एडवांस्ड सर्च

जनादेश 2019ः जीत के आगे जीत की तैयारी

आम चुनावों में 17 राज्यों में 50 फीसदी वोट पाने में कामयाब भाजपा अब अगले तीन साल तक विधानसभा चुनाव वाले प्रमुख राज्यों में जीत की पटकथा लिखने में मशगूल

Advertisement
सुजीत ठाकुरनई दिल्ली, 28 May 2019
जनादेश 2019ः जीत के आगे जीत की तैयारी आत्मविश्वास अहमदाबाद में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह

चुनाव नतीजों के रुझानों में जब भाजपा की प्रचंड जीत के स्पष्ट संकेत मिलने लगे, तभी भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की नजर मानो अगली जीत पर टिक गई थी. उन्होंने हरियाणा के प्रभारी पार्टी महासचिव अनिल जैन से आगामी विधानसभा चुनाव की तैयारियों का ब्यौरा तैयार रखने को कहा. दरअसल शाह का मिशन 50 फीसदी वोट आधे भारत में पूरा हो चुका है.

सो, शाह और भाजपा के नेताओं को यह बखूबी एहसास है कि इस चुनाव में पार्टी ने जिन राज्यों में 50 फीसदी के आसपास वोट हासिल किए हैं, वहां जीत का सिलसिला भले धीमा पड़ जाए (यानी कुछ कम सीटों के साथ बहुमत हासिल हो) मगर थमेगा नहीं. पार्टी सूत्रों के मुताबिक, शाह का लक्ष्य था कि हरियाणा, महाराष्ट्र और झारखंड में इसी साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं इसलिए कम से कम इनमें 50 फीसदी वोट जरूर हासिल किए जाएं, ताकि अगली जीत की नींव रखी जा सके. बेशक, इसमें वे सफल भी हुए.

लोकसभा चुनाव 2019 में भाजपा को 35 राज्यों (केंद्र शासित प्रदेशों के साथ) में 17 में 50 फीसदी के आसपास वोट मिले हैं. यह आंकड़ा पार्टी 15 राज्यों में अपने दम पर तो बिहार और महाराष्ट्र (क्रमश: 52 और 50 प्रतिशत) में अपने सहयोगियों के साथ हासिल करने में सफल हुई है. अकेले दम पर पार्टी को उत्तराखंड में 61, उत्तर प्रदेश में 49.6, त्रिपुरा में 49.1, राजस्थान में 58.5, दिल्ली में 56.6 ,मध्य प्रदेश में 58, कर्नाटक में 51.9, झारखंड में 51, हिमाचल में 69, हरियाणा में 58, गुजरात में 62, गोवा में 51, छत्तीसगढ़ में 50.7, चंडीगढ़ में 50.64, और अरुणाचल में 58 फीसद वोट मिले हैं. इन 17 राज्यों से भाजपा को 257 और सहयोगियों को 45 सीटें हासिल हुई हैं.

भाजपा प्रवक्ता और राज्यसभा सांसद जीवीएल नरसिंह राव कहते हैं, ''न सिर्फ इस साल बल्कि अगले तीन साल तक जहां भी विधानसभा के चुनाव होने हैं, वहां पार्टी को प्रचंड बहुमत मिलेगा. यह तय है कि बहुत जल्द ही पूरे देश में भाजपा का वोट शेयर 50 फीसद हो जाएगा.'' अगले साल (2020) प्रमुख राज्य बिहार और दिल्ली में चुनाव होने हैं. 2021 में पश्चिम बंगाल और फिर 2022 में उत्तर प्रदेश ऐसे प्रमुख राज्य हैं जहां विधानसभा के चुनाव होने हैं. इन राज्यों में सिर्फ बंगाल (40.3 फीसद) को छोड़कर बाकी में भाजपा का वोट प्रतिशत 50 फीसदी के आसपास है.

हालांकि कई विश्लेषकों का मानना है कि हर चुनाव के अपने समीकरण और मुद्दे होते हैं इसलिए जरूरी नहीं कि मौजूदा वोट प्रतिशत आगे भी बरकरार रहे. इसका उदाहरण 2014 के लोकसभा चुनावों के साल भर के भीतर हुए दिल्ली विधानसभा के चुनाव हैं जब भाजपा का वोट प्रतिशत 46 से घटकर 33 पर आ गया था. तो, मौजूदा मामले में इतने बड़े वोट शेयर को बरकरार रखने की भाजपा नेताओं की उम्मीद की वजह क्या है?

भाजपा के एक वरिष्ठ नेता की दलील है, ''पार्टी के लिए यह कठिन इसलिए नहीं है क्योंकि मोदी सरकार कल्याणकारी योजनाओं का लाभ लोगों तक सही तरीके से पहुंचा रही है और पार्टी संगठन भी लगातार लोगों के संपर्क में है. आने वाले विधानसभा चुनावों में पार्टी 50 फीसद से अधिक वोट जरूर हासिल करेगी.''

भाजपा मीडिया सेल के प्रमुख अनिल बलूनी कहते हैं, ''भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने 50 फीसद वोट का जो लक्ष्य तय किया था, वह देश के ज्यादातर राज्यों में हासिल हो गया है. जल्द ही दूसरे राज्यों में भी हम इस लक्ष्य को पा लेंगे.'' भाजपा के एक वरिष्ठ नेता कहते हैं कि भाजपा का वोट प्रतिशत बढ़ाने का अभियान यही नहीं थमता. अंडमान, असम,  दादर नगर हवेली, दमन दीव, जम्मू-कश्मीर, ओडिशा, और पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों में 35 फीसद से लेकर 45 फीसदी तक वोट शेयर भाजपा के पास है. अब देखना यह है कि भाजपा और अमित शाह की उम्मीदें किस कदर परवान चढ़ती हैं.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay