एडवांस्ड सर्च

एशियाड: विजेंद्र सिंह ने भारत को दिलाया 14वां स्‍वर्ण पदक

ओलंपिक और विश्व चैम्पियनशिप के कांस्य पदक विजेता विजेंदर सिंह ने शुक्रवार को एकतरफा फाइनल में उज्बेकिस्तान के अतोएव अबोस को 7-0 से हराकर एशियाई खेलों की मुक्केबाजी स्पर्धा के 75 किग्रा भार वर्ग में स्वर्ण पदक जीता.

Advertisement
aajtak.in
आज तक ब्‍यूरोग्‍वाग्‍झू, 27 November 2010
एशियाड: विजेंद्र सिंह ने भारत को दिलाया 14वां स्‍वर्ण पदक

ओलंपिक और विश्व चैम्पियनशिप के कांस्य पदक विजेता विजेंदर सिंह ने शुक्रवार को एकतरफा फाइनल में उज्बेकिस्तान के अतोएव अबोस को 7-0 से हराकर एशियाई खेलों की मुक्केबाजी स्पर्धा के 75 किग्रा भार वर्ग में स्वर्ण पदक जीता लेकिन दो अन्य भारतीयों संतोष कुमार (64 किग्रा) और मनप्रीत सिंह (91 किग्रा) को फाइनल में शिकस्त के कारण रजत पदक से संतोष करना पड़ा.

विजेंदर ने इसके साथ ही पिछले साल इटली के मिलान में हुई विश्व चैम्पियनशिप के सेमीफाइनल में अबोस के हाथों मिली शिकस्त का बदला भी चुकता कर लिया. पिछले महीने राष्ट्रमंडल खेलों में कांस्य पदक जीतने वाले विजेंदर शुरू से ही अपने प्रतिद्वंद्वी पर हावी रहे और उन्होंने उज्बेकिस्तान के मुक्केबाज को अंक जुटाने का कोई मौका नहीं दिया.

भारतीय मुक्केबाज का आक्रमण ही नहीं बल्कि डिफेंस भी गजब का था. अपने वजन वर्ग में दुनिया के नंबर एक मुक्केबाज विजेंदर ने पहले राउंड में ही दो अंक जुटाकर बढ़त बना ली जिसे दूसरे दौर के बाद उन्होंने 5-0 कर दिया. भारतीय मुक्केबाज ने अंतिम राउंड में दो और अंक जुटकार अपनी जीत सुनिश्चित की. दूसरी तरफ संतोष और मनप्रीत को फाइनल में एकतरफा हार का सामना करना पड़ा.

संतोष को खिताबी मुकाबले में कजाखस्तान के दानियार येलेयुसिनोव ने 16-1 से पछाड़ दिया जबकि मनप्रीत को सीरिया के मोहम्मद घोसोउन ने 8-1 से शिकस्त दी. संतोष पहले दो राउंड के बाद 6-0 से पिछड़ रहे थे जिसके बाद कजाखस्तान के मुक्केबाज ने अंतिम राउंड में 10 और अंक जुटाकर भारतीय मुक्केबाज को धूल चटा दी. संतोष अंतिम राउंड में ही केवल एक अंक जुटा पाये.

संतोष की तरह मनप्रीत भी दो राउंड के बाद 6-0 से पिछड़ रहे थे. सीरियाई मुक्केबाज ने इसके बाद अंतिम राउंड में दो अंक और जुटाए जबकि भारतीय मुक्केबाज ने अपना एकमात्र अंक बनाया. इससे पहले गुरुवार को भारत के लिए विकास कृष्ण ने स्वर्ण जबकि दिनेश कुमार ने रजत पदक जीता था.

पुरुष मुक्केबाजी में सुरंजय सिंह और परमजीत समोटा जबकि महिला मुक्केबाजी में एमसी मैरीकाम और कविता गोयत ने भारत के लिए कांस्य पदक जीते. इस तरह भारत मुक्केबाजी स्पर्धा में एशियाई खेलों का अपना अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए दो स्वर्ण, तीन रजत और चार कांस्य पदक सहित कुल नौ पदक जीतकर चीन के बाद दूसरे स्थान पर रहा. मेजबान चीन ने पांच स्वर्ण सहित दस पदक जीते.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay