एडवांस्ड सर्च

बिजनेस स्‍कूल विशेष: थोड़ा रूमानी हो जाएं

बिजनेस स्कूलों के छात्र जब लगातार चल रहे लेक्चर अटेंड नहीं कर रहे होते हैं तो विन्यर्ड की सैर करते हैं, ग्रैफिटी पेंटिंग करते हैं, तारों को निहारते हैं या खाना खाने के जापानी शिष्टाचार सीखते हैं.

Advertisement
सोनाली आचार्जीनई दिल्‍ली, 13 November 2012
बिजनेस स्‍कूल विशेष: थोड़ा रूमानी हो जाएं

वर्ष 2010 से अब तक 75 बेहतरीन संभावित सीईओ इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट-बंगलौर के अपने सुविधाजनक कैंपस से बाहर निकलकर सड़कों की खाक छानने के लिए निकले हैं. इस दौरान उनकी खुराक होती है-नाश्ते में एक केला, लंच में सादा चावल और डिनर में बिस्किट. उनका उद्देश्य होता है यह जानना कि सिर्फ 20 रु. प्रतिदिन में कैसे गुजारा किया जा सकता है और इस तरह से उन लोगों के जीवन को समझना जिनके बारे में उन्होंने सिर्फ पढ़ा ही है-गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले भारत के करोड़ों लोग.

देश के प्रमुख मैनेजमेंट स्कूलों के प्रतिभावान छात्र कठिन परीक्षाओं से निबटने के अलावा भी बहुत कुछ जानते हैं. जब वे लगातार चल रहे लेक्चर अटेंड नहीं कर रहे होते हैं तो विन्यर्ड (अंगूर का बाग) की सैर करते हैं, पतंगों पर ग्रैफिटी पेंटिंग करते हैं, तारों को निहारते हैं या भोजन करने के जापानी शिष्टाचार सीखते हैं. दिल्ली के फैकल्टी ऑफ  मैनेजमेंट स्टडीज (एफएमएस) के फाइनेंस क्लब के छात्र एचएसबीसी, सिटी बैंक और डोयचे बैंक जैसे दुनिया के कई दिग्गज निजी बैंकों की वर्कशॉप में हिस्सा लेते हैं.

इन वर्कशॉप में एजेंडा सिर्फ  कॉर्पोरेट स्लाइड शो और मार्केटिंग मैनुअल ही नहीं होता, बल्कि इनमें सॉफ्ट स्किल को बढ़ाने पर भी उतना ही जोर दिया जाता है. जैसे जापान में खाना खाने के बाद लोगों से हाथ कैसे मिलाते हैं, हाथ कितना दबाते हैं (वहां ऐसे मौके पर बहुत ज्यादा हाथ दबाने का मतलब अस्वाभाविक दोस्ती दिखाना और बहुत कम दबाने का मतलब असभ्यता माना जाता है) या किसी इंटरव्यू के लिए सही पहनावा क्या हो.

क्लब के अध्यक्ष 26 वर्षीय सुधांशु सिन्हा कहते हैं, ‘‘किसी छात्र को न सिर्फ एक मैनेजर की तरह सोचना चाहिए बल्कि उसे ऐसा दिखना, बोलना और उस तरह से पेश भी आना चाहिए. इसका मतलब है कि वह ग्लोबल भाषाएं और स्वीकार्य शिष्टाचार सीखे, उद्योग जगत की अपेक्षाओं और जॉब प्रोफाइल को समझे.’’

मुंबई के यूनिवर्सल बिजनेस स्कूल (यूबीएस) के 40 एकड़ वाले कैंपस में किसी को अकसर इधर-उधर छात्रों का झुंड बैठा हुआ या विचार-विमर्श करता हुआ मिल सकता है. उनको टास्क मिला है कि 50,000 रु. की पूंजी से दो महीने के अंदर मुनाफा देने वाला कारोबार कैसे शुरू किया जाए. यूबीएस के डायरेक्टर 45 वर्षीय तरुण आनंद कहते हैं, ‘‘उद्यमिता को पढ़ाया नहीं जा सकता, लेकिन इसे करके सीखा जा सकता है. इस वजह से ही हम प्रैक्टिकल वर्क और इंटरेक्टिव गतिविधियों पर जोर देते हैं.’’

आइआइएम-अहमदाबाद ने 2009 में अपने स्टार गैजर्स क्लब की स्थापना की थी. इस 17 सदस्यीय क्लब की चर्चा के विषय धूमकेतु, उल्का पिंड, आकाशगंगाएं, तारे आदि होते हैं. इस क्लब की गतिविधियों में तारों को निहारने का सत्र, स्थानीय तारामंडल की सैर, करोना नाम से एक ऑनलाइन पत्रिका चलाना, एस्ट्रोनॉमी पर क्विज आयोजित करना और ऑनलाइन कहानी लेखन प्रतियोगिताएं आयोजित करना शामिल है.

क्लब की को-ऑर्डिनेटर 26 वर्षीया तनुप्रिया कोहली ने कहा, ‘‘हमारे पास टेलीस्कोप भी है.’’ आइआइएम-अहमदाबाद का मजा यहीं खत्म नहीं होता. उनके यहां 2010 में एमएडी (मूवी अ डे) क्लब की स्थापना की गई जिसमें फिल्मों की सीडी और डीवीडी का बेहतरीन कलेक्शन है. यह लोकप्रिय बॉलीवुड सिनेमा तक सीमित नहीं है.

क्लब के को-ऑर्डिनेटर असीम सरकार बताते हैं, ‘‘हमने हाल ही में छात्रों को भोजपुरी फिल्म देसवा दिखाई है.’’ एमएडी हर साल प्रयास से जुड़े बच्चों के लिए फिल्में दिखाने के सत्र का आयोजन करता है. प्रयास वंचित तबके के बच्चों के लिए काम करने वाला और कैंपस में ही चलने वाला एनजीओ है.

उद्योग जगत में सीएसआर (कॉर्पोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी) मैनेजरों की बढ़ती मांग की वजह से प्रयास जैसे कॉर्पोरेट सामाजिक प्रयास न सिर्फ छात्रों को क्लासरूम की पढ़ाई से ब्रेक देते हैं, बल्कि इससे उनका रिज्यूमे भी मजबूत होता है. आइआइएम-लखनऊ ने इन सबको खेल का टच दिया है. इसके भविष्य क्लब ने 2007 में ‘हार्मनी कप्य की शुरुआत की है. यह क्लब सामाजिक उद्देश्यों के लिए धन जुटाने की खातिर हर साल क्रिकेट टूर्नामेंट आयोजित करता है. 2011 में आयोजित इसी तरह के टूर्नामेंट का मुख्य प्रायोजक सार्वजनिक क्षेत्र का दिग्गज भारतीय स्टेट बैंक था. फर्स्ट ईयर की छात्रा और भविष्य क्लब की सदस्य 22 वर्षीया प्रमिला भारती ने बताया, ‘‘पिछले साल जुटाए गए पैसे का इस्तेमाल गोमती नगर के सरकारी स्कूल प्रकाश बाल विद्या मंदिर में लाइब्रेरी और गन्नापुरवा में बच्चों की दुनिया एनजीओ के स्कूल के लिए इमारत बनवाने में हुआ था.’’

इंडियन स्कूल ऑफ  बिजनेस (आइएसबी) के मोहाली स्थित नए कैंपस में क्रिएटिविटी को काफी महत्व दिया जाता है. यहां छात्रों ने सबसे पहले आर्ट एप्रिसिएशन क्लब की शुरुआत की थी. स्कूल के 50 सदस्यों वाले इस क्लब में मॉर्डन आर्ट, पतंग बनाने, म्युरल पेंटिंग और फोटोग्राफी से लेकर डिजिटल डिजाइन तक सभी कुछ किया जाता है.

इस कैंपस में कार्ल एंटाओ, बैजू परथन, फिल्म निर्माता शेखर कपूर, फोटोग्राफर अतुल कासबेकर और कुचीपुड़ी डांसर शोभा नायडू जैसे कई प्रतिष्ठित कलाकार आ चुके हैं. क्लब की अध्यक्ष 28 वर्षीया पल्लवी अवस्थी बताती हैं, ‘‘आर्ट एप्रिसिएशन क्लब, सामाजिक क्लब है जो छात्रों को क्रिएटिव तरीके से सोचने के लिए प्रोत्साहित करता है. जब किसी को नियमित रूप से विषयों की पढ़ाई के अलावा कला या संस्कृति की विशेषता जानने का मौका मिलता है तो उसके लिए विचारों की नई प्रक्रिया खुल जाती है.’’

आइएसबी के हैदराबाद कैंपस में छात्र वाइन के जरिये क्रिएटिविटी दिखाते हैं. वाइन क्लब की अध्यक्ष 28 वर्षीया रुचिका नारंग ने बताया कि वाइन क्लब सिर्फ सामाजिक रूप से एक-दूसरे से जुडऩे का अनुभव नहीं है, बल्कि यह विभिन्न तरह की वाइन के बनने में इस्तेमाल हुए अलग-अलग तरह की रेसिपी और फ्लेवर को समझने का भी तरीका है. अभी तक क्लब वाइन पेयरिंग और वाइन टेस्टिंग सत्रों का आयोजन कर चुका है. नासिक के एक विन्यर्ड की सैर करने की योजना बनाई जा रही है.

नारंग बताती हैं, ‘‘हम वाइन की विशेषता बताने के लिए विशेषज्ञों को बुलाने की कोशिश कर रहे हैं. उद्योग जगत में औपचारिक मुलाकातें आम होती जा रही हैं, इसलिए वाइन की जानकारी रखने से सहकर्मियों को प्रभावित किया जा सकता है.’’

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay