एडवांस्ड सर्च

Advertisement

जलियांवाला कांड: कुएं से निकली थीं लाशें, जिंदा हैं दरिंदगी के निशान

aajtak.in [Edited by: प्रियंका शर्मा ]
13 April 2019
जलियांवाला कांड: कुएं से निकली थीं लाशें, जिंदा हैं दरिंदगी के निशान
1/12
अमृतसर के जलियांवाला बाग के नरसंहार कांड के आज 100 साल पूरे हो गए हैं. ये वही दिन था जब हजारों मासूमों की जान एक झटके में चली गई थी.
जलियांवाला कांड: कुएं से निकली थीं लाशें, जिंदा हैं दरिंदगी के निशान
2/12
जलियांवाला बाग नरसंहार कांड बैसाखी के (13 अप्रैल 1919)  दिन हुआ था. पंजाब समेत देश के अलग-अलग हिस्सों से लोग अमृतसर पहुंचे थे. वहीं इस दिन दो लोकप्रिय नेताओं की गिरफ्तारी और रॉलेट एक्ट का विरोध करने के लिए एक सभा हो रही थी.
जलियांवाला कांड: कुएं से निकली थीं लाशें, जिंदा हैं दरिंदगी के निशान
3/12
बैसाखी का दिन था ऐसे में लोग गोल्डन टेंपल में दर्शन के बाद धीरे-धीरे लोग जलियांवाला बाग में जुटने लगे. कुछ वक्त में हजारों की भीड़ इकट्ठा हो चुकी थी.

जलियांवाला कांड: कुएं से निकली थीं लाशें, जिंदा हैं दरिंदगी के निशान
4/12
ब्रिगेडियर जनरल डायर को मालूम चला कि बाग में कोई मीटिंग हो रही है. ऐसे में गुस्साए जनरल डायर जलियांवाला बाग की तरफ पुलिस के साथ बढ़ चला.
जलियांवाला कांड: कुएं से निकली थीं लाशें, जिंदा हैं दरिंदगी के निशान
5/12
जलियांवाला बाग के गेट का वो सकरा रास्ता पुलिस के सिपाहियों से भर चुका था. जनरल डायर ने बिना किसी वॉर्निंग के सिर्फ एक शब्द "FIRE" कहा और एक झटके में हजारों जिंदगियां खत्म हो गई.


जलियांवाला कांड: कुएं से निकली थीं लाशें, जिंदा हैं दरिंदगी के निशान
6/12
जब कुएं में कूदे लोग
गोलियों में बचने के लिए लोग बाग में मौजूद कुएं में भी कूदे. बताया जाता है कि कुएं से  120 लाशें निकाली गई थी. जिसमें बच्चे, बुढ़े, महिलाएं, पुरुष शामिल थे.


बता दें, कुछ लोगों ने दीवारों पर चढ़कर बाग से बचकर निकलने की कोशिश की थी, लेकिन वह सभी गोलियों से बच नहीं सके. भले ही आज हत्याकांड को 100 साल पूरे गए हो. वहीं  दीवारों दिखाई देने गोलियों के निशान दरिंदगी की कहानी बयां कर रहे हैं.

जलियांवाला बाग में मौजूद कुआं (फोटो-आजतक)



जलियांवाला कांड: कुएं से निकली थीं लाशें, जिंदा हैं दरिंदगी के निशान
7/12
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार करीब दस मिनट में 1650 राउंड गोलियां चलाने के बाद जनरल डायर इसलिए रुक गया था क्योंकि उसके सैनिकों की गोलियां खत्म हो गई थीं.


कुएं के बगल में लगी स्मारिका (फोटो-आजतक)
जलियांवाला कांड: कुएं से निकली थीं लाशें, जिंदा हैं दरिंदगी के निशान
8/12
कैसे हुई जनरल डायर की मौत

इस हत्याकांड के सबसे बड़े गुनहगार थे ब्रिगेडियर जनरल रेजीनॉल्ड डायर और लेफ़्टिनेंट गवर्नर माइकल ओ डायर. 1927 में बीमारी की वजह से रेजीनॉल्ड डायर की मौत हो गई थी.


जलियांवाला कांड: कुएं से निकली थीं लाशें, जिंदा हैं दरिंदगी के निशान
9/12
अंग्रेजों के आंकड़े बताते हैं कि जलियांवाला बाग कांड में 379 मासूम लोगों की जिंदगी खत्म हो गई थी. लेकिन असल में हजारों लोग मारे गए थे.
जलियांवाला कांड: कुएं से निकली थीं लाशें, जिंदा हैं दरिंदगी के निशान
10/12
लेकिन माइकल डायर ज़िंदा था और ब्रिटेन लौट चुका था, लेकिन एक नौजवान लगातार उसका पीछा कर रहा था.

जलियांवाला कांड: कुएं से निकली थीं लाशें, जिंदा हैं दरिंदगी के निशान
11/12
आखिरकार 21 साल बाद उस नौजवान ने एक भरे हॉल में माइकल डायर को गोली मार कर जलियांवाला बाग का बदला ले लिया. बता दें, उस नौजवान का नाम उधम सिंह था.




जालियांवाला बाग में लगे गोलियों के निशान (फोटो-आजतक)





जलियांवाला कांड: कुएं से निकली थीं लाशें, जिंदा हैं दरिंदगी के निशान
12/12
बता दें, अमृतसर के जलियांवाला बाग के नरसंहार कांड के 100 साल पूरे होने पर वहां एक खास कार्यक्रम होने वाला है, जिसमें शहीदों को श्रद्धांजलि दी जाएगी.
Advertisement
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay