एडवांस्ड सर्च

नई संस्कृति-नए नायकः ख्याली बउवा का असली जनक

रौनक कहते हैं, श्रोताओं के फीडबैक से उन्हें पता चला कि उनकी आवाज गंभीर रूप से बीमार लोगों के लिए भारी राहत लेकर आती है.

Advertisement
aajtak.in
मोहम्मद वक़ासनई दिल्ली, 03 December 2019
नई संस्कृति-नए नायकः ख्याली बउवा का असली जनक रौनक

नमस्ते अंकिल, बउवा बोल रहा हूं.'' दिल्ली में एफएम सुनने वाला लगभग हर शख्स इस आवाज से वाकिफ है. छरहरे बदन वाले, मृदुभाषी, लोकप्रिय रेडियो जॉकी रौनक के लब खुलने से पहले ही उनकी आंखें बोल पड़ती हैं. वे अपनी तुकबंदी और शरारती बच्चे बउवा की आवाज से लाखों लोगों को गुदगुदाते हैं. उनके व्यंग्य आज के दौर में ज्यादातर लोगों को भाते हैं. लेकिन इन्हीं की वजह से विवाद का तूफान भी खड़ा हो जाता है, और वे अपने गाइड की नसीहत याद करते हुए खामोशी ओढ़ लेते हैं. व्यक्ति का माहौल उसकी शख्सियत को गढ़ता है, रौनक कोई अपवाद नहीं हैं.

रौनक की जड़ें उत्तर प्रदेश के आंबेडकरनगर जिले के गांव जहांगीरगंज में हैं, जहां से उनके पिता जगदीश दुबे सत्तर के दशक में मुंबई पहुंचे और गोदरेज कंपनी में नौकरी शुरू की. रौनक हंसते हुए बताते हैं, ''उनके क्लेम टु फेम में एक यह है कि वे अपनी जेनरेशन में पहले थे जिनकी नौकरी लगने के बाद शादी हुई!'' मुंबई में 25 दिसंबर 1984 को जगदीश और माधुरी दुबे के घर जन्मे रौनक की एक बड़ी बहन सीमा और छोटा भाई राहुल हैं. राहुल सालभर पहले ऑस्ट्रेलियाई उच्चायोग की नौकरी, अपना घर और नाम छोड़कर संन्यासी बन गए और अब स्वामी तुष्य के नाम से ईशा फाउंडेशन का कम्युनिकेशन विभाग देखते हैं.

परिवार के दूसरे बच्चों की तरह रौनक ने दयानंद एंग्लोवैदिक विद्यालय (डीएवी) से दसवीं करने से पहले महानगरपालिका के स्कूल से चौथी तक पढ़ाई की. फिर केलकर कॉलेज से बी.कॉम करते हुए 2003 में ही अपना खर्च निकालने के लिए प्रमोटर का काम किया, जिसका काम विभिन्न उत्पादों की सैम्पलिंग कराना था. महीने के ढाई-तीन हजार रु. मिल जाते थे और मैंने घर से फीस लेना बंद कर दिया. इस दौरान विप्रो और कुछ कॉल सेंटर में काम किया ताकि कम्युनिकेशन स्किल को बढ़ाया जा सके. वे हर एंट्रेंस टेस्ट में बैठ जाते और क्लियर करने के बाद जब नियोक्ता कहता कि 'ओके, कल से आ जाओ' तो रौनक कहते, ''सॉरी, नहीं आ सकते.''

दरअसल, वे इंटरव्यू की प्रैक्टिस कर रहे थे. 2006 में आकाशवाणी में एनाउंसर या रेडियो जॉकी बन गए, जो पार्ट टाइम जॉब ही था क्योंकि उसी साल चेतना कॉलेज में एमबीए में दाखिला मिल गया. एमबीए के दूसरे साल में स्पिनेच नामक रीटेल स्टोर में सप्लाई चेन मैनेजर बन गए और तीन साल तक कोई छुट्टी नहीं ली लेकिन प्राइवेट एफएम में एंट्री की कोशिश जारी रखी. रेड एफएम में नौ बार इंटरव्यू देने के बाद भी मायूस नहीं हुए और आखिरकार 2009 में दसवीं बार में कामयाब हो गए.

वे लखनऊ चले गए, जहां सितंबर 2010 तक रहे और फिर 4 अक्तूबर, 2010 को दिल्ली में शाम 5-9 का समय दिया गया. तब युवाओं की तरह मौज-मस्ती की बातें करते थे और सामाजिक मुद्दे कम ही उठाते थे. लेकिन इस बीच दिसंबर 2011 में शाम वाला शो करते-करते एक प्रैंक कॉल के दौरान रेड एफएम के स्टुडियो में ही ख्याली बउवा का जन्म हुआ, जो अपने पुरबिया अंदाज से लोगों को गुदगुदाने लगा. रौनक बताते हैं, ''शुरू में मुझे एहसास नहीं हुआ लेकिन धीरे-धीरे उसने स्पीड पकड़ी और लोगों को बहुत पसंद आने लगा. फिर उसको हमने अपने शो का महत्वपूर्ण हिस्सा ही बना दिया.'' 2014 में उन्हें सुबह का स्लॉट मिल गया, जिसमें वे विभिन्न मुद्दों पर बात करते. फिर 2017 में ज़ी न्यूज पर 'फन की बात' शुरू किया, जो राजनैतिक व्यंग्य था. इसके अलावा टीवी पर दूसरे शो किए.

2009 में लखनऊ में ही उनकी मुलाकात भातखंडे से भरतनाट्यम की विशारद सोनम से हुई, दोनों के बीच प्यार हुआ. दिसंबर 2013 में उन दोनों की शादी हो गई. रौनक-सोनम का अपना 'बउवा' नीलकंठ है, जो पिछले साल 9 नवंबर को जन्मा. अपने गांव से खास लगाव रखने वाले सौक्वय और हंसमुख रौनक शोहरत की सीढिय़ां चढ़ते जा रहे हैं.

संघर्ष

देश के 99 फीसद लोगों की तरह बचपन में थोड़े में ही गुजारा किया

टर्निग पॉइंट

रेड एफएम में नौ टेस्ट के बाद दसवें में सेलेक्शन

उपलब्धि

श्रोताओं के फीडबैक, जिनसे पता चला कि मेरी आवाज से गंभीर रूप से बीमार लोगों को राहत मिली

सफलता के सूत्र

कॉन्फिडेंस से ज्यादा क्लेरिटी महत्वपूर्ण है, पर थोड़ा कफ्यूजन भी जरूरी है

लोकप्रियता के कारक

गाइडेंस, खासकर आरजे मंत्रा का

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay