एडवांस्ड सर्च

उत्तर प्रदेश चुनावः नेता पुराने चाल नई

मायावती खुद को भ्रष्टाचार विरोधी बता रही हैं, राहुल खुद को यूपी वाला कह रहे हैं तो टेक्नोलॉजी प्रेमी हो गए हैं अखिलेश.

Advertisement
संतोष कुमार/प्रिया सहगललखनऊ, 09 February 2012
उत्तर प्रदेश चुनावः नेता पुराने चाल नई राहुल गांधी, मायावती और अखिलेश यादव

मायावती ने मतदाताओं में अपनी पकड़ मजबूत करने के लिए नवंबर में एक विज्ञापन एजेंसी को काम पर लगाया. एजेंसी का कहना था कि बहुजन समाज पार्टी के प्रति पूर्वाग्रह है कि यह भ्रष्ट पार्टी है और इससे निजात पाना जरूरी है.

1 फरवरी 2012: तस्‍वीरों में देखें इंडिया टुडे

सो मायावती ने तत्काल एक दर्जन से ज्यादा मंत्रियों को निकाल बाहर किया. उनसे यह भी कहा कि वे युवाओं से जुड़ें. मतदान की तारीखों की घोषणा होने से काफी पहले ही सरकार की उपलब्धियों की गुणगान करती बड़ी-बड़ी होर्डिंग्स पूरे शहर में लग गईं.

25 जनवरी 2012: तस्‍वीरों में देखें इंडिया टुडे

यह सब मायावती के प्रचार अभियान पर निकलने से पहले हो गया.

अलंकरण: कुछ भी नहीं. हैंडबैग गायब हो गया है. अब सिर्फ ओवरकोट और स्टोल पहनती हैं.
मुख्य नारा: मैं दलित की बेटी हूं.

राहुल गांधी के चेहरे के भाव एंग्री यंगमैन की तरह हैं. कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह इसमें थोड़ा संशोधन करते हैं, ''एंग्री नहीं, आक्रामक.''

18 जनवरी 2012: तस्‍वीरों में देखें इंडिया टुडे

स्कूली लड़के वाला चश्मा और डिंपल मुस्कान की जगह अब तीखे तेवर और तनी भौंहें नजर आ रही हैं. राहुल दहाड़ते हैं, ''हम जवाब देंगे.'' कांग्रेस के एक नेता कहते हैं, ''हिंदी पट्टी में आक्रामकता कारगर है.''

इस तरह की बात करने की बजाए कि 'मैं थोड़े लोगों से मिला', अब वह 'भड़ाक से' जैसे शब्दों का इस्तेमाल करते हैं. कमीज की आस्तीनें चढ़ाए हुए 'राहुल भैया' यूपी वालों से वोट की गुहार लगा रहे हैं.

11 जनवरी 2012: तस्‍वीरों में देखें इंडिया टुडे

करीने से सधा चेहरा 2007 के उस चेहरे से बिल्कुल अलग है, जब वे यह दावा करते थे कि उनकी एक ही पहचान है कि वे हिंदुस्तानी हैं. वे जाति का खेल 2012 में सीख गए हैं.

4 जनवरी 2012: तस्‍वीरों में देखें इंडिया टुडे

हाल ही में गोरखपुर में उन्होंने लोगों से कहा, ''सैम पित्रोदा ओबीसी हैं.'' लेकिन स्थानीय प्रत्याशियों में अब भी शिकायत और असंतोष है. वे चाहते हैं कि राहुल स्थानीय मुद्दों पर बात करें. यही वह जवाब है, जो वे सुनना चाहते हैं.

28 दिसम्‍बर 2011: तस्‍वीरों में देखें इंडिया टुडे

स्टाइल: करीने से बढ़ाई हुई दाढ़ी और प्रचार के हर पोस्टर पर दादी की तस्वीर.
मुख्य नारा: एक और फेंक दो. (जूता फेंकने पर दिया गया जवाब) यह 'दबंग' अंदाज है.

अखिलेश यादव समाजवादी पार्टी के नए प्रदेश अध्यक्ष की बदौलत आखिरकार पार्टी कंप्यूटर युग में प्रवेश कर गई है. अखिलेश ही हैं, जिन्होंने बहुजन समाज पार्टी से अलग हुए डॉन डी.पी. यादव को नकारने का साहस किया (तो क्या हुआ फिर भी लगभग दो दर्जन दागी प्रत्याशियों को टिकट मिल गया).

21 दिसम्‍बर 2011: तस्‍वीरों में देखें इंडिया टुडे

उन्होंने ही सपा का मौजूदा नारा गढ़ा-'उम्मीद की साइकिल.' उन्हें सपा के इस नए भड़कीले विज्ञापन पर गर्व है.

विज्ञापन में हाथी घिसट-घिसटकर चल रहा है. अचानक लाल टोपी पहने साइकिल पर सवार सपा कार्यकर्ताओं की साइकिल की घंटी ने हाथी को हाशिए पर ढकेल दिया है.

कुछ कहने की जरूरत नहीं. जाहिर है कि उनका यह हास्यबोध नया-नया अवतरित हुआ पर पुराने लोगों को जिस चीज की कमी खल रही है, वह है उनके पिता की संजीदगी.

2007 में उत्तर प्रदेश में पिछले विधानसभा चुनावों के दौरान मुलायम सिंह यादव का चुनाव अभियान सपा के लिए पुराने किस्सों की बात हो गई है.

एक सुस्त विधायक को फिर से चुने जाने के सवाल पर मुलायम ने कहा, ''सारे साल आप सांप को मारते हो, लेकिन नाग पंचमी के दिन उसको दूध पिलाते हो. मतदान के दिन उसे बख्श दो. मैं यह सुनिश्चित करूंगा कि बाद में वे काम करें.'' यह सीखने में अखिलेश को समय लगेगा.

पहचान: आइपैड, ब्लैकबेरी और पार्टी की लाल टोपी.
मुख्य वाक्य: कौन कहता है कि समाजवादी पार्टी कंप्यूटर विरोधी है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
  • Aajtak Android App
  • Aajtak Android IOS
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay