एडवांस्ड सर्च

लंदन ओलंपिक: उत्सव की विडंबना

कई लंदनवासी अपने शहर में तीसरी बार ओलंपिक की मेजबानी से बहुत खुश नहीं थे. लेकिन जब समारोह सिर पर आ ही गया तो उन्होंने इसे शानदार बनाने में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी.

Advertisement
निर्पल धालीवालनई दिल्‍ली, 04 August 2012
लंदन ओलंपिक: उत्सव की विडंबना

कई अन्य लंदनवासियों की तरह मैं भी ओलंपिक की मेजबानी पर बहुत उत्साहित नहीं था. पिछले एक साल के भीतर इस आयोजन की लागत 9 अरब पाउंड (76,500 करोड़ रु.) की आसमानी ऊंचाई तक जा पहुंची. यह खर्च हमारी जेब से होना था, लिहाजा हम पर मुसीबतों का पहाड़ तो टूटना ही था. सैकड़ों हजार अतिरिक्त आगंतुक हमारे शहर में पहुंचने वाले थे. शहर के बोझ से सिसक रही परिवहन सेवा और बुनियादी ढांचे पर इसका बेइंतिहा भार पड़ना तय था.

खेल के बड़े सितारों, नौकरशाहों और कुलीन लोगों को फटाफट लाने-ले जाने के लिए सोवियत स्टाइल की जिली लेनें बिछाई गईं थीं. आम लोगों के मानमर्दन में रही-सही कसर टिकट व्यवस्था ने पूरी कर दी. ज्‍यादातर इंतजाम पर सूट-बूटधारी, आत्माविहीन और थुलथुल कॉर्पोरेशन वालों का कब्जा था, जिनके लोगो-ब्रांड समूची राजधानी में पक्षियों की बीट की तरह बिखरे पड़े हैं.OLYMPIC

खेल और इनसानी कोशिशों का उत्सव मनाने की बजाए हम एक पखवाड़े के पूंजीवाद के धूम-धड़ाके वाले उत्सव में जुट गए. इन सब के ऊपर हमारे दिलो-दिमाग में अब तक की सर्वाधिक निराशाजनक और बारिश से तर-बतर गर्मियों की याद बनी हुई थी. ओलंपिक समारोहों के बारे में मेरे एक दोस्त की यह टिप्पणी सटीक बैठती है कि यह ''एक लंबी और बेहद महंगी पार्टी की तरह है, जिसमें हमें बुलाया नहीं गया है लेकिन जिसका खर्चा हमें भरना है, इस दौरान हमें अपनी कार घर पर छोड़ देनी है और हर जगह पैदल जाना है.''

और खेल शुरू होने के साथ हमारी आशंकाएं सच होने लगीं. पिछले हफ्ते, जब उत्तर कोरिया की महिला फुटबॉल टीम मैदान में उतरी तो अधिकारियों की कृपा से दक्षिण कोरिया का झंडा उनके नाम पर लहराने लगा. अंतरराष्ट्रीय दर्शकों के बीच इससे भयंकर कोई और गलती नहीं हो सकती. इस गलती की शर्मिंदगी उस वक्तऔर भी गहरी महसूस हुई जब 26 जुलाई को झ्बरे बालों वाले हमारे अनाड़ी मेयर बोरिस जॉनसन हाइड पार्क के मंच पर ओबामा के अंदाज में चिल्लाने लगे, ''क्या हम तैयार हैं? हां, बिलकुल हैं!''

और फिर आया उद्घाटन समारोह. अपने संपूर्ण आश्चर्य और सृजनात्मकता के साथ. सबसे बड़ा चमत्कार जो इसने गढ़ा-आग से निर्मित भव्य ओलंपिक रिंग्स से भी बढ़कर-इसने हमारी आत्माओं को बदल डाला. डैनी बॉयल की उन्मत्त और जादुई दृष्टि से औचक मुठभेड़, हमारे इतिहास के एक-एक पहलू को गूंथकर उन्होंने दुनिया में देखे गए अब तक के सबसे बड़े शो में उतार जैसे हमें कठोर निराशावाद की जकड़ से पलभर के लिए बाहर खींच लिया.

बॉयल के ओलंपियन आईने में हम असाधारण लोगों के रूप में खुद का दीदार कर रहे थे. आधुनिक विश्व की औद्योगिक यात्रा, सार्वभौमिक मताधिकार की नैतिक अभिलाषा, दुनिया को चिढ़ाने को आमादा पॉप कल्चर-इस सब का जन्म हमारे शहर में हुआ. एक छोटे से द्वीप की राजधानी, अपने वजन से ज्‍यादा ताकत के प्रदर्शन का इतिहास में इससे बड़ा कोई और उदाहरण नहीं है.

और हम सब प्रेरित हुए, क्योंकि बॉयल के समारोह ने दुनियाभर के दर्शकों को संबोधित करने के बावजूद एक समुदाय-हम लंदन के लोगों के दिलों को छू लिया. हम अस्सी लाख लोग! मैं बता नहीं सकता उनके चश्मे से कितने अंदरूनी मजाक का कचरा पैदा हुआ और दुनियाभर की निगाहों में खो गया, लेकिन हम लंदनवासियों को लजा गया. सबसे जबरदस्त था सेक्स पिस्टल्स गायक समूह के गाए गॉड सेव द क्वीन का प्रदर्शन.olympic

इसमें महारानी मंच पर प्रवेश करती हैं और एक बाल बराबर मोटाई की लाइन उन्हें 'फासीवादी सत्ता' की ओर जाने से रोक लेती है. वह दृश्य भी दिलचस्प था, जिस पर डेविड कैमरून गर्वीली मुस्कराहट ओढ़ते नजर आए. इस दृश्य में राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा और समाजवादी सरकार का महिमामंडन था, जिनका वे लंबे समय से विरोध करते रहे हैं.v यह हास्य और उलटफव्र से भरपूर प्रदर्शन था, जिसमें हमारी राजधानी के हर समुदाय और रंग के लोगों को जगह दी गई थी. इसमें नौजवान अश्वेत रैपर डिजी रास्कल को खास जगह दी गई थी. डिजी मजदूर तबके के युवा प्रतीक हैं. उन्होंने ए.आर. रहमान के पंजाबी संगीत में छितराए बेहद चटपटे शीर्षक वाले अपने गीत बोंकर्स को गाया.

बेशक, ओलंपिक के आयोजन में बेहद खर्च हुआ है. यह हम से पूछे बिना हम पर थोप दिया गया है. मगर पहले भी हमने हिटलर से लड़ने का फैसला कभी नहीं किया था. लेकिन जब अपने बमों के साथ वह लंदन पहुंच गया, तो दुनिया ने देखा कि हमारे भीतर जिंदगी के लिए कैसी जद्दोजहद और प्यार है. और अब ओलंपिक खेल यहां आ चुके हैं और चल रहे हैं, हम पूरी ताकत से इस आयोजन के पीछे खड़े हैं, गोया हर दौड़, कूद और चित-पट पर दांव लगाने के लिए हमने अपने घर गिरवी रख दिए हों.

तेजतर्रार कारोबारी महिला और मेरी दोस्त फ्ल्यूर इमेरी सौदेबाजी और कमाई की अपनी तमाम व्यस्तताओं के बीच महिला तैराकी की बारीक से बारीक जानकारी को फेसबुक पर बांट रहीं हैं. वे लिखती हैं, ''बीबीसी को धन्यवाद, अब मैं जानती हूं कि फ्लंज कैसे किया जाता है.'' कल तक वे महिला साइकिलिंग के पीछे पागल थीं और अब फेसबुक के जरिए उनके दोस्त बेहतरीन पेलॉटॉन (टीम साइकिलिंग में चलाने वालों के लिए बना हैंडल) की खूबियों और खामियों पर चर्चा कर सकते हैं, मानो हम इस खेल के जीवन पर्यंत प्रशंसक रहे हों.

ऐसा करने वाली इमेरी अकेली नहीं हैं. वैश्विक पूंजीवाद के चक्के इन दो हफ्तों के लिए धीमे पड़ गए हैं, क्योंकि लंदन के श्रमिक और उद्यमी सुबह की पालियों में और कभी-कभी पूरे दिन काम पर नहीं जा रहे हैं ताकि पुरुष टीम की आर्चरी या महिला पावरलिफ्टिंग जैसे खेलों का मजा ले सकें.

काम के लिए हम जैसे लोगों को भले ही भागना-दौड़ना पड़ रहा हो लेकिन पश्चिमी लंदन के कारोबारी फूले नहीं समा रहे. दुनियाभर से पहुंचे अधेड़ उम्र के धनी-मानी पर्यटक बेतहाशा ऊंचे दाम के प्राइस टैग वाले चीनी कारखानों में बने सामान पर टूट पड़े हैं. अब आप कुछ भी बोलें, बिक तो ये आखिर ब्रिटेन में ही रहे हैं न. इन पर यूनियन जैक भी चमक रहा है और इस तरह एक शानदार ओलंपिक का इससे ज्‍यादा 'प्रामाणिक' स्मृतिचिन्ह और क्या हो सकता है!

इन कारोबारियों के लिए इससे अच्छा समय नहीं आ सकता था. जब चांसलर, जॉर्ज ऑसबर्न जैसे ब्रांड भी अपने लिए जहर की शीशी तलाश रहे थे. जब आंकड़े बता रहे थे कि ब्रिटेन की मौजूदा मंदी अनुमानों से तीन गुना ज्‍यादा है. बहरहाल, दुनिया भर के मध्यवर्ग की जमापूंजी का सैलाब एक पखवाड़े के लिए यहां है, ऐसे में ये कारोबारी कम से कम एक-दो हफ्ते के लिए राहत की सांस ले सकते हैं.

इस तथ्य से हटकर खेल व पूंजीवाद की इस जुगलबंदी की और क्या तारीफ की जाए कि मैकडोनल्ड ने ओलंपिक के मौके पर एक नई वर्दी उतारी है-खिलाड़ियों जैसे टोपों और टेनिस कॉलर वाली. दुनिया में कॉलेस्ट्रॉल के सबसे बड़े आपूर्तिकर्ता, पश्चिम को मोटापे का उपहार देने वाले मानव उत्कृष्टता के मानक तय करने का दम भर रहे हैं.

मंदी और आरोप-प्रत्यारोप के इस दौर में, एकमात्र ओलंपिक ही ऐसा मुद्दा है, जिसे संपूर्ण राजनैतिक समर्थन हासिल है. टोनी ब्लेयर के नेतृत्व में लेबर पार्टी सात वर्ष पहले इस मेजबानी को हासिल करने में कामयाब रही थी, जबकि सरकार में आने के बाद टोरियों ने इसे सफल बनाने के लिए अपनी पूरी ताकत झेंक दी.

इसे पहली रात की नायाब विडंबना ही कहा जा सकता है कि डेिवड कैमरून ने उद्घाटन समारोह का बजट बढ़ाकर 270 लाख पाउंड (229.50 करोड़ रु.) कर दिया-बॉयल की वामपंथी राजनीति के प्रदर्शन के लिए. पूर्व-औद्योगिक इंग्लैंड के ग्रामीण परिदृश्य में इतने सारे भूरे और काले लोगों की झ्लक देखकर एकबारगी खुद मैं भी हैरान रह गया.

इस सिलसिले में अब तक एकमात्र विरोध प्रदर्शन खाली सीटों के लिए हुआ. कई फव्डरेशन उन्हें सौंपे गए कोटे को पूरा करने में नाकाम रहीं. दर्शकों के बीच मौजूद खाली जगहों को देखकर लंदनवासी भड़के हुए थे, क्योंकि उनमें से कई जटिल सरकारी प्रक्रिया के कारण टिकट नहीं खरीद पाए थे. ऐसा लगता है कि ये सीटें जल्दी ही सैनिकों और छात्रों से भर दी जाएंगी.

यह ओलंपिक खेल दुश्मनी और बढ़ते तनावों का भी गवाह है. यह बीमारी ब्रिटिश खिलाड़ियों तक ही सीमित नहीं है. ब्रिटिश फुटबॉल टीम के कई गैर-ब्रिटिश खिलाड़ियों ने मैच से पहले राष्ट्रगान गाने से इनकार कर दिया (यह दरअसल इंग्लिश गान है. स्कॉटलैंड, वेल्स और उत्तरी आयरलैंड के अपने-अपने राष्ट्रगान हैं). 

जिन प्रतिस्पर्धाओं में भारत को उम्मीदें हैं, यहां उन्हें खास तवज्‍जो नहीं दी जाती. जाहिर है ओलंपिक में भारत की भूमिका पर ज्‍यादातर लंदनवासियों की नजर नहीं पड़ेगी. लेकिन वह लड़की जिसने उद्घाटन समारोह में भारत की टीम के आगे-आगे चलने की जुर्रत की, अपनी गुस्ताखी की वजह से सराही जा रही है. ब्रिटेनवासियों के लिए बिन बुलाए आ धमकना एक कला है. और यह लड़की मशहूर कार्ल पावर के नक्शेकदम पर चल रही थी.

पावर इंग्लिश रग्बी और क्रिकेट के अलावा चैंपियन लीग खेलने वाली मैनचेस्टर युनाइटेड टीम के फोटोग्राफ में घुसपैठ कर नेशनल हीरो बन गए थे. ऐसे में यह लड़की उस वॉलंटियर की तरह एक और ब्रिटिश नायिका का खिताब पा सकती है, जो रातोरात यूट्यूब की सनसनी बन गई है. वीडियो में बेटिकट दर्शकों से मुखातिब यह वॉलिंटयर मेगाफोन पर चिल्ला रही है कि एक दिन वे अपने नाती-पोतों को बताएंगे कि ''ओलंपिक  को सुनने'' वाले खुश किस्मत थे.

कुल मिलाकर लंदनवासी ओलंपिक के लिए आखिरकार तैयार हो गए. हमें इसकी जरूरत नहीं थी, और इसके खयाल भर से हम बिलबिला जाते थे. लेकिन अब जब खेल शुरू हो ही गए हैं, तो दुनिया को दिखाएंगे कि कैसे खेलते हैं हम.

निर्पल धालीवाल स्वतंत्र लेखक और पत्रकार हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
  • Aajtak Android App
  • Aajtak Android IOS
Advertisement
पाएं आजतक की ताज़ा खबरें! news लिखकर 52424 पर SMS करें. एयरटेल, वोडाफ़ोन और आइडिया यूज़र्स. शर्तें लागू
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay