहना है कि मैं साउथ कैंपस व आउट आफॅ कैंपस के छात्रों को हास्टल दिलवाने के लिये लडूंगा. NSUI सभी भारतीय युवाओं के लिए समान शैक्षिक अवसर के लिए प्रतिबद्ध है. हमारा DUSU पैनल महिला सशक्तिकरण, सामाजिक न्याय और वर्ग व जाति में समान अवसर को लेकर प्रतिबद्धता के प्रति भी चिंतनशील है.

फोटो: आशीष
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay