एडवांस्ड सर्च

Advertisement

लिखने वाले देखते हैं एक खूबसूरत दुनिया...

जब एक लेखक जिंदगी से झगड़ते-लड़ते हुए कुछ लिख नहीं पा रहा था, पढ़िए तब की लिखी एक कविता.
लिखने वाले देखते हैं एक खूबसूरत दुनिया... Symbolic Image
aajtak.in [Edited by: विकास त्रिवेदी]नई दिल्ली, 11 April 2015

कितना कुछ लिखना है
बहुतों के लिए बहुत कुछ लिखना है
कुछ लिखना है मुझे पैसे के लिए
कुछ लिखना है खुद के लिए
लेकिन कुछ नहीं लिख पाता
जिंदगी से लड़ते झगड़ते
बिजली से नियंत्रित बिछावन पर
लेटे बाबूजी को देखकर
शब्द भी अब चुप्पी साधने लगा है
गरम हवा वाले बिछावन पर वे लेटे हैं
घाव शरीर में फैल चुका है
वे लड़ रहे हैं
खुद की लड़ाई, खुद से
ठीक वैसे ही जैसे मैं
अक्सर लिखता हूं
केवल खुद के लिए..
मेरी अपनी लड़ाई शब्द से है
बाबूजी को बिछावन पर लेटे देखते हुए ही जाना
कि लिखना और जीना
दोनों ही बहुत अलग चीज है
जो लिख देते हैं
वो सच में बड़ी खूबसूरत दुनिया देखते हैं
और जो लिख नहीं पाते
वो देखते हैं..भोगते हैं
जीवन के उतार-चढाव को...
जीवन का व्याकरण
सचमुच में बड़ा जटिल है
अब जान गया कि
जीवन एक लंबी कविता है
जिसमें कहानी का अंश है
उपन्यास की आड़ी-तिरछी रेखा है..
मेरे लिए तो फिलहाल
जीवन की कहानी
और कुछ नहीं
बस अमीर खुसरो का एक पद है
जिसमें वे कहते हैं
न नींद नैना
न अंग चैना ..

ये कविता बिहार के पूर्णिया में रहने वाले गिरीन्द्र नाथ झा ने लिखी है.

 

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay