एडवांस्ड सर्च

उत्तराखंड में संत की मूर्ति पर सियासी घमासान

उत्तराखंड के हरिद्वार में संत तिरुवल्लुवर की प्रतिमा को लेकर छिड़ा उत्तर-दक्षिण विवाद.

Advertisement
aajtak.in
अखिलेश पांडे हरिद्वार, 06 August 2016
उत्तराखंड में संत की मूर्ति पर सियासी घमासान हरिद्वार के डामकोठी में अनावृत तमिल संत तिरुवल्लवुर की प्रतिमा

उत्तराखंड में इन दिनों मूर्तियों की स्थापना को लेकर विवाद छिड़ा हुआ है. 14 मार्च को विधानसभा के घेराव के दौरान चोटिल हुए घोड़े शक्तिमान की मूर्ति को लेकर सियासत चली, जो 20 अप्रैल को चल बसा. हरीश रावत सरकार ने 10 जुलाई को विधानसभा तिराहे पर शक्तिमान की मूर्ति लगवाई, लेकिन फिर 11 जुलाई की रात अचानक इसे वहां से हटवा दिया गया. बीजेपी ने इसे मुद्दा बनाया, तो हरीश रावत को सफाई देनी पड़ी कि मूर्ति सही समय पर लगेगी. लेकिन एक दूसरा मामला भी चल रहा है. बीजेपी के पूर्व राज्यसभा सदस्य तरुण विजय की ओर से हरिद्वार में तमिल कवि और संत तिरुवल्लुवर की प्रतिमा स्थापित करने को लेकर राजनीति जारी है. यह झगड़ा इतना बढ़ गया कि दो राज्यों के मुख्यमंत्रियों और  प्रधानमंत्री तक को भी इसमें कूदना पड़ा.

तरुण विजय 29 जून को हरकी पौड़ी में इस प्रतिमा को स्थापित करने वाले थे. इसी दिन दक्षिण भारत से चली तिरुवल्लुवर गंगा पवनम यात्रा को हरिद्वार पहुंचना था. प्रतिमा की स्थापना के लिए उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक, मेघालय के राज्यपाल वी. षणमुगम, उत्तराखंड के राज्यपाल के.के. पॉल और मुख्यमंत्री हरीश रावत आमंत्रित थे. इस मौके पर श्रीलंका के तमिल मूल के राज्यमंत्री सैंथिल टूडईमान भी हरिद्वार में मौजूद थे. लेकिन हरिद्वार के पंडों की तीर्थपुरोहित महासभा ने इसकी स्थापना के लिए चबूतरा नहीं बनने दिया. 23 जून को पहले हरकी पौड़ी पर चबूतरा बनवाने की कोशिश को पंडों ने नाकाम किया. बाद में 28 तारीख की रात शंकराचार्य चौक पर इसे स्थापित करने के लिए चबूतरा निर्माण संतों और साधुओं ने रोक दिया. इन तमाम विवादों के बीच 29 जून को मूर्ति का अनावरण कर वहीं इसे हरिद्वार के डामकोठी स्थित अतिथिगृह में रखवा दिया गया. विवाद को देखकर उत्तराखंड के राज्यपाल और मुख्यमंत्री कार्यक्रम में नहीं पहुंचे.

युवा गंगा तीर्थ पुरोहित महासभा के उज्ज्वल पंडित का तर्क था कि यदि आज इस मूर्ति को गंगा घाट पर लगने दिया गया तो कल कोई और आकर अपने देवता या महापुरुष की मूर्ति लगाने को कहेगा. फिर यहां मेला लगेगा और जगह पर कब्जा किया जाएगा. हरिद्वार में अब जगह नहीं बची है. तीर्थ पुरोहितों की दलील थी कि वे संत तिरुवल्लुवर का विरोध नहीं कर रहे, बल्कि स्थान की महत्ता और जगह की कमी को लेकर आपत्ति है.

लेकिन जब बिना मूर्ति को स्थापित किए अनावरण की खबर तमिलनाडु के टेलीविजन चैनलों पर चली तो वहां इसे लेकर आक्रोश फैलने लगा. वहां राजनैतिक दलों ने इसे मुद्दा बना लिया. कइयों का तो यह कहना था कि हरिद्वार का ब्राह्मण वर्ग मूर्ति स्थापना का विरोध इसलिए कर रहा है क्योंकि उनका मानना है कि तिरुवल्लवुर दलित जाति से थे.

अपना नाम उजागर न करने की शर्त पर कुछ तीर्थपुरोहित उल्टे तरुण विजय पर ही आरोप मढ़ रहे हैं. उन्हें लगता है कि तरुण विजय ने ही दक्षिण में यह गलत संदेश प्रसारित किया है, ताकि उत्तर और दक्षिण के बीच विवाद की स्थिति उत्पन्न हो. मूर्ति को लेकर उत्तराखंड में तैनात दक्षिणवर्ती राज्यों से जुड़े आइएएस और आइपीएस अधिकारियों की लॉबी भी लामबंद हो गई है. हरिद्वार के एक संत कहते हैं, ''यह आश्चर्य की बात है कि जिस संत का उत्तराखंड सहित पूरे उत्तर भारत से कभी कोई नाता नहीं रहा, उसकी मूर्ति लगाने को लेकर इतना बड़ा विवाद खड़ा हो गया है.''

तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता ने भी 20 जुलाई को प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर मूर्ति को स्थापित कराने में हस्तक्षेप की मांग की. उन्होंने मुख्यमंत्री हरीश रावत को भी पत्र लिखा. रावत ने मामले की नजाकत समझी और आनन-फानन में मूर्ति लगाने की जगह तलाशने के लिए शहरी विकास सचिव को हरिद्वार भेजा. उन्होंने हरिद्वार में मेला भवन परिसर में मूर्ति लगाने का सुझाव दिया. रावत ने 23 जुलाई को मेला भवन परिसर में प्रतिमा की स्थापना के लिए भूमि पूजन और शिलान्यास किया. उनका कहना है कि अगस्त के पहले सप्ताह में मूर्ति की स्थापना का भव्य समारोह किया जाएगा. मूर्ति स्थापना के लिए जद्दोजहद कर रहे तरुण विजय कहते हैं, ''इससे कन्याकुमारी से लेकर गंगा तक एकता बढ़ेगी. यह उत्तर-दक्षिण के बीच समन्वय का काम करेगी.'' विपक्ष को लग रहा है कि हरीश रावत अब इसका भी श्रेय खुद लेना चाहते हैं. लेकिन हकीकत यह है कि राष्ट्रीय एकता की मिसाल बनने वाली यह मूर्ति अब एक सियासी मुद्दा बन गई है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay