एडवांस्ड सर्च

उत्तर भारत के दिग्गजः ताकतवर-रसूखदार

उत्तर भारत में शक्ति के मुख्यत: पांच स्रोत हैं: राजनीति और सरकार, कारोबार, मनोरंजन, धर्म और मीडिया. खेलकूद और सिनेमा-टीवी को मनोरंजन के दायरे में रख सकते हैं. मजेदार बात यह है कि न तो दिग्गज लोग, न ही शक्ति के ये पांच स्रोत स्थायी हैं. वे वक्त, सरकार और जनता का मूड बदलने के साथ बदल जाते हैं. मिसाल के तौर पर उत्तर प्रदेश और बिहार में 1989 तक कांग्रेस का राज हुआ करता था.

Advertisement
aajtak.in
मोहम्मद वक़ास 23 October 2019
उत्तर भारत के दिग्गजः ताकतवर-रसूखदार उत्तर भारत के दिग्गज

प्रतिष्ठानों में लोगों और विचारों को आत्मसात करने की अपार क्षमता होती है और वे लगातार विस्तृत होते रहते हैं. उत्तर भारत के सत्ता प्रतिष्ठान इसके अपवाद नहीं हैं. वे भले ही अमूर्त हों पर निरंतर बने रहते हैं. देश के बाकी हिस्सों ही तरह उत्तर भारत में भी सरकार ही सबसे शक्तिशाली आर्थिक और सामाजिक इंजन है. यही वजह है कि सबसे ज्यादा प्रभावशाली लोग वे हैं जो सियासी ओहदों पर बैठे हैं या अपने-अपने प्रदेशों में नौकरशाही के शीर्ष पदों पर हैं. लेकिन इस सूची में केवल अपने पदों की बदौलत प्रभावशाली बने लोग ही नहीं हैं, बल्कि अपनी योग्यता, क्षमता, कौशल और कुछ कर दिखाने की अदम्य इच्छा की वजह से अपना असर बनाने वाले दिग्गज भी शामिल हैं.

उत्तर भारत में शक्ति के मुख्यत: पांच स्रोत हैं: राजनीति और सरकार, कारोबार, मनोरंजन, धर्म और मीडिया. खेलकूद और सिनेमा-टीवी को मनोरंजन के दायरे में रख सकते हैं. मजेदार बात यह है कि न तो दिग्गज लोग, न ही शक्ति के ये पांच स्रोत स्थायी हैं. वे वक्त, सरकार और जनता का मूड बदलने के साथ बदल जाते हैं. मिसाल के तौर पर उत्तर प्रदेश और बिहार में 1989 तक कांग्रेस का राज हुआ करता था.

वक्त के साथ राजनीति और लोगों का मूड बदला और साथ ही बदल गया सत्ता प्रतिष्ठान. अब से तीन दशक पहले किसी ने भी नहीं सोचा होगा कि गोरखनाथ मंदिर का मुख्य पुजारी उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनेगा! भाजपा अगर सत्ता में न होती तो यह मुमकिन नहीं था. फिर सत्ता के तंत्र में उन्हीं के विचारों वाले लोग प्रभावी हो गए.

आगे के पन्नों पर उत्तर भारतीय दिग्गजों का ब्यौरा है, जो विभिन्न क्षेत्रों में कार्यरत हैं. वे सब भविष्य के मंसूबों के साथ वर्तमान में मौजूद हैं. वे अपने-अपने राज्य और क्षेत्रों की नीतियां गढ़ते हैं, सरकारी फाइलें आगे बढ़ाते हैं, सार्वजनिक बहस छेड़ते हैं, कारोबार के संकेतकों को साधते हैं. ये सब समय से जुड़े होते हैं. इसमें कोई संदेह नहीं कि इनमें से कई अगले साल भी इस सूची में शामिल रहेंगे लेकिन अगले साल उत्तर भारत के दिग्गजों की सूची में अगर कोई बदलाव नहीं हुआ तो यह अपने आप में चमत्कार होगा.

शक्ति की प्रकृति ऐसी ही होती है—अनस्थिरता ही इसका स्थायी भाव होता है.दिग्गजों की यह सूची उत्तर भारत के समाज का आईना है: नेता, अभिनेता, नौकरशाह, व्यापारी, आध्यात्मिक गुरु, पत्रकार, खिलाड़ी, सामाजिक कार्यकर्ता, अध्यापक, आदि. उनकी पृष्ठभूमि भी इतनी ही विविध है.

यह सूची अवधारणा के आधार पर तैयार की गई है, लिहाजा इसमें कुछ लोग अपनी गैर मौजूदगी से नुमायां लग सकते हैं, और संभवत: अगले साल वे इसमें शामिल हो जाएं. दिग्गजों की इस सूची में कोई रैंकिंग नहीं है, क्योंकि इसमें उन्हीं दिग्गजों को जगह दी गई है जो अपने-अपने राज्य या क्षेत्र में अपरिहार्य हैं.

वैसे, उत्तर भारत के दिग्गजों में कोई बुद्धिजीवी या विचारक नहीं है. शायद देश के इस हिस्से में उनकी खास अहमियत भी नहीं है!

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay