एडवांस्ड सर्च

इंडिया टुडे कॉन्क्लेव-देसी खुराक

एक समाज, उसकी संस्कृति, मूल्यों, इतिहास और उसकी भूमि-आबादी अनुपात की जरूरतों का ध्यान रखकर बना मॉडल ही स्वदेशी मॉडल है.

Advertisement
aajtak.in
मंजीत ठाकुर नई दिल्ली, 15 March 2019
इंडिया टुडे कॉन्क्लेव-देसी खुराक बंदीप सिंह

स्वदेशी जागरण मंच के सह-संयोजक और तुगलक के संपादक एस. गुरुमूर्ति विस्तार से बताते हैं कि कैसे 'सबके लिए एक-सी नीति' वाला आर्थिक मॉडल पुराना पड़ गया है और भविष्य स्थानीय जरूरतों और सांस्कृतिक पहलुओं के अनुरूप आर्थिक नीतियों का है.

उन्होंने नवंबर, 2016 में नरेंद्र मोदी सरकार के विवादास्पद कदम नोटबंदी का पुरजोर समर्थन किया और यहां तक कह गए कि अगर नोटबंदी न हुई होती तो अर्थव्यवस्था ध्वस्त हो जाती.

खास बातें

गुरुमूर्ति ने कहा, स्वदेशी एक ऐसा आर्थिक मॉडल है जो किसी देश में और उस देश के लिए काम करता है.

उन्होंने 'सबके लिए एक जैसा' आर्थिक मॉडल थोपने के लिए पश्चिमी मानवशास्त्रीय आधुनिकता को जिम्मेदार ठहराया जहां पश्चिम को शेष समाज के लिए एक आदर्श समाज बना दिया गया. उन्होंने कहा कि जी20 और विश्व बैंक ने माना था कि 'सबके लिए एक जैसा' आर्थिक मॉडल कारगर न होगा; संयुक्त राष्ट्र भी ऐसे मॉडल के खिलाफ था क्योंकि इसने देशों की सांस्कृतिक पृष्ठभूमि को ध्यान में नहीं रखा था.

गुरुमूर्ति ने कहा कि अमेरिकी अर्थव्यवस्था ज्यादा से ज्यादा खर्च के मॉडल पर चलती है, पर पारिवारिक बचत भारत के आर्थिक विकास का एक अहम घटक है. भारत के लिए बचत आधारित अर्थव्यवस्था स्वदेशी विचार है.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay