एडवांस्ड सर्च

प्रकृति को आजाद करने की मांग रोमांटिक ख्याल भर नहीं

प्रकृति को आजाद करने की मांग क्या एक "रोमांटिक ख्याल'' भर है? क्या अन्य जीव-जंतुओं के हक का सम्मान करने की बात मखौल का विषय है? जंगलों के नष्ट होने से न सिर्फ निरीह वन्यजीवों के लुप्त होने का खतरा बढ़ रहा है, बल्कि इनसानों को भी इसके दुष्परिणाम झेलने होंगे.

Advertisement
Sahitya Aajtak 2018
अमिता बविस्करनई दिल्ली, 15 August 2018
प्रकृति को आजाद करने की मांग रोमांटिक ख्याल भर नहीं इलेस्ट्रशनः तन्मय चक्रव्रर्ती

पश्चिमी और पूर्वी घाटों के संगम पर स्थित हैं दक्षिण-पूर्व कर्नाटक की बिलिगिरि रंगन पहाड़ियां. यहां एक परितंत्र का वन्य जीव दूसरे परितंत्र के जीवों के साथ साझेदारी का विकास करके जैविक श्रृंखला का एक अनोखा समन्वय पेश करता है जिसके अंदर विविध जीवों के बीच जीनों के परस्पर संबंध की नई ही कडिय़ां विकसित हो रही हैं.

हाथी, बाघ और मनुष्य मानो कहानियों के झरोखे से साकार हो उठे मनोरम दृश्यों का लुत्फ उठाते हैं तो कीट-पक्षी, सांप और मेढक जैसे जीव भी इस जगह आजाद घूमते दिखते हैं. घूमने-फिरने की इस प्रक्रिया में अनजाने में हवा के साथ ये पराग और बीजों को भी एक जगह से दूसरी जगह पहुंचा देते हैं. फूल या फल हो या वन्यजीवों का मल हो, सभी इस जंगल को हरा-भरा और खूबसूरत बनाए रखने में सहायक होते हैं.

लेकिन, अनजाने में पक्षियों और अफ्रीकी लंगूरों ने कुछ ऐसे बीज इस जंगल में बिखेर दिए हैं जो इसकी मौत का सामान बन रहे हैं. अमेरिकी उष्णकटिबंध में उपजने वाली लैंटाना कैमरा एक खूबसूरत झाड़ी है जिसके बेहद आकर्षक फूल और बैंगनी फल परागण करने वाले पशु-पक्षियों को अपनी ओर चुंबक की तरह खींच लेते हैं. पर इसकी खतरनाक खूबसूरती ने ही जंगल में स्वाभाविक तौर पर उपजने वाले पेड़-पौधों के वजूद पर ग्रहण लगा दिया है.

लैंटाना बिलिगिरि पहाड़ियों पर इतनी ऊंचाई तक बढ़ जाता है कि इसमें ऊंचा तगड़ा हाथी भी छिप जाए. यह इतना घना हो जाता है कि जंगल के सामान्य पेड़़-पौधों के अंकुरों को सूरज की रोशनी नसीब ही नहीं होती और वे पनप नहीं पाते.

दूर से ये पहाडिय़ां घने पेड़ों से हरी-भरी नजर आती हैं, पर नजदीक जाने पर मालूम होता है कि वहां किसी नए पेड़ को तो बढ़ने का मौका मिला ही नहीं. ऐसा ही रहा तो कुछेक दशकों बाद यह जंगल मर जाएगा.

यह सिर्फ बिलिगिरि की कहानी नहीं. लैंटाना अजगर की तरह जंगलों की नैसर्गिक  हरी-भरी संपदा को लील रहा है. दुनिया भर में, जंगलों को राजमार्गों, बांधों और अन्य परियोजनाओं के नाम पर बेदर्दी से काटा जा रहा है और उसकी जगह वृक्षारोपण और खेतों को बचाने के कोई प्रयास नहीं हो रहे.

ब्राजील के अमेजोनिया में महज 5.5 किमी की एक सड़क के दायरे में करीब 95 फीसदी जंगल काट दिया गया. सुदूर स्थित जगहों को भी इनसानों की नजर लग चुकी है. हमारे उपभोक्तावाद से उपजे दुष्परिणाम उत्तरी प्रशांत महासागर की छाती को भी विषाक्त कर रहे हैं जहां 16 लाख वर्ग किलोमीटर में प्लास्टिक, रासायनिक कचरा और मानव निर्मित मलबे का एक विशाल टुकड़ा पानी में तैर रहा है.

भारत के प्राकृतिक जंगलों में भी कुदरती तौर पर उपजने वाले पेड़़-पौधों को काटकर बाजार में मुनाफा कमाने वाले पेड़ बेतहाशा लगाए जा रहे हैं. जंगली नदियों की दिशा बदल कर उन्हें बांध दिया गया है. उनकी जल बहाव की स्वाभाविक बाढ़ के रास्ते बंद कर उन्हें कचरे से भर दिया गया है.

घास के सूखे मैदानों को "बंजर'' ठहरा दिया गया है जो गोडावण पक्षियों (ग्रेट इंडियन बस्टर्ड) का आश्रय स्थल है. बाद में इसे सिंचाई और सड़कों से जोड़कर "विकास'' का जामा ओढ़ाकर और विदेशी पौधों से सजाकर एक जटिल और नाजुक संतुलन वाले भरे जंगल का रूप दे दिया गया है.

इसे वापस अपने पुराने रूप में लाना असंभव है. यहां तक कि हमारे राष्ट्रीय उद्यानों के अंदर स्थित वन्यजीवन और वन्यजीव अभयारण्य भी गश्त लगाते बंदूकधारी गार्ड, विशाल परियोजनाओं, सड़कों, आक्रामक प्रजातियों और अन्य प्रकार के अतिक्रमणों से सुरक्षित नहीं, जिन्हें आसपास के ग्रामीण इलाकों से दूर कथित तौर पर संरक्षित रखा गया है.

प्रकृति को आजाद करने की मांग क्या एक "रोमांटिक ख्याल'' भर है? क्या अन्य जीव-जंतुओं के हक का सम्मान करने की बात मखौल का विषय है? जवाब इस पर निर्भर करता है कि कौन-सी प्रजातियां, कहां और किस कीमत पर. क्या हम एक ऐसी दुनिया की कल्पना कर सकते हैं जिसमें सभी प्रजातियों-एनोफेलीज मच्छर से लेकर जीका वायरस और हम्प बैक्ड व्हेलों और मधुमक्खियों के बीच के सभी जीवों—के लिए जगह हो?

कुदरत की देखभाल करने के लिए उस पर कुल्हाड़ी की गाज गिराने  की बजाए क्या हम उसके कुदरती संतुलन के साथ लय मिला कर काम नहीं कर सकते जैसा कि कुछ समुदायों ने किया है और उसे जारी रखा है? क्या हम दूसरों पर उनके संरक्षण का जिम्मा थोपने की बजाए खुद आगे बढ़कर अपनी उपभोक्तावादी प्रकृति को संयमित कर वन्यजीवों के वजूद को उनका जन्मसिद्ध हक देते हुए यह काम नहीं कर सकते? क्या हम आर्थिक और राजनैतिक व्यवस्थाओं को नहीं सुधार सकते जो कुदरत की मौत को न्योता दे रही हैं? 

वर्षों से प्रयास के नाम पर हम कुछ सार्थक नहीं कर पाए हैं. महाराष्ट्र में एक मेधा लेखा, आंध्र प्रदेश में टिम्बकटू कलेक्टिव, नगालैंड के ग्रामीणों के अमूर बाजों को बचाने के प्रयास उम्मीद की किरण तो जगाते हैं पर वे इतने छोटे स्तर पर हैं और इस तरह बिखरे हुए हैं कि उनका बरकरार रहना या प्रभावी होना मुश्किल लगता है. एंथ्रोपोसिन के जमाने में हम कुदरत को आजाद कराने की लड़ाई में हार रहे हैं.

प्रकृति लचीली है. यह किसी ना किसी रूप में जिंदा रहती है. लेकिन सड़क के किनारे जहां-तहां फैल गई खर-पतवार हो या शहरों में अपनी बड़ी आबादी के साथ जीते कबूतरों और चीलों से पर्यावरण की जटिल संरचना तैयार नहीं हो सकती. भारत के जंगलों, घास के मैदानों और दलदली भूमि, गर्म और ठंडे रेगिस्तानों, पहाड़ों, नदियों और तटीय इलाकों में हजारों किस्म के जीव-जंतुओं और अनगिनत नस्ल के पेड़-पौधों का जीवंत संसार बसा है.

यह जैव विविधता बहुत व्यापक है. देश के हर क्षेत्र विशेष के जीव जगत की सांस की डोर उसी खास पर्यावरण की जैव-विविधता से जुड़ी है. जंगलों के नष्ट होने से न सिर्फ निरीह वन्यजीवों के लुप्त होने का खतरा बढ़ रहा है, बल्कि इनसानों को भी इसके दुष्परिणाम झेलने होंगें.

नो मैन इज एन आइलैंड,...

एनी मैन्स डेथ डिमिनीशेज मी,

बिकॉज आइ एम इन्वॉल्व्ड इन मैनकाइंड.

(इनसान कोई द्वीप नहीं,...

एक भी इनसान की मौत से लुप्त होता है मेरा अस्तित्व

क्योंकि मानवजाति की शृंखला का मैं हिस्सा हूं.)

"मनुष्य'' को "जीव'' और "मैनकाइंड'' को "जीवन के संजाल'' में बदलें फिर देखिए कि जॉन डन के शब्द और भी ज्यादा सच लगेंगे. आजादी—सांसारिक, वास्तविक जीवन की आजादी—मुश्किलों के बीच ही पनपती है.

इसका अर्थ है इस बात का एहसास करना कि हम उन पर निर्भर हैं जिनका रूप हमसे अलग है. हमें उनके अधिकार का सम्मान करना होगा और उनकी आजादी के लिए काम भी करना होगा. अगर न्याय और ईमानदारी के साथ इन रिश्तों को सिर्फ इनसानों के साथ ही नहीं बल्कि अन्य जीवों के साथ भी निभाएं, चाहे वे दर्शनीय हों या बेहद साधारण, तो हमारी आत्मा को भी मोक्ष की प्राप्ति हो सकती है.

अमिता बविस्कर आर्थिक विकास संस्थान, दिल्ली, में समाजशास्त्र की प्रोफेसर हैं

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay