एडवांस्ड सर्च

अब पहचान-पत्र से पहचाने जाएंगे असली संत

आइडी से पहचाने जाएंगे असली संत

Advertisement
aajtak.in
मंजीत ठाकुर/ आशीष मिश्र 12 December 2017
अब पहचान-पत्र से पहचाने जाएंगे असली संत कुंभ मेला

कौन संत असली है? कौन फर्जी. यह पहचान कैसे की जाए? तथाकथित संतों के लगातार भ्रष्ट आचरण में फंसने और जेल जाने की बढ़ती घटनाओं ने इन सवालों को बड़ा मौजूं बना दिया है. 

इन्हीं प्रश्नों का जवाब देने का कोशिश करेगी काशी विद्वय परिषद् की नई तैयार की जा रही वेबसाइट. जिसे 8 दिसंबर को वाराणसी में लॉन्च किया जाएगा. 

काशी विद्वत परिषद ने देश के सभी वैष्णव और शैव अखाड़ों को पत्र लिख कर संबद्ध संतों के नाम पते और मोबाइल नंबर मांगे हैं. इन सभी जानकारियों को परिषद् की वेबसाइट पर डाला जाएगा. 

इस पर सनातन धर्म के सभी संप्रदायों के संत-महंतों का पूरा विवरण प्रदर्शित होने के साथ ही एक संत के लिए आचार संहिता का भी जिक्र होगा. 

परिषद से जुड़े एक सदस्य बताते हैं "कई सारे कथावाचक भी गलत ढंग से खुद को संत लिखते हैं जो एक गलत आचरण है. इस पर रोक लगाई जाएगी. यही नहीं लगातार बढ़ रही कथित शंकराचार्यों की भीड़ को काबू करने के लिए भी जरूरी कदम उठाए जाएंगे." 

परिषद ने देश के सभी अखाड़ों के महामंडलेश्वरों को उनसे जुड़े संतों को सूचीबद्ध करने के साथ ही उन्हें एक पहचान-पत्र जारी करने का आग्रह किया है, जिससे उनकी आसानी से पहचान की जा सके. इस आइडी का जिक्र परिषद की वेबसाइट पर होगा, जिससे कोई भी किसी भी साधू-संत के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकेगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay