एडवांस्ड सर्च

Advertisement

दुती चंद: बाजार में नीचे गिरी सब्जियां लेकर आते थे घर, तब बनता था खाना

aajtak.in
01 November 2019
दुती चंद: बाजार में नीचे गिरी सब्जियां लेकर आते थे घर, तब बनता था खाना
1/10
भारत की शीर्ष महिला धावक दुती चंद आज कौन बनेगा करोड़पति के एपिसोड में हॉट सीट पर बैठी नजर आएंगी. जहां उन्होंने अपने जीवन के बारे में बताया. कैसे खाना न होने पर बाजार में नीचे गिरी हुई सब्जियां बैग में भरकर लेकर आते थे. आइए जानते हैं उनके बारे में.
दुती चंद: बाजार में नीचे गिरी सब्जियां लेकर आते थे घर, तब बनता था खाना
2/10
दुती ओडिशा के जाजपुर जिले के चाका गोपालपुर गांव की रहने वाली हैं. उनका जन्म 3 फरवरी 1996 (वर्तमान 23) में हुआ था. खेल करियर के शुरुआती दौर में उन्हें कई संघर्षों का सामना करना पड़ा था.
दुती चंद: बाजार में नीचे गिरी सब्जियां लेकर आते थे घर, तब बनता था खाना
3/10
एक वक्त जब उन्हें 2014 में एशियन गेम्स में भाग लेने से रोक दिया गया था. अंतरराष्ट्रीय एथलेटिक्स संघ ने इसके लिए जेंडर प्रॉब्लम को जिम्मेदार बताया था. उनके शरीर में टेस्टोस्टेरोन (पुरुष हारमोन का स्तर) का लेवल आम लड़कियों से ज्यादा पाया गया था.  जिसके बाद उनपर आरोप लगने लगे कि वह लड़की नहीं लड़का है. जिसके बाद दुती चंद ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया. बाद में फैसला उनके पक्ष में आया था. फिर उन्हें अपना करियर बनाने की आजादी मिली थी.
दुती चंद: बाजार में नीचे गिरी सब्जियां लेकर आते थे घर, तब बनता था खाना
4/10
कैसे बीता था बचपन

दुती का पूरा बचपन गांव में बीता. यहीं से उन्होंने भागना दौड़ना शुरू किया था. दुती ने बताया जब वह दौड़ लगाती थी तो बहुत लोगों ने उन्हें क्रिटिसाइज  किया. सब कहते थे कि एक लड़की होते हुए इतना क्यों दौड़ रही हो. दुती एक परिवार से ताल्लुक रखती थी.
दुती चंद: बाजार में नीचे गिरी सब्जियां लेकर आते थे घर, तब बनता था खाना
5/10
उन्होंने बताया घर में खाने के लिए कुछ नहीं होता था. हमारे घर के पास एक छोटा सा बाजार है. वहां पर जो सब्जियां नीचे गिर जाती थीं तो उसे बैग में भरकर लेकर आते थे.
दुती चंद: बाजार में नीचे गिरी सब्जियां लेकर आते थे घर, तब बनता था खाना
6/10
दुती चंद के परिवार में 9 सदस्य हैं. 6 बहनें, 1 भाई और माता- पिता. उनके पिता की कमाई से ही घर का लालन पालन होता था. उनके पिता कपड़ा बनाने का काम करते थे.
दुती चंद: बाजार में नीचे गिरी सब्जियां लेकर आते थे घर, तब बनता था खाना
7/10
उन्होंने बताया जब मैंने भागने की शुरुआत की थी तो उस वक्त काफी मुश्किलें होती थीं. क्योंकि गांव में कोई ऐसी जगह नहीं है जहां पर भागा जा सके. आजकल शहरों में भागने के लिए ग्राउंड और पार्क हैं.
दुती चंद: बाजार में नीचे गिरी सब्जियां लेकर आते थे घर, तब बनता था खाना
8/10
लेकिन मेरे गांव में ऐसा कुछ नहीं था. ऐसे में मैं नदी के किनारे भागा करती थी. सड़क पर नंगे पांव भागा करती थी. जब ठंड का मौसम होता था उस समय मेरे पास गर्म स्वेटर भी नहीं होता था. ऐसे में एक फ्रॉक पहनकर भागती थी. मेरा बस एक मकसद था कि मुझे अच्छा भागना है.
दुती चंद: बाजार में नीचे गिरी सब्जियां लेकर आते थे घर, तब बनता था खाना
9/10
23 वर्षीय दुती चंद उस समय चर्चा का विषय बनीं जब उन्होंने खुलकर माना है कि वह समलैंगिक हैं.

दुती चंद: बाजार में नीचे गिरी सब्जियां लेकर आते थे घर, तब बनता था खाना
10/10
दुती ने खुलासा किया था कि उनके पिछले 3 साल से एक लड़की के साथ संबंध हैं और पिछले साल सितंबर में समलैंगिकता के मुद्दे पर आए सर्वोच्च न्यायालय के फैसले ने उन्हें भरोसा दिलाया कि वे गलत नहीं हैं. उन्होंने बताया  हमने निर्णय लिया कि हम शादी करेंगे और खुद का एक छोटा सा परिवार बसाएंगे.'


(सभी तस्वीरें इंस्टाग्राम)


Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay