एडवांस्ड सर्च

जनादेश 2019ः बंगाल में तृणमूल पर कसता मोदी का घेरा

हाल के वर्षों में नरेंद्र मोदी की वह छवि मजबूत हुई है कि अगर ममता बनर्जी के बेरहम तौर तरीकों को कोई मात दे सकता है तो वो मोदी ही हैं.

Advertisement
aajtak.in
मंजीत ठाकुर नई दिल्ली, 30 May 2019
जनादेश 2019ः बंगाल में तृणमूल पर कसता मोदी का घेरा चिंता की बातः ममता बनर्जी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 मई को पश्चिम बंगाल के बशीरहाट में एक रैली को संबोधित करते हुए बांग्ला में एक नारा दिया ''उनीशेई साफ (2019 में ही साफ).''  नरेंद्र मोदी का यह नारा पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के नारे, ''दू-हजार उनिश/बीजेपी फिनिश'' (2019 में भाजपा समाप्त हो जाएगी)’’ के जबाव में था. नरेंद्र मोदी के नारे पर वहां मौजूद भीड़ ने पूरे दमदार तरीके से जयघोष करते हुए प्रतिक्रिया दी थी.

तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के नेताओं से आजिज आ चुकी, पश्चिम बंगाल की 10 करोड़ आबादी को एक ऐसे नेता की तलाश थी जो ममता बनर्जी का उन्हीं के अंदाज में जोरदार मुकाबला कर सके. ऐसे लोगों का मानना है कि वे नरेंद्र मोदी ही हैं जो पश्चिम बंगाल को दीदी (ममता बनर्जी) के उस तृणमूल तोलाबाजी टैक्स से निजात दिला सकते हैं, जिसके तहत लोगों को कॉलेज में प्रवेश पाने के लिए, या अन्य कामों के अलावा सरकारी स्कूलों में शिक्षक के रूप में बहाल होने के लिए टीएमसी को पैसे देने पड़ते हैं.

ममता बनर्जी के दमदार प्रतिद्वंद्वी के रूप में नरेंद्र मोदी की छवि लगातार मजबूत हो रही थी. उन्होंने मौजूद भीड़ से कहा, ''जितना अधिक आप 'मोदी मोदी' के नारे लगाते हैं, उतनी ही उनकी आंखों से नींद गायब हो जाती है. वे गुस्से में बौखला कर मुझे गालियां देती हैं. मैंने बंगाल के लोगों के प्यार की ताकत से दीदी के क्रोध का सामना करने की शक्ति पैदा कर ली है.''

सत्ता विरोधी लहर के इस मिजाज को भांपते हुए, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने डेढ़ साल पहले बंगाल के विजय अभियान की अपनी योजना बनाई थी. उनकी योजना में संगठन को अंदरूनी रूप से मजबूत करना शामिल था. इसके साथ ही टीएमसी के नंबर दो रहे मुकुल रॉय जैसे नेताओं को पार्टी में लेकर आना और ममता बनर्जी के कथित अल्पसंख्यक तुष्टीकरण के माहौल के बीच हिंदुत्व के पुनरुत्थान की जमीन तैयार करना भी उनकी योजना में शामिल था. अमित शाह ने पश्चिम बंगाल में बड़ा लाभ हासिल करने के लिए वे सारे सही कदम उठाए जो उन्हें उठाने चाहिए थे. ये कदम सफल होते भी नजर आए.

अमित शाह ने राज्य की 42 लोकसभा सीटों में से 23 सीटों को जीतने का लक्ष्य रखा और साल 2021 के विधानसभा चुनावों में स्पष्ट जीत हासिल करने का खाका खींचा. राज्य में चुनावों से पहले ही, संशयवादियों ने अमित शाह के इस लक्ष्य को अव्यवहारिक करार दिया था. वे मानते थे कि बंगाल हिंदीपट्टी की तरह जाति और समुदाय की राजनीति से अलग चलता है और यहां धर्मनिरपेक्ष वाम विचारधारा का ही प्रभाव रहता है.

लेकिन भाजपा ने भांप लिया था कि पश्चिम बंगाल बदलाव को आकुल है. कोलकाता के प्रेसिडेंसी कॉलेज में शिक्षक और समाज विज्ञानी प्रशांत रे कहते हैं, ''सत्ता विरोधी लहरें इतनी ऊंची उठ रही थीं कि यहां तक कि बंगाल में चतुष्कोणीय राजनैतिक बिसात के बावजूद टीएमसी और भाजपा के बीच आमने-सामने की लड़ाई की जमीन तैयार हो गई थी. वामपंथी और कांग्रेस जहां भी टीएमसी के लिए चुनौती नहीं बन रही थीं. उन्होंने अपना वोट शेयर भाजपा को हस्तांतरित कर दिया. इसीलिए वामपंथियों के वोट शेयर में 22 प्रतिशत की गिरावट आई है जो कि भाजपा के उसी अनुपात में हुई समानुपातिक वृद्धि से स्पष्ट है.''

प्रेसिडेंसी विश्वविद्यालय के राजनीति विज्ञान विभाग के पूर्व अध्यक्ष अनीक चटर्जी कहते हैं, ''एक नए नेतृत्व के अभाव में साल 2011 के बाद से वामपंथियों का ग्राफ लगातार गिरता जा रहा था और इस बात को लेकर भी उनमें भ्रम था कि वामपंथियों का असल दुश्मन कौन है—तृणमूल या भाजपा? और उनका मित्र कौन है कांग्रेस या भाजपा?''

ममता बनर्जी भाजपा के अलावा किसी अन्य पार्टी को नहीं कोस रही थीं और इस तरह राजनैतिक ध्रुवीकरण के लिए इस बार काफी हद तक वही जिम्मेदार हैं. उसका परिणाम क्या हुआ? भगवा पार्टी के वोट शेयर में उल्लेखनीय वृद्धि हो गई—साल 2014 में 17 फीसदी से बढ़कर 2019 में भाजपा का वोट शेयर 40 फीसदी हो गया.

इस ध्रुवीकरण की वजह से टीएमसी को एक ऐसी पार्टी के रूप में देखा जा रहा था जो अल्पसंख्यक समुदाय को लेकर बहुत नरम थी जबकि भाजपा ने खुद को बहुसंख्यक हिंदुओं की पार्टी के रूप में पेश किया. एक ही मंच से हिंदू श्लोकों और इस्लामी सिद्धांतों का पाठ करके ममता बनर्जी ने धर्मनिरपेक्ष दिखने का जो प्रयास किया वह कारगर नहीं रहा. वहीं, मुसलमानों ने टीएमसी के लिए एकमुश्त वोट नहीं किया, लेकिन बांग्लादेश की सीमा से लगे क्षेत्रों के बंगाल के हिंदू एकजुट रहे. भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष जय प्रकाश मजूमदार का कहना है, ''इस बार हमें कम से कम पांच से छह फीसदी मुस्लिम वोट भी मिले.''

जाधवपुर विश्वविद्यालय के पूर्व प्रोफेसर मोहित रे कहते हैं, ''नरेंद्र मोदी की हिंदू शरणार्थियों को भारतीय नागरिकता देने और नागरिकता अधिकारों के लिए राष्ट्रीय रजिस्टर को तैयार करने के भरोसे ने भाजपा को 10-12 सीटों पर बढ़त दिलाई.''

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष को लगता है कि अपने अधिकारों के प्रति सचेत रहने की आवश्यकता जरूरी हो गई है. वे कहते हैं, ''मुख्यमंत्री ने रथयात्रा या संकल्प यात्रा की अनुमति नहीं दी और रैलियों में आने वाले हमारे नेताओं के हेलिकॉप्टर बंगाल में न उतरें, इसके लिए उन्होंने गंदी राजनीति की.'' हालांकि, चुनाव विश्लेषक योगेंद्र यादव कहते हैं, ''अगर टीएमसी 1960 के दशक के आखिर की अराजकता की वापसी का प्रतिनिधित्व करती है, तो भाजपा का उदय 1940 के सांप्रदायिक नरसंहार के दौर की वापसी का संकेत देता है.''

इस बात की चर्चा पहले से ही है कि अपनी जीत को लेकर आश्वस्त नहीं दिख रहे टीएमसी के सांसद और असंतुष्ट विधायक, भाजपा के संपर्क में हैं. टीएमसी से भाजपा में शामिल हुए मुकुल रॉय का दावा है, ''जल्द ही चीजें ऐसे मोड़ पर पहुंच जाएंगी कि ममता सरकार नहीं चला पाएंगी.’’

इस बीच, मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपने आप को कालीघाट स्थित अपने घर के एक कमरे में बंद कर लिया था. वे खुद को संयत करने के लिए सिंथेसाइजर बजा रही थीं और कविता लिख रही थीं. अब उन्होंने दीवार पर लिखी इबारत को स्वीकार कर लिया है, लेकिन वे पलटवार करेंगी. ममता बनर्जी ने ट्वीट किया, ''विजेताओं को बधाई. लेकिन जो हार गए हैं वे हारे नहीं हैं. हमें इसकी व्यापक समीक्षा करनी होगी'' ठ्ठ

''बंगाली हिंदू मतदाताओं को नरम रूख के साथ भाजपा के कट्टर हिंदुत्व की बात जंच गई... मस्जिद के विध्वंस जैसा कोई विध्वंसक एजेंडा नहीं था, लेकिन हिंदुओं को उनके अस्तित्व को लेकर सचेत होने की एक भावनात्मक अपील थी''

अनीक चटर्जी

राजनीति विज्ञान विभाग के पूर्व अध्यक्ष, प्रेसिडेंसी यूनिवर्सिटी

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay