एडवांस्ड सर्च

जनादेश 2019ः कर्नाटक के गठजोड़ में हार ले आई खटास

गठबंधन को सबसे बड़ा झटका पूर्व-प्रधानमंत्री एच.डी. देवेगौड़ा और वरिष्ठ कांग्रेसी नेता मल्लिकार्जुन खडग़े की भाजपा के हाथों हार से लगा. भाजपा की जीत के लिए पूर्व मुख्यमंत्री बी.एस. येद्दियुरप्पा को बधाइयां मिल रही हैं लेकिन खुद येद्दियुरप्पा ने इसका श्रेय प्रधानमंत्री मोदी को दिया है.

Advertisement
aajtak.in
अरविंद गौडा / मंजीत ठाकुर बेंगलूरू, 30 May 2019
जनादेश 2019ः कर्नाटक के गठजोड़ में हार ले आई खटास हैरान-परेशान मुख्यमंत्री कुमारस्वामी (बाएं), और कांग्रेस नेता डी.के. शिवकुमार

संसदीय चुनाव के नतीजे आने से पहले ही कर्नाटक में सत्ताधारी गठबंधन के साझीदार, जनता दल (सेकुलर) और कांग्रेस, एक-दूसरे पर भितरघात और नुक्सान पहुंचाने के आरोप लगा रहे थे.

नतीजे आए तो भाजपा ने कर्नाटक में 2014 के लोकसभा चुनावों में मिली 17 सीटों के मुकाबले 24 सीटें जीतकर बड़ी सफलता हासिल की. कांग्रेस को बड़ा नुक्सान हुआ और उसे 2014 में मिली नौ सीटों के मुकाबले सिर्फ दो सीटों पर जीत हासिल हुई. जनता दल (एस) कम से कम तीन निर्वाचन क्षेत्रों (हासन, मांड्या और तुमकुरु) से जीतने की उम्मीद कर रहा था, मगर उसे सिर्फ एक पर संतोष करना पड़ा.

गठबंधन को सबसे बड़ा झटका पूर्व-प्रधानमंत्री एच.डी. देवेगौड़ा और वरिष्ठ कांग्रेसी नेता मल्लिकार्जुन खडग़े की भाजपा के हाथों हार से लगा. भाजपा की जीत के लिए पूर्व मुख्यमंत्री बी.एस. येद्दियुरप्पा को बधाइयां मिल रही हैं लेकिन खुद येद्दियुरप्पा ने इसका श्रेय प्रधानमंत्री मोदी को दिया है. उनका कहना है, ''भाजपा कर्नाटक में अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर सकी क्योंकि मतदाताओं ने हमारे दूरदर्शी नेता को प्राथमिकता दी. यह फैसला गठबंधन सरकार के खिलाफ अभियोग भी है.''

चुनाव विश्लेषक भी 'मोदी असर' को ही तरजीह देते हैं. राजनीतिशास्त्र के शोधछात्र तुमकूरु के टी. एस. मंजुनाथ कहते हैं, ''देवेगौड़ा, खडग़े और वीरप्पा मोइली जैसे बड़े नेता मोदी लहर में हारे, येद्दियुरप्पा के असर से नहीं. यह बात साफ है कि देवेगौड़ा को अपमानजनक तरीके से किनारे करने वाली मौजूदा पीढ़ी बदलाव चाहती है और युवा नेताओं को देखना चाहती है.''

गठबंधन के दोनों दलों के नेता अब इस बात पर मंथन कर रहे हैं कि अपने विधायकों को एक साथ कैसे रखा जाए. भाजपा ने घोषणा की है कि 23 मई को गठबंधन सरकार के अंत की शुरुआत होगी. पार्टियों की हड़बड़ाहट तो तभी सामने आ गई थी जब वरिष्ठ कांग्रेसी नेता रोशन बेग का गुस्सा 21 मई को ही फूट पड़ा था. उन्होंने कहा था कि ''यह हार (एक्जिट पोल पर आधारित) सिद्धरामैया (पूर्व मुख्यमंत्री) के अहंकारी रवैये का परिणाम है.

पीसीसी अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव भी उतने ही जिम्मेदार हैं.'' बेग जैसे कट्टर विरोधी भी अब भाजपा के खिलाफ नरम रुख अपना रहे हैं. उन्होंने कहा, ''अगर एनडीए सत्ता में वापस आ रहा है, तो मैं मुस्लिम भाइयों को विनम्रतापूर्वक सीख दूंगा कि वे स्थितियों से समझौता करना सीखें.''

नतीजों ने कांग्रेस को जद (एस) से दूर कर दिया है और दोनों पार्टियों के नेता अलग-अलग बैठकें कर रहे हैं. जद (एस) के प्रवक्क लक्कप्पा गौड़ा ने स्वीकार किया कि मुख्य एजेंडा अब मौजूदा सरकार को बचाने का है.

विशेषज्ञों का कहना है कि दोनों दलों के लिए अपने विधायकों को साथ बनाए रखना बहुत मुश्किल होगा. राजनैतिक विश्लेषक ए. वीरप्पा बताते हैं कि दो महीने पहले कांग्रेस के आठ और जद (एस) के दो विधायक भाजपा में शामिल होने के लिए तैयार थे. मुख्यमंत्री एच.डी. कुमारस्वामी ने साथ बनाए रखने के लिए कड़ी मेहनत की. भाजपा अगर फिर उनसे संपर्क करती है तो वे फैसला करने में बहुत सोच-विचार नहीं करेंगे.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay