एडवांस्ड सर्च

सोमदेव-सनम ने स्वर्ण जीता, सानिया-विष्णु को रजत

स्टार खिलाड़ी सोमदेव देववर्मन आज सनम सिंह के साथ पुरूष युगल स्पर्धा का स्वर्ण जीतने के साथ एशियाई खेलों के इतिहास में पुरूष एकल फाइनल में प्रवेश करने वाले पहले भारतीय बन गये लेकिन सानिया मिर्जा और विष्णु वर्धन को मिश्रित युगल में रजत पदक से संतोष करना पड़ा.

Advertisement
aajtak.in
भाषाग्‍वांग्‍झू, 22 November 2010
सोमदेव-सनम ने स्वर्ण जीता, सानिया-विष्णु को रजत

स्टार खिलाड़ी सोमदेव देववर्मन आज सनम सिंह के साथ पुरूष युगल स्पर्धा का स्वर्ण जीतने के साथ एशियाई खेलों के इतिहास में पुरूष एकल फाइनल में प्रवेश करने वाले पहले भारतीय बन गये लेकिन सानिया मिर्जा और विष्णु वर्धन को मिश्रित युगल में रजत पदक से संतोष करना पड़ा.

सोमदेव के लिये यह शानदार दिन रहा क्योंकि उन्होंने सेमीफाइनल में जापान के तातासुमा को 6-2, 0-6, 6-3 से हराकर एकल फाइनल में इतिहास रच दिया और वह स्वर्ण पदक से सिर्फ एक कदम की दूरी पर हैं. खिताबी भिड़ंत में उनका सामना उज्बेकिस्तान के शीर्ष वरीय देनिस इस्तोमिन से होगा.

इसके बाद उन्होंने सनम सिंह के साथ मिलकर इन खेलों में भारत को टेनिस स्पर्धा का पहला स्वर्ण पदक दिलाया. इस छठी वरीय जोड़ी ने फाइनल में चीन के गोंग माओक्सिन और लि झे को 6-3, 6-7, 10-8 से शिकस्त दी.

सानिया एक बार फिर स्वर्ण से चूक गयी . सानिया और विष्णु वर्धन की छठी वरीय जोड़ी को मिश्रित युगल के फाइनल में चान युंग जान और यांग सुंग हुआ की चीनी ताइपै की दूसरी वरीय जोड़ी से 6-4, 1-6 , 2-10 से पराजय से दूसरे स्थान से ही संतोष करना पड़ा. सोमदेव और सनम का स्वर्ण पदक भारत के लिये काफी अहमियत रखता है क्योंकि भारतीय दल यहां लिएंडर पेस और महेश भूपति की स्टार युगल जोड़ी के बिना आया है, जिसने 2006 दोहा एशियाड में स्वर्ण पदक अपने नाम किया था. इन दोनों ने लंदन में विश्व टूर फाइनल्स में खेलने का फैसला किया था.

रोहन बोपन्ना भी भारतीय दल में शामिल नहीं हैं, हालांकि वह विश्व टूर फाइनल्स के लिये क्वालीफाई करने में असफल रहे.

सानिया ने कल महिला एकल स्पर्धा में कांस्य पदक जीता था. दोहा एशियाई खेलों में उन्होंने एकल में रजत और पेस के साथ मिश्रित युगल स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता था.

राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदकधारी सोमदेव की पुरूष एकल में भारत की अगुवाई बरकरार है. इससे पहले कोई भी भारतीय खिलाड़ी पुरूष एकल फाइनल में प्रवेश नहीं कर पाया है और भारत ने एशियाई खेलों की पुरूष एकल स्पर्धा में केवल तीन कांस्य पदक अपने नाम किये हैं.

लिएंडर पेस ने 1994 हिरोशिमा खेलों में और महेश भूपति तथा प्रहलाद श्रीनाथ ने 1998 बैंकाक में तीसरा स्थान हासिल किया था. दूसरे वरीय और 195वीं रैंकिंग पर काबिज सोमदेव ने सेमीफाइनल में जापानी प्रतिद्वंद्वी तातसुमा इतो को तीन सेटों के संघषर्शील मुकाबले में परास्त किया.

दो घंटे चले मुकाबले में भारतीय खिलाड़ी ने पहला सेट 6-2 से अपने नाम किया लेकिन चौथी वरीयता प्राप्त खिलाड़ी इतो ने शानदार वापसी करते हुए दूसरे सेट में सोमदेव को कोई भी मौका नहीं दिया और सेट 6-0 से जीता.

सोमदेव ने तीसरे सेट में आत्मविश्वास का खेल दिखाया और जापानी खिलाड़ी को 6-3 से हराकर खिताबी मुकाबले में स्थान पक्का कर लिया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay