एडवांस्ड सर्च

लुधियाना: पंख फैलाने का मौका

अब राज्य में 25 एकड़ भूमि की संशोधित नीति के बाद ग्रुप हाउसिंग स्कीम्स के दौर के आने की संभावनाओं में हुआ जबरदस्त इजाफा.

Advertisement
राजू विलियमलुधियाना, 12 March 2013
लुधियाना: पंख फैलाने का मौका ग्रुप हाउसिंग

राज्य सरकार की पंजाब में आवासीय कॉलोनी बनाने के लिए न्यूनतम 25 एकड़ भूमि की संशोधित नीति ने लुधियाना में हाइराइज ग्रुप हाउसिंग स्कीम्स को जबरदस्त उछाल दिया है. अब यहां हर दिन के साथ आकाश छूती इमारतों की संख्या में जबरदस्त इजाफा होने की उम्मीदें सिर उठाने लगी हैं. इसके अलावा दूसरे कारकों में सुरक्षा की जरूरत, पूर्ण पावर बैकअप, पर्याप्त पार्किंग स्पेस, भूकंपरोधी मकान और लाइफस्टाइल से जुड़ी चीजें जैसे क्लब की जरूरत भी इस चलन को आगे बढ़ा रही हैं. डिस्ट्रिक्ट टाउन प्लानिंग विभाग के एक आला अधिकारी ने बताया, ''यह चलन 2007 के आसपास शुरू हुआ जब राज्य सरकार ने आवासीय कॉलोनी के लिए दस एकड़ जमीन की अपनी पुरानी नीति में संशोधन किया. नई नीति के मुताबिक इसे आवासीय उद्देश्यों के लिए मंजूर इलाकों में बढ़ाकर 25 एकड़ कर दिया गया है. जमीन की बढ़ती कीमतों और इस नीति ने मिलकर ऐसी स्थिति बना दी है कि विशाल भूखंडों की जरूरत धीरे-धीरे कम होती जा रहा है”

इसके बाद ही स्थानीय डेवलपरों ने खुद को टिकाए रखने के लिए बहुमंजिला इमारतों की ओर रुख किया. उन्होंने पांच-छह एकड़ में फैली पांच-छह मंजिल की इमारतें बनानी शुरू की. इनमें प्रमुख हम्ब्रान रोड पर गोल्फ लिंक्स, फिरोजपुर रोड पर बसेरा हाइट्स और रंजीत एवेन्यू हैं. सरकारी मंजूरी के बावजूद कई अन्य डेवलपर अभी रियल एस्टेट में आई मंदी के कारण काम को रोके हुए हैं.

ओमैक्स ने शहर के बाहरी इलाके पखोवल रोड पर 13 मंजिला रॉयल रेजिडेंसी बनाई है जो शहर की सबसे ऊंची इमारतों में से एक है. इसे इंटिग्रेटेड टाउनशिप के तौर पर बनाया गया है जिसमें 65 फीसदी हरित क्षेत्र के अलावा मल्टीप्लेक्स, क्लब हाउस, एससीओ और स्कूल इत्यादि हैं.

एक स्थानीय कारोबारी करम सिंह ने सुरक्षा कारणों से शहर में अपने 7,000 वर्ग फुट पर बने मकान को छोड़कर यहां तीन बेडरूम का अपार्टमेंट ले लिया है. निर्माण पूरा होते ही यहां आने की योजना बना चुके करम सिंह ने बताया, ''हमारे माता-पिता के गुजरने के बाद परिवार में सिर्फ चार लोग बचे हैं. मेरे बच्चे जब स्कूल में रहते हैं और पत्नी घर में अकेले, तो मैं सुरक्षा चाहता हूं इसलिए मुझे लगा कि यह सबसे बढिय़ा समाधान होगा.”

कंपनी के सीनियर मैनेजर, सेल्स ऐंड मार्केटिंग, सुरिंदर मोहन लांबा ने बताया कि अब तक रॉयल रेजिडेंसी में 75 फीसदी यूनिट बिक चुकी हैं. चार टावर में कुल 515 यूनिट बनाई जा रही हैं, जिनमें दो, तीन और चार बेडरूम के फ्लैट और पांच बेडरूम का पेंटहाउस है. हर टावर करीब दो एकड़ में फैला है. इनकी कीमत 39 लाख से 1.40 करोड़ रु. के बीच है. उन्होंने दावा किया, ''प्रोजेक्ट में तमाम अन्य चीजों के साथ बिजनेस क्लास, सर्विस क्लास और एनआरआइ समेत बाहर आने-जाने वाले लोगों के हिसाब से जीवनशैली की तमाम सुविधाएं हैं.” मल्होत्रा बुक डिपो के मालिकों का एमबीडी नियोपोलिस एक होटल, मॉल और मल्टीप्लेक्स का मिश्रण है जो 120 फुट के साथ शहर की सबसे ऊंची व्यावसायिक इमारत होगी. यह फिरोजपुर रोड पर है. यह 2011 में शुरू हुआ था. इसका निर्माण पूरा होने में तीन साल लगेंगे. यह करीब 100 फुट ऊंचे वेस्ट एंड मॉल के करीब तीन एकड़ जमीन पर बन रहा है.

यह सब 2007 के बाद से शुरू हुए बहुमंजिला इमारतों को बनाने के चलन का हिस्सा है. दो अन्य मल्टीप्लेक्स मल्हार रोड पर फ्लेम्ज और भाइबाला चौक पर ओमैक्स प्लाजा भी करीब इतने ही ऊंचे हैं. फाउंटेन चौक पर भारती एयरटेल का बन रहा एक और मल्टीप्लेक्स यदि प्रस्तावित 150 फुट तक बन गया, तो यह शहर की सबसे ऊंची इमारत होगी.

एक स्थानीय बिल्डर के मुताबिक, ''ऊंची इमारतें बनाने से जहां जमीन का इस्तेमाल कम होता है वहीं खाली एरिया भी ज्यादा बच जाता है, जिसका इस्तेमाल पर्यावरण के हित में किया जा सकता है.” अब लुधियाना भी आकाश छूते विकास के इस नए ककहरे को बखूबी सीख रहा है और आने वाले समय में यह इसका एक बड़ा खिलाड़ी भी बन सकता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
  • Aajtak Android App
  • Aajtak Android IOS
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay