एडवांस्ड सर्च

दिल्ली विश्वविद्यालय बना खौफ का कैंपस

दिल्ली विश्वविद्यालय के साउथ और नॉर्थ कैंपस में इन दिनों लड़कियों में खुद की सुरक्षा को लेकर भय व्याप्त है. यहां स्टॉकिंग (पीछा करने) और छेड़छाड़ की घटनाएं आम हैं.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्‍ली, 18 March 2011
दिल्ली विश्वविद्यालय बना खौफ का कैंपस nation crime

दस मार्च, सुबह साढ़े दस बजे, दिल्ली विश्वविद्यालय के नॉर्थ कैंपस में बेलगाम जिंदगी के हिमायती तीन नौजवान एक तेज रफ्तार मोटरसाइकिल को लड़कियों की भीड़ को चीरते हुए दौड़ा ले जा रहे हैं. डरी सहमी लड़कियां रोज की तरह आज भी दुबक कर एक कोने में चली गईं. गुजरते दैत्यों के अट्‌ठास ने उनके चेहरे की मुस्कान गायब कर दी है. वे खुद को ऐसे किसी अन्य हमले का मुकाबला करने के लिए संभाल रही हैं. यहां आसपास पुलिस वैन का कहीं अतापता नहीं. मेट्रो स्टेशन से निकली लड़कियों को रिक्शे वालों ने घेर रखा है और तंग करने की हद तक उनसे भावतोल करने में लगे हैं. पटेल चेस्ट के पास रिक्शे पर जाती लड़कियों पर कुछ युवक भद्दी फब्तियां कस रहे हैं और बस स्टॉप पर बैठी लड़कियों को देख कर एक गाड़ी थोड़ी धीमी हो जाती है.

बारह बजे, स्थान धौलाकुआं के पास शांति निकेतन के ओवरब्रिज वाला बस स्टॉप. स्टॉप पर कॉलेज छात्राओं की खूब भीड़ है, कोई युवक उनसे हाथ छुआ कर निकल जाता है तो कोई उन्हें देख फिल्मी गाना गुनगुना रहा है. साउथ कैंपस की अंदर की सड़क पर पुलिस पेट्रोलिंग भी खास नजर नहीं आती है, और यह सारे हालात उस समय हैं जब कैंपस में मंगलवार को शांति निकेतन ओवरब्रिज पर रामलाल आनंद कॉलेज की छात्रा राधिका तंवर की हत्या को लेकर छात्र विरोधप्रदर्शन जुलूस निकाल रहे हैं.

प्रदर्शन में हिस्सा ले रहीं, जीसस ऐंड मेरी कॉलेज (जेएमसी) की एक छात्रा गुस्से में बताती है, ''हमारे कॉलेज के आगे तो बेशर्मी की सब सीमाएं टूट जाती हैं. अक्सर कोई न कोई मोटरसाइकिल या कार में सवार होता है और मस्टरबेट (हस्तमैथुन) करते दिखाई दे जाता है. आप नहीं सोच सकते, उस समय क्या हालत होती है.''

ये हालात दिल्ली विश्वविद्यालय के साउथ और नॉर्थ कैंपस के हैं, जहां इन दिनों लड़कियों में खुद की सुरक्षा को लेकर भय व्याप्त है. यहां स्टॉकिंग (पीछा करने) और छेड़छाड़ की घटनाएं आम हैं. इन चौंकाने वाले तथ्यों से इशारा मिल जाता है कि 8 मार्च को रामलाल आनंद कॉलेज की छात्रा राधिका तंवर की हत्या की कहानी काफी समय पहले से ही लिखी जा रही थी. समय-समय पर होने वाली बड़ी घटनाओं पर ही पुलिस और प्रशासन जागता है, अन्यथा बेदगी का यह खेल बारह माह दिल्ली विश्वविद्यालय कैंपस या उसके कॉलेजों में जारी रहता है.

लड़कियां एक सबसे बड़ी समस्या अपना पीछा करने को मानती हैं. रामलाल आनंद कॉलेज की एक छात्रा बताती हैं, ''अक्सर लड़के हमारे पीछेपीछे आते हैं और छिछोरी हरकतें करते हुए चलते हैं. अब किसी को बता भी नहीं सकते. घर पर बताया तो कॉलेज बंद.'' मोतीलाल नेहरू कॉलेज की एक छात्रा बताती है, ''अक्सर शाम को पांच बजे के बाद साउथ कैंपस से रिंग रोड को जाते समय काफी डर लगता है. अगर कोई छेड़खानी करता भी है तो पुलिस या किसी गार्ड के आसपास नजर न आने के कारण चुपचाप निकल जाना पड़ता है.''

इस मसले की ओर दिल्ली विश्वविद्यालय के कुलपति दिनेश सिंह का ध्यान दिलाने पर वे जोर देकर कहते हैं कि, ''हमारे गार्ड शाम को 5 से 10 बजे तक वहां गश्त लगाते रहते हैं.'' जबकि दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ (डूसू) की सचिव नीतू डबास साउथ कैंपस के साथ सौतेले व्यवहार की बात कहती हैं. वे बताती हैं, ''सारी बातें ऑन पेपर हैं. पेट्रोलिंग तो बिल्कुल भी नहीं है. नॉर्थ में महिला पुलिसकर्मियों की मौजूदगी है लेकिन साउथ में ऐसा नहीं है.''

इस तरह की घटनाओं की पुष्टि काफी हद तक दिल्ली सरकार के महिला एवं बाल विकास विभाग के तत्वाधान में जागोरी एनजीओ के सर्वे से भी हो जाती है. जिसके मुताबिक लगभग 70 फीसदी महिलाओं को सड़क पर मौखिक या शारीरिक उत्पीड़न का शिकार होना पड़ता है. अगर नॉर्थ कैंपस की बात करें तो सर्वे के मुताबिक हर दूसरी लड़की किसी न किसी तरह के यौन उत्पीड़न का सामना करती है और इनमें से 75 फीसदी मामलों को दिनदहाड़े अंजाम दिया जाता है.

इस तरह यह मिथक ध्वस्त हो जाता है कि लड़कियां रात के समय ही असुरक्षित हैं. बेशक दिल्ली की मुख्यमंत्री इस माहौल को चौंकाने वाला बताती हैं, लेकिन कैंपस में छात्राओं की सुरक्षा को लेकर कोई खाका खींचने में असफल रहती हैं. वे सिर्फ इतना ही कह पाती हैं, ''वाकई यह इंतहा है. ऐसी घटनाओं से निबटने के लिए चहूंमुखी नजरिए की जरूरत है.''

जेएमसी कॉलेज की एक छात्रा बताती है, ''चाणक्यपुरी में हमारा कॉलेज है. जब चार बजे कॉलेज खत्म होता है, उस समय इलाका काफी सुनसान रहता है और पुलिसवाले कम ही होते हैं. उन्हें देखकर सिक्युरिटी की भावना नहीं आती है. पुरुष कांस्टेबल के पास जाने से पहले दस बार सोचना पड़ता है.''

सर्वे के आंकड़े भी इसी ओर इशारा करते हैं. सिर्फ 0.8 फीसदी महिलाओं ही यौन उत्पीड़न के मामलों की रिपोर्ट पुलिस में करती हैं. हालांकि महिलाओं में भरोसाजगाने के प्रयासों के बारे में पूछे जाने पर पुलिस उपायुक्त (दक्षिण) एच.जी.एस. धालीवाल कहते हैं, ''हमने साउथ कैंपस में महिला पुलिसकर्मियोंकी संख्या बढ़ा दी है.''

यही नहीं, छात्राओं को जहां कॉलेज से बाहर कई तरह के यौन उत्पीड़न का शिकार होना पड़ता है, वहीं कॉलेज के भीतर भी वे सुरक्षित नहीं हैं. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद्‌ (एबीवीपी) की प्रदेश उपाध्यक्ष निहारिका शर्मा बताती हैं, ''अरविंदो कॉलेज, किरोड़ीमल कॉलेज और रामजस कॉलेज से शिक्षकों द्वारा यौन उत्पीड़न के मामले सामने आए, लेकिन इन मामलों में कुछ नहीं हुआ. एक मामले में सिर्फ प्रोफेसर का इंक्रीमेंट रोक दिया गया.''

हाल ही में 18 फरवरी को श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स में फेस्टिवल के दौरान हंसराज कॉलेज की लड़की और उसके दो भाइयों के साथ मारपीट की घटना भी काफी कुछ कह देती है.

कैंपस परिसर में छात्राओं के साथ दुर्व्यवहार पर लगाम कसने के उपायों के बारे में शर्मा कहती हैं, ''पुलिस पेट्रोलिंग में इजाफा होना चाहिए. संकट वाले बिंदुओं को पहचान कर वहां सुरक्षा बढ़ानी चाहिए. कैंपस परिसर में बाहर के लोगों को कम से कम आने दिया जाए. महिला पुलिसकर्मियों की संख्या में इजाफा हो और वीडियो निगरानी भी की जाए.'' छात्रों की इस मांग पर कुलपति कहते हैं, ''हम वीडियो निगरानी की तैयारी और साउथ कैंपस में भी महिला सेल स्थापित करने की दिशा में बढ़ रहे हैं. हम एंबुलेंस सेवा को लेकर तेजी से प्रयास कर रहे हैं. राधिका की मौत का एक बड़ा कारण सही समय पर अस्पताल न पहुंचना भी रहा है.''

यह कानून के कमजोर शिकंजे और पुलिस प्रशासन के ढुलमुल रवैए का ही नतीजा है जिसके चलते दिनदहाड़े इस तरह की घटना को अंजाम देने के हौसले पैदा होते हैं. जागोरी की कल्पना विश्वनाथ कहती हैं, ''अपराध से तीव्रता और सख्ती से निबटकर ही इस तरह की घटनाओं को रोका जा सकता है, ताकि लोगों में यह संदेश जा सके कि महिलाओं के खिलाफ अपराध करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा. पुलिस को महिलाओं में भरोसा जगाने की जरूरत है.''

बेशक अगर इस साल की बात करें तो अभी तक देश की राजधानी में 42 महिलाओं के बलात्कार और 73 के यौन उत्पीड़न के मामले सामने आए हैं. समय रहते कुछ न किया गया और परिस्थितियां जस की तस रहीं तो यह कोई बड़ी बात नहीं कि लड़कियों को कॉलेज भेजने को लेकर ही सवाल न उठने लगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay