एडवांस्ड सर्च

Advertisement

ये हैं रॉक स्टार पोएट

कइयों को लगता है कि यह तो पॉपुलर और और ज्यादा ही मेनस्ट्रीम वाला है. पर कौन नहीं चाहता कि उसका लिखा हुआ हजारों-लाखों लोग पढ़ें
ये हैं रॉक स्टार पोएट रूपी कौर
शेरिंग नामग्याल 15 February 2018

नौजवानों के बीच खासतौर पर मशहूर रूपी कौर को रॉक स्टार पोएट भी कहा जाता है.

हर कोई कहता है कि कविता तो मर गई. लेकिन आपकी किताबें बेस्ट सेलर हैं. आखिर कैसे हुआ ये?

यही सवाल मैं हर वक्त खुद से पूछती रहती हूं. दस साल पहले लिखना शुरू करने पर मैंने सपने में भी नहीं सोचा था कि ऐसा होगा. पर हर कोई आकर मुझसे कहता है, ''आप उन एहसासों को अल्फाज दे देती हैं, जिनके लिए हमारे पास शब्द नहीं थे."

नौजवान लोग क्यों आपको इतना प्यार करते हैं?

मेरे नौजवान दोस्त भी शायद एहसास के उसी दौर से गुजर रहे होते हैं, हमारी ग्रोथ एक ढंग से चल रही होती है, इसलिए हमारी उनकी सोच मेल खा जाती है. वही लोग मेरे रीडर बनते हैं.

आपको इंस्टाग्राम पोएट कहा जाता है. तो क्या आपको लगता है कि इंटरनेट आपके करियर को बूस्ट करता है?

मेरे मम्मी-डैडी आप्रवासी थे. मां कुछ नहीं करती थीं. डैडी को सबकी रोटी-पानी के इंतजाम में खटना पड़ा. मेरे पास भी रुपए-पैसे थे नहीं, सो मैंने सोशल मीडिया का सहारा लिया. इंटरनेट क्योंकि मुफ्त था, वह मेरी बहुत बड़ी ताकत बन गया.

आप उन आलोचकों के बारे में क्या कहेंगी, जो आपके लिखे हुए को साहित्य मानने से इनकार करते हैं?

कइयों को लगता है कि यह तो पॉपुलर और और ज्यादा ही मेनस्ट्रीम वाला है. पर कौन नहीं चाहता कि उसका लिखा हुआ हजारों-लाखों लोग पढ़ें.

हिंदुस्तानी मां-बाप किस तरह आपकी लिखावट पर असर डालते हैं?

वे कहते हैं कि आप्रवासी अपनी तहजीब को शिद्दत से संजोकर रखते हैं. हम सब एक कमरे में बैठते हैं, गुरबानी से कोई लाइन लेकर घंटों बतियाते हैं. इतना आनंद आता है कि पूछिए मत.

***

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay