एडवांस्ड सर्च

राजस्‍थान: मदेरणा सीडी कांड के बहाने जुटने लगे जाट

जाट समाज में अब प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के खिलाफ सुगबुगाहट शुरू हो गई है. इस बिरादरी के एक तबके को लगता है कि गहलोत ने मोटे तौर पर जाट समाज और खासकर पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा को अपना निशाना बनाया है.

Advertisement
aajtak.in
विजय महर्षिजयपुर, 26 November 2011
राजस्‍थान: मदेरणा सीडी कांड के बहाने जुटने लगे जाट नागौर में रैली निकालते जाट समाज के लोग

जाट समाज में अब प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के खिलाफ सुगबुगाहट शुरू हो गई है. इस बिरादरी के एक तबके को लगता है कि गहलोत ने मोटे तौर पर जाट समाज और खासकर पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा को अपना निशाना बनाया है. ऐसे में गहलोत के खिलाफ एकजुट बिरादरी के लोगों ने पिछले हफ्ते जाट महासभा के बैनर तले कलेक्ट्रेट में इकट्ठे होकर राज्‍यपाल, कांग्रेस आलाकमान और खुद गहलोत के नाम का ज्ञापन कलेक्टर को सौंपा.

इंडिया टुडे की और खबरों को पढ़ने के लिए  क्लिक करें 

ज्ञापन सौंपने से पहले सुबह से जाट समुदाय के लोग शहर की बल्देवराम मिर्धा धर्मशाला में जुटने लगे थे. यहां से भीड़ रैली की शक्ल में कलेक्ट्रेट पहुंची. ज्ञापन के बाद रैली सभा में बदल गई और गहलोत सरकार के खिलाफ इस समुदाय का आक्रोश फू ट पड़ा. जाट समन्वय समिति के अध्यक्ष डॉ. शंकरलाल जाखड़ गहलोत सरकार के 'भेदभावपूर्ण' रवैए के खिलाफ बरस पड़े. उनके अलावा प्रदेश के जाट नेता विजय पूनियां, विधायक रणवीर पहलवान और दर्जनों सरपंचों ने खुलकर दहाड़ लगाई. जाखड़ का दावा था कि ''भंवरी देवी प्रकरण एक सुनियोजित साजिश है, जिसमें मदेरणा को फं साया जा रहा है.''

30 नवंबर 2011: तस्‍वीरों में देखें इंडिया टुडे

जाखड़ की मानें तो भंवरी के अजमेर स्थित लॉकर से कई सीडियां बरामद हुई हैं. उनमें से कव्वल मदेरणा वाली को ही क्यों सार्वजनिक किया गया? इस मामले में ''और जिन लोगों के नाम सामने आ रहे हैं, उनकी सीडियां क्यों नहीं सामने लाई गईं?'' यहां कई सवाल खड़े किए गए. पुलिस ने नाकामी का सेहरा बांधकर इस मामले से पीछा छुड़ा लिया.

अब सीबीआइ भी इस बात को लेकर संदेह के घेरे में है कि उसके हाथ लगी बाकी सीडियों में कौन है? यह सवाल इसलिए भी उठ रहा है क्योंकि मदेरणा की सीडी के उजागर होने के बाद से सीबीआइ भी सुस्त नजर आ रही है.

23 नवंबर 2011: तस्‍वीरों में देखें इंडिया टुडे

16 नवंबर 2011: तस्‍वीरों में देखें इंडिया टुडे

सभा में यह बात बार-बार उठाई जाती रही कि मदेरणा परिवार दशकों से पार्टी की सेवा करता आ रहा है. इससे मारवाड़ और पश्चिमी राजस्थान में पार्टी मजबूत हुई है. मदेरणा की साख भी इससे मजबूत हुई है. प्रदेश के दूसरे बड़े कांग्रेसियों को यही बात खटक रही थी. सभा में आईदानाराम रेवाड़ , पुनियां, पहलवान, जायल के दबंग जाट नेता और पूर्व प्रधान रिद्धकरण लोमरोड़ ने सरकार की खिंचाई करने में कोई कसर नहीं छोड़ी.

इस पूरे आयोजन में एक प्रमुख नेता हनुमान बेनीवाल की गैर-मौजूदगी चर्चा का विषय रही. गौरतलब है कि बेनीवाल ने खरनाल में तेजादशमी के मौके पर भाजपा और कांग्रेस, दोनों पार्टियों को जमकर कोसा था. उन्होंने एक ओर गहलोत की किरकिरी की तो दूसरी ओर अपनी ही पार्टी की नेता वसुंधरा राजे पर कई आरोप जड़े.

9 नवंबर 2011: तस्‍वीरों में देखें इंडिया टुडे

2 नवंबर 201: तस्‍वीरों में देखें इंडिया टुडे

लोगों को लगा कि बेनीवाल आज भी आकर अपना वही रंग दिखाएंगे. लेकिन उन्होंने इस मंच पर न आना ही मुनासिब समझ. वहीं जिले का एक बड़ा राजनैतिक परिवार भी इस रैली से दूर था. देखते हैं कि इस रैली का सियासी तौर पर क्या असर होता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay