एडवांस्ड सर्च

लोकतांत्रिक मगर अटल

बॉस होने के नाते वाजपेयी को अपना अधिकार जताने की जरूरत वाकई नहीं थी. अलबत्ता शांत और अक्सर उनींदे हाव-भाव के पीछे उस सजग शख्स का लगातार काम कर रहा दिमाग होता था जो तौर-तरीकों में लोकतांत्रिक होते हुए भी अपने विश्वासों में अटल था

Advertisement
शक्ति सिन्हानई दिल्ली, 29 August 2018
लोकतांत्रिक मगर अटल दृढ़ निश्चयी बगैर कहे अटल बिहारी वाजपेयी ने साफ कर दिया था कि कामकाज के मानक बहुत ऊंचे हैं और उनके क

अटल बिहारी वाजपेयी को बॉस के दर्जे में रख पाना मुश्किल और इसके बावजूद आसान भी है. पहली बात तो मुझे यह समझनी पड़ी—और ऐसा करने में मुझे वाकई बहुत लंबा वक्त लगा—कि उन्हें उनकी सीमाओं के साथ स्वीकार करना होगा. कुछ समय बाद ही मुझे यह एहसास हुआ कि उन्हें कुछ भ्रम थे, साथ ही वे जबरदस्त आत्मविश्वास से भरे थे. शुरुआत में यह आसान काम नहीं था, क्योंकि वे अपनी खामोशी में खासे मगन थे और मैं यह सोचता रह जाता था कि मुझसे क्या करने की उम्मीद की जा रही थी.

जून 1996 में यह खासा मुश्किल हो गया, जब वे लोकसभा में विपक्ष के नेता बने. उनसे जुड़े मुझे मुश्किल से दो हफ्ते ही हुए थे. मुझे एक अनजान इलाके में धकेल दिया गया था. ऐसा इससे पहले कभी नहीं हुआ था कि एक आइएएस अफसर विपक्ष के नेता के सचिव का काम कर रहा हो. छोटा-सा दफ्तर था और घर से काम करते हुए उसमें वे, मैं और एक तीसरा निचला कारिंदा था जो फोन सुनता था.

धीरे-धीरे चीजें ढर्रे पर आ गईं. मैं उनके पास आने वाली कुछेक सौ चिट्ठियां पढ़ता था, जिन्हें मैं जवाब देने लायक समझता था उनके जवाब तैयार करता था और बाकी चिट्ठियों को संबंधित सरकारी महकमों को भेज देता था. बेहद जरूरी चिट्ठियों के जवाब वे खुद हाथ से लिखते और कई बार मैं जो जवाब तैयार करता था उन्हीं पर लिख देते थे.

उन्हें किसी न किसी आयोजन में मुख्य अतिथि के तौर पर बुलाया ही जाता था, इसलिए मुझे उनके भाषण भी लिखने होते थे. मुझे एक खास आयोजन की याद है जो सेंटर फॉर साइंस और एनवायरनमेंट में था; उन्होंने मेरे सारे मसौदे नामंजूर कर दिए, आखिर में मुझसे कहा कि मैं निबंध लिख रहा था, भाषण नहीं.

उन्होंने कई बदलाव किए और भाषण बहुत अच्छा बन गया. यह मेरे लिए एक सबक था. धीरे-धीरे मुझे एहसास हुआ कि शांत और अक्सर उनींदे हाव-भाव के पीछे इस सजग शख्स का लगातार कड़ी मेहनत से सोच रहा दिमाग है जिसे अहम मुद्दों पर आसानी से संतुष्ट नहीं किया जा सकता.

विदेश मंत्रालय का तैयार किया हुआ 200 पन्नों का देश का संक्षिप्त ब्योरा महज एक शाम भर में आत्मसात कर लिया जाता था. इससे मेरा जीना मुश्किल हो जाता क्योंकि इसका मतलब था कि मुझे भी पढऩा पड़ता था. वे "बड़े चित्र'' को दिमाग में रखने वाले शख्स थे, पर ऐसे शख्स भी थे जो असंबद्ध नजर आ रही बातों के बीच की कडिय़ों को पकड़ सकते थे. छोटी से छोटी बात भी उनकी नजर से बच नहीं पाती थी.

यह तब और साफ होता जब वे टीवी के लिए भाषण रिकॉर्ड करवाते थे. वे रिकार्डिंग को कई बार दोहराने को तैयार रहते थे, जब तक कि उसमें एक भी खामी बाकी न बचे. इस अनंत धैर्य का मतलब यह नहीं था कि मौका भांपकर वे बहुत तेजी से कदम नहीं उठाते थे.

लाहौर की जिस यात्रा ने एटमी ताकत से लैस भारत को देखने का दुनिया का अंदाज बदल दिया, वह हुई ही न होती अगर उन्होंने नवाज शरीफ के एक इंटरव्यू की उस बात को झपट नहीं लिया होता, जिसमें उन्होंने कहा था कि लाहौर में श्री वाजपेयी की मेजबानी करके उन्हें बेहद खुशी होगी.

विदेश मंत्रालय ने तो औपचारिक न्यौता मिलने के बाद ही प्रतिक्रिया देने का सुझाव दिया था, पर इसके उलट वाजपेयी ने कहा कि उन्हें लाहौर जाकर खुशी होगी. वैसे इस यात्रा का नतीजा करगिल की जंग था, पर यह मकसद हासिल कर लिया गया कि पाकिस्तान के साथ भारत का संबंध अपनी शर्तों पर होगा. दूसरे मौकों पर अलबत्ता वे तमाम पक्षों को पूरी तरह सुनने के लिए तैयार रहते थे.

बॉस के तौर पर उनकी जो बात मुझे याद है, वह रोज सुबह के नाश्ते पर होने वाली बातचीत थी, जिसमें ब्रजेश मिश्र और अशोक सैकिया हमेशा होते थे. हर कोई अखबार पढ़ता, अहम बातों की चर्चा होती, दृढ़ता मगर विनम्रता से नाइत्तफाकियां जाहिर की जातीं, दिन का एजेंडा तय किया जाता, और सभी को शाम को लौटकर रिपोर्ट देनी होती.

यह सब खासा माथापच्ची वाला और लोकतांत्रिक था, पर आखिरी फैसला वही लेते. उन्हें अपना अधिकार जताने की जरूरत नहीं पड़ती, पर वे अधिकार जता नहीं सकते यह मान लेना भी गलती थी.

लेखक साढ़े तीन साल वाजपेयी के निजी सचिव रहे थे

***

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay