एडवांस्ड सर्च

बनावटी है राहुल का गुस्सा: अखिलेश यादव

किसी को साइकिल चलाते देखना हो तो सुबह सात बजे का वक्त सबसे बढ़िया होता है. खासकर तब जब वह उस पार्टी का स्टार प्रचारक हो जिसके सत्ता में वापसी की संभावना हो. 38 साल के अखिलेश यादव समाजवादी पार्टी को उसकी मशीन विरोधी ठस छवि से निकालने में लगे हैं.

Advertisement
प्रिया सहगललखनऊ, 02 March 2012
बनावटी है राहुल का गुस्सा: अखिलेश यादव अखिलेश यादव

किसी को साइकिल चलाते देखना हो तो सुबह सात बजे का वक्त सबसे बढ़िया होता है. खासकर तब जब वह उस पार्टी का स्टार प्रचारक हो जिसके सत्ता में वापसी की संभावना हो. 38 साल के अखिलेश यादव समाजवादी पार्टी को उसकी मशीन विरोधी ठस छवि से निकालने में लगे हैं. उत्तर प्रदेश के चुनाव के आधे से ज्‍यादा चरण बीत जाने के बाद यादव राजकुमार ने सीनियर एडिटर प्रिया सहगल से चुनाव प्रचार पर हलके-फुलके अंदाज में बात की. बातचीत के कुछ अंशः

-कांग्रेस कह रही है कि त्रिशंकु विधानसभा होने पर वह सपा को समर्थन नहीं देगी. आपकी क्या प्रतिक्रिया है?

(हंसते हुए) आप जानती हैं कि इसने कांग्रेस को ही सबसे ज्‍यादा नुकसान पहुंचाया है, हमें नहीं. यूपी की जनता न तो त्रिशंकु विधानसभा चाहती है न राष्ट्रपति शासन. इसलिए कांग्रेस के इस बयान के बाद लोग कम-से-कम इतना तो तय कर ही देंगे कि हमें बहुमत मिल जाए.

- क्या सपा केंद्र में यूपीए को दिए समर्थन पर दोबारा विचार करेगी?

नेताजी (मुलायम सिंह यादव) ने पहले ही कह दिया है कि केंद्र में हम कांग्रेस का समर्थन करेंगे लेकिन उत्तर प्रदेश में हमारा ऐसा कोई समझौता नहीं है. यह भाजपा को रोकने के लिए मुद्दों पर आधारित समर्थन है. नेताजी पुराने स्टाइल के नेता हैं. वे धमकी नहीं देते, न ही वे रंजिश की सियासत करते हैं. कांग्रेस को दोबारा विचार करना होगा. उन्हें अपनी मुश्किलें अच्छे से पता हैं. यदि वे केंद्र में अपनी सरकार चलाना चाहते हैं, तो उन्हें तय करना होगा कि कौन दोस्त है और कौन दुश्मन. जहां तक हमारी बात है. तो उत्तर प्रदेश में हमें स्पष्ट जनादेश मिलने जा रहा है. हमें उनकी जरूरत नहीं है.

- राहुल के 'एंग्री यंग मैन' छवि वाले प्रचार पर आप क्या सोचते हैं?

वे कहते हैं कि वे नाराज हैं और लोग सोचते हैं कि उन्हें इसलिए गुस्सा आता है क्योंकि पार्टी अच्छा प्रदर्शन नहीं कर रही (हंसते हुए). बेमतलब गुस्सा होने से क्या फायदा, जब कुछ करना ही नहीं है, जब हमें बसपा सरकार के खिलाफ गुस्सा आया तो हमने विरोध प्रदर्शन किया था और लाठियां खाई थीं. कांग्रेस केंद्र की सत्ता में है. उनके राज्‍यपाल का गुस्सा बसपा की सरकार को हटा सकता था. अगर उसकी सीबीआइ नाराज होती, तब भी मुख्यमंत्री (मायावती) को जाना पड़ सकता था. इस सरकार में कितना भ्रष्टाचार है. लेकिन कांग्रेस का गुस्सा नकली है, असली नहीं.

दूसरों के घोषणापत्र फाड़ने की क्या जरूरत (वे 15 फरवरी की एक रैली में राहुल गांधी द्वारा फाड़े गए एक पन्ने का हवाला दे रहे थे जिससे लोगों में संदेश जा सके कि सिर्फ वादों की फेहरिस्त से कुछ नहीं होता)? लोकतंत्र में हर पार्टी को अधिकार होता है कि वह वादे करे जिन्हें चुने जाने के बाद वह पूरा करना चाहती है. अगर हम अपने वादों को पूरा नहीं करते हैं, तब घोषणापत्र फाड़िए. उससे पहले फाड़ने का क्या मतलब है?

- कांग्रेस कहती है कि वह जाति की राजनीति नहीं करती...

अभी हाल ही में मुझे पता चला कि सैम पित्रोदा विश्वकर्मा हैं. राहुल कहते हैं कि वे दलितों का बनाया खाना खाते हैं. मैं तो यह बरसों से कर रहा हूं. दिल्ली में मेरा रसोइया दलित है.

- आधे से ज्‍यादा चुनाव बीत चुका है. आपको क्या लगता है कि कौन-सी पार्टी सबसे बड़ी चुनौती है?

बसपा, क्योंकि उसके पास काडर है. कांग्रेस के पास कुछ नहीं है. उनके अधिकतर उम्मीदवार बाहरी हैं. और उनके स्थानीय सांसद भी खास काम के नहीं हैं. बहराइच-गोंडा क्षेत्र को ही ले लीजिए. इस इलाके में अकसर बाढ़ आती है. जल संसाधन मंत्री पवन बंसल तो जितिन प्रसाद के साथ इस इलाके में हेलिकॉप्टर से आए थे. वे यहां सर्वेक्षण करने आए थे कि बाढ़ के वक्त कौन-कौन से बचाव के कार्य किए जाने चाहिए. लेकिन जब बाढ़ आई, तो कोई नहीं आया.

कांग्रेस बड़े आराम से सोच रही थी कि इस क्षेत्र में कोई दिक्कत ही नहीं क्योंकि यहां (बहराइच) उनका सांसद (कमल किशोर) सिर्फ 14 दिनों के भीतर जीत गया था (कांग्रेस ने आखिरी समय में उनके नाम पर मुहर लगाई थी). वे इसी तरह के समर्थन के भरोसे थे कि ऐसा फिर होगा. चुनाव का पहला चरण हमारे पक्ष में गया और उसके बाद से लगातार माहौल में बदलाव ही आया है.

- एक धारणा है कि पढ़ा-लिखा मतदाता सपा को वोट नहीं देगा?

पहली बार ऐसा हो रहा है कि हम शहरी इलाकों में भी सीटें जीतने जा रहे हैं. हमारी पार्टी को लखनऊ और दूसरे शहरों में अच्छे वोट मिले हैं. हमने युवा पेशेवरों को मैदान में उतारा है जिससे संदेश गया है कि शिक्षित लोग सपा के खिलाफ नहीं हैं. मुझे यह बताइए कि क्या कांग्रेस ने आइआइएम के प्रोफेसर को टिकट दिया? हमने दिया है-लखनऊ उत्तरी क्षेत्र से अभिषेक मिश्र को.

- कांग्रेस कहती है कि उसने 36 युवा प्रत्याशियों को टिकट दिए हैं?

युवा की परिभाषा उनकी अपनी है. उनके लिए 42 साल का आदमी युवा है (राहुल की उम्र पर चुटकी लेते हुए). उनकी परिभाषा के हिसाब से देखें तो सपा ने 120 युवाओं को टिकट दिया है.

- पार्टी के भीतर आपके शीर्ष पर आने को लेकर क्या शिवपाल यादव और आजम खान जैसे पुराने नेताओं की तरफ से कोई आपत्ति आई?

जो हमारी पार्टी को नहीं जानते वे ऐसा कहते हैं. हमारे बीच कोई मतभेद नहीं हैं.

- डी.पी. यादव को टिकट नहीं दिया जाना भी कोई मुद्दा नहीं?

कोई नहीं चाहता था कि डी.पी. यादव चुनाव लड़ें. यह फैसला करने से पहले मैंने नेताजी से बात की थी. नहीं तो हमारा हाल वही होता जो बाबू सिंह कुशवाहा की वजह से भाजपा का है. पिछले पांच साल के दौरान हमने यह सुनिश्चित करने की कोशिश की है कि गुंडागर्दी के मुद्दे पर कोई भी हमारे ऊपर उंगली न उठाने पाए. हमने उन तमाम लोगों को बाहर रखने की कोशिश की है जिन्होंने पार्टी को बदनाम किया.

- तब भी क्या एकाध ऐसे दागी प्रत्याशी छूटे नहीं जो चुनाव मैदान में हैं?

हो सकता है दो-तीन ऐसे लोग हों. लेकिन उनके मामले या तो कोर्ट में लंबित हैं या फिर उनके खिलाफ झूठे मामले दायर हैं. ये मत भूलिए कि बसपा ने जान-बूझकर हमारे लोगों को जेल भेजा था.

- लोगों में डर है कि सपा की वापसी का मतलब गुंडागर्दी की वापसी है?

नहीं. पिछले पांच साल का हमारा रिकॉर्ड देखिए. सपा के खिलाफ ऐसा कोई आरोप नहीं लगा है. जब हम सत्ता में वापस आएंगे, तो चाचा रामगोपालजी की अध्यक्षता में एक कमेटी बनाई जाएगी जो सुनिश्चित करेगी कि कोई गड़बड़ न हो. यदि कोई गड़बड़ी करता है, तो कानून उससे निबटेगा.

- अगर सपा जीतती है तो उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री कौन होगा?

नेताजी. हर कोई उन्हें चाहता है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay