एडवांस्ड सर्च

नई संस्कृति, नए नायकः मेरा पैगाम मोहब्बत है...

पतली-दुबली, दरम्याना कद की सायमा का अंदाज-ए-बयां वाकई दिलचस्प है. इसके लिए उन्हें खास मेहनत नहीं करनी पड़ती क्योंकि हिंदी, अंग्रेजी, पंजाबी और उर्दू की जानकार इस रेडियो जॉकी के पास अभिव्यक्ति के लिए शब्दों की कमी नहीं है

Advertisement
aajtak.in
मोहम्मद वक़ासनई दिल्ली, 03 December 2019
नई संस्कृति, नए नायकः मेरा पैगाम मोहब्बत है... हार्दिक छाबड़ा

मेरा नाम सायमा रहमान है और मैं ए.आर. रहमान की कजिन नहीं हूं. सबसे पहले तो मैं यह क्लियर कर देती हूं.'' मशहूर रेडियो जॉकी शाइस्तगी के साथ अपना परिचय देती हैं. अपनी इसी साफगोई और खुशमिजाजी से वे लोगों के दिल में घर कर गई हैं. पतली-दुबली, दरम्याना कद की सायमा का अंदाज-ए-बयां वाकई दिलचस्प है. इसके लिए उन्हें खास मेहनत नहीं करनी पड़ती क्योंकि हिंदी, अंग्रेजी, पंजाबी और उर्दू की जानकार इस रेडियो जॉकी के पास अभिव्यक्ति के लिए शब्दों की कमी नहीं है.

रेडियो मिर्ची के पुरानी जींस से मकबूल हुईं सायमा अब इसके अलावा सुबह हर मर्ज की दवा सायमा के जरिए दिल्ली-एनसीआर के लोगों की समस्याओं का उन्हीं के जरिए हल निकालती हैं. इसके अलावा, सोशल मीडिया पर सुनो जिंदगी और उर्दू की पाठशाला चलाती हैं.

अंग्रेजी के प्रोफेसर ओजैर ई. रहमान और शेहला रहमान की दो बेटियां—सना और सायमा—और एक बेटा नादिर हैं. सायमा अपने भाई को चिढ़ाते हुए कहती थीं, ''हम लोग तो नाइजीरिया में पैदा हुए और तुम शाहदरा में.'' नाइजीरिया में प्रोफेसर रहमान टीचिंग असाइनमेंट पर ढाई साल के लिए गए थे. मूलत: बिहार के जहानाबाद के रहने वाले प्रोफेसर रहमान, जो बकौल सायमा, ''दिल्ली यूनिवर्सिटी से रिटायर होने के अगले ही दिन शायर बन गए'', ने पूर्वी दिल्ली के ज्योतिनगर में अपना आशियाना बनाया. उन्होंने दिल्ली के गुरु हरकिशन पब्लिक स्कूल में बच्चों का दाखिला कराया, जहां सायमा ने 12वीं तक गुरुमुखी पढ़ी. सबद कॉपिटीशन में गुरुद्वारे जातीं और उन्हें सरोपे से नवाजा जाता. लंगर में सेवा कर चुकीं सायमा को जपुजी साहिब पूरा याद है.

अपने अब्बू की कायल सायमा उन्हीं की तरह अंग्रेजी की लेक्चरर बनना चाहती थीं, लेकिन हिंदू कॉलेज की अंग्रेजी की कटऑफ लिस्ट में नाम नहीं आया और मिरांडा हाउस में ''मुझे वह सब्जेक्ट मिला जिसमें मेरा इंटरेस्ट था, वह था सोशियोलॉजी.'' इसके बाद मास्टर इन सोशल वर्क किया, फिर नेट और जेआरएफ क्लियर करने के बाद एमफिल.

सायमा को रेडियो का शौक बचपन से ही था. ''मैं सोचती थी कि कभी मैं भी बोलूं 'दिस इज ऑल इंडिया रेडियो, द न्यूज रेड बाइ सायमा रहमान.' क्लास सेवन से 12वीं तक वह न्यूज ट्रांसमिशन मैंने रोज शाम को घर में ही किया.'' एक रोज आकाशवाणी को फोन मिलाकर कहा कि ''मुझे न्यूज रीडर बनना है लेकिन उन्होंने मेरा सपना तोड़ दिया और बोले कि आपको ग्रेजुएट होना पड़ेगा.'' पर उन्हें आकाशवाणी के वेस्टर्न म्युजिक सेक्शन में काम मिल गया. ''मुझे एक भी अंग्रेजी गाना नहीं आता था लेकिन मैंने उन लोगों को नहीं बताया और वेस्टर्न म्युजिक में अपना इंटरेस्ट पैदा किया और खूब सारे अंग्रेजी गाने सुने और लोगों को सुनाए भी.'' तीन साल बाद उनका अंग्रेजी की न्यूज रीडर बनने का सपना पूरा हो गया.

तब तक देश में प्राइवेट एफएम स्टेशंस आ गए थे. एक रोज बेमन से रेडियो मिर्ची पहुंचीं, टेस्ट क्लियर कर लिया लेकिन ''मैंने ना कर दिया क्योंकि तब मैं रेडियो को फुल टाइम नहीं देती थी, पढ़ रही थी.'' तीन महीने बाद रेडियो मिर्ची ने बुलाया और रात का शो पुरानी जींस करने को कहा. लेकिन तब तक वे आधी अंग्रेजन बन गईं थीं और जॉन बॉन जोवी, माइकल जैक्सन के अलावा किसी को जानती नहीं थीं. इस प्रस्ताव को ठुकराने को उन्होंने सारी तदबीरें आजमाईं लेकिन ''खुदा को मंजूर न था. मुझे इस शो के लिए रख लिया गया.''

कभी देश के 39 केंद्रों से प्रसारित होने वाला यह रेट्रो शो अभी अमेरिका के विभिन्न शहरों और श्रीनगर में चल रहा है. इसके जरिए उन्होंने अपने अब्बू-अम्मी की जेनरेशन के गानों को अपने जमाने में मकबूल कर दिया, लेकिन अपने अंदाज में. ''लोग किशोर कुमार जी और रफी साहब बोलते थे, मैं किशोर दा बोलती थी और मैं आशा ताई बोलती थी. मानो वे मेरे दादा-दादी हैं और मैं उनके साथ खेल सकती हूं.'' 2005 में जब उन्हें बेस्ट रेडियो जॉकी का अवॉर्ड मिला तो अमीन सयानी ने उनका तआरुफ कुछ यूं कराया, ''ये वह हैं जो कहती हैं किशोर दा रॉक्स.''

पिछले तीन साल से वे सुबह का शो कर रही हैं और समकालीन गाने सुनाती हैं. शहर के लोग उन्हें अपनी परेशानी बताते हैं और श्रोताओं में से ही कोई मदद के लिए फरिश्ता बनकर आता है, दोनों के नाम गुप्त रखे जाते हैं. उर्दू को वे अपने वालिद की विरासत हासिल करने का जरिया मानती हैं.''अब्बू ने मुझे बोला है कि अगर मैंने उर्दू ठीक से नहीं सीखी तो वे मुझे जायदाद से बेदखल कर देंगे!''

उन्हें खाने-पीने में सब कुछ पसंद है लेकिन थोड़ी हिचक के साथ आंखें घुमाते और आवाज धीमी करते हुए वे कहती हैं, ''घिया-पिया टाइप नहीं.'' ईयर रिंग्स की शौकीन सायमा की नोज रिंग मानो उनकी पहचान बन गई है. ''कंट्रास्ट का सेंस नहीं है'' लेकिन शलवार-कमीज जैसे उन्हीं के लिए बनी हैं, जिनमें उनकी सादगीपसंद शख्सियत उभरती है.

रेडियो समेत विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के जरिए प्यार बांटने वाली सायमा अपने गिटार के तार झनझनाकर चहकते हुए कहती हैं, ''मेरा पैगाम मोहब्बत है, जहां तक पहुंचे.''

संघर्ष:

दूसरों की परेशानियां देखकर अपना ऌगम हमेशा कम लगा

टर्निंग प्वाइंट:

जिस दिन मैंने फुल टाइम रेडियो को चुना

उपलब्धि:

मैं किसी के भी दिल में अपनी जगह बना सकती हूं

सफलता का मंत्र:

हर रोज खुद को बेहतर बनाने की जद्दोजहद

लोकप्रियता के कारक:

तरबियत, दुआएं, टीचर्स, प्रोफेसर्स का मार्गदर्शन और बॉसेज जिन्होंने मेरी हिम्मत में मेरा साथ दिया

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay