एडवांस्ड सर्च

क्विज के मास्टरमाइंड सिद्धार्थ बसुः असल बनाम नकल

ने-माने क्विज मास्टर सिद्धार्थ बसु का शो कौन बनेगा करोड़पति 2002 में शुरू हुआ था और तभी से हिंदुस्तानियों को जानकार बनाता आ रहा है. इसका नौवां अध्याय 25 अगस्त से सोनी पर शुरू हो रहा है. बसु भी मानते हैं कि यह शो आज पहले से कहीं ज्यादा मौजूं है.

Advertisement
aajtak.in
सुहानी सिंह मुबंई, 30 August 2017
क्विज के मास्टरमाइंड सिद्धार्थ बसुः असल बनाम नकल दानेश जस्सावाला

हल्दीघाटी की लड़ाई का असल विजेता बेशक सम्राट अकबर था मगर फेक न्यूज और वैकल्पिक तथ्यों के सत्य से परे युग में, जब राजस्थान की सरकार महाराणा प्रताप की जयजयकार करने के लिए इतिहास को दोबारा लिख सकती है, जानकारी हासिल करने के लिए जाएं तो कहां जाएं? जाने-माने क्विज मास्टर सिद्धार्थ बसु का शो कौन बनेगा करोड़पति 2002 में शुरू हुआ था और तभी से हिंदुस्तानियों को जानकार बनाता आ रहा है. इसका नौवां अध्याय 25 अगस्त से सोनी पर शुरू हो रहा है. बसु भी मानते हैं कि यह शो आज पहले से कहीं ज्यादा मौजूं है, ''यह शो तथ्यों का जश्न है. तथ्य फिसलन भरे हो सकते हैं और इतिहास की तमाम तरह से व्याख्याएं की जा सकती हैं. ऐसे में जिस हद तक भी मुमकिन हो पाता है, हम मिथ और मनगढ़ंत बातों से ज्यादा तथ्यों की सचाई पर जोर देते हैं." फिर भी राजस्थान की गद्दीनशीन सरकार के एवजी तथ्यों का इतना हल्ला!

बसु क्विज के कारोबार में करीब 34 साल से हैं. उनके मुरीद बीबीसी वर्ल्ड के शो मास्टरमाइंड को अब तक के बेहतरीन शो में गिनते हैं. सो यह हैरानी की बात नहीं कि उन्होंने इस वक्फे में कुछ बदलावों को देखा है. वे कहते हैं, ''मास्टरमाइंड में मैं हैरान था कि लोग कितना ज्यादा जानते हैं, केबीसी में यह देखकर भौचक हूं कि लोग कितना कम जानते हैं."

बसु इस बात से फिक्रमंद हैं कि ''अज्ञानता की जिद बढ़ती जा रही है" वह भी तब जब जानकारियों तक पहुंचना और भी आसान हो गया है. वे कहते हैं, ''गलत जानकारियों का पूरा एक समंदर है. एक तरफ लोग इतने जानकार हैं और दूसरी तरफ वे वही मानते हैं जो वे मानना चाहते हैं." यह आखिरी बात इससे भी जाहिर है कि लोग व्हाट्सऐप पर किस हद तक आंखें मूदकर भरोसा करने को तैयार हैं और खबरों के लिए मुख्य स्रोत के तौर पर फेसबुक का इस्तेमाल करते हैं. चुनौती यह है कि ''सारी धुंध हटाकर सही तथ्यों तक पहुंचा जाए." बसु इंडियास्पेंड और हॉक्स-स्लेयर सरीखी पहलों की मौजूदगी का स्वागत करते हैं, जो ''चीजों और तथ्यों की जड़ों तक जा रही हैं."

गोरेगांव में कौन बनेगा करोड़पति के सर्द सेटों पर बसु गर्मजोश और खुशमिजाज शख्सियत हैं. एक प्रतियोगी उन्हें बताते हैं कि किस तरह उन्होंने फास्टेस्ट फिंगर फर्स्ट राउंड तक पहुंचने के लिए एक दशक तक इंतजार किया है. यह वह राउंड है जिसमें 10 प्रतियोगी हॉट सीट तक पहुंचने के लिए मुकाबला करते हैं. बसु उसे उसके धैर्य के लिए मुबारकबाद देते हैं. अबकी पहली बार लोग वेबसाइट और चैनल के ऐप के जरिए भी रजिस्टर कर सकते हैं. और जैसा कि अनुमान था, हफ्ते भर में ही 1.98 करोड़ रजिस्ट्रेशन आए.

नया सीजन कुछ बदलावों के साथ आया है. दो नई लाइफलाइन शुरू की गई हैं. फोन ए फ्रेंड अब वीडियो ए फ्रेंड बन गया है, जिसके जरिए दर्शक प्रतिस्पर्धी के भरोसेमंद जानकार दोस्त को देख भी सकेंगे. इसके अलावा ''जोड़ीदार" में खिलाड़ी सवाल का जवाब देने में मदद के लिए दर्शकों के बीच बैठे किसी दोस्त को कॉल कर सकता है. इस सीजन में गेम पर ज्यादा जोर है. इसके लिए और ज्यादा सवालों को शामिल किया गया है. मशहूर हस्तियों की बजाए असल जिंदगी के नायकों (भारतीय महिला क्रिकेट टीम की खिलाडिय़ों को पूरा एक एपिसोड मिला है) को तरजीह दी गई है. बसु कहते हैं कि मानवीय दिलचस्पी का कोण फॉर्मेट जितना ही अहम है. वे यह भी कहते हैं, ''इस मुख्तलिफ, हैरान करने वाले किस्म-किस्म की चीजों के देश में जो कुछ चल रहा है, उसकी झलक भी शो से मिलनी चाहिए."

प्रतियोगियों का चयन इस तरह से किया गया है ताकि जज्बाती अदायगी भी पेश की जा सके. विकास स्वरूप की किताब क्यू ऐंड ए के जारी होने और उस पर बनी ऑस्कर जीतने वाली फिल्म स्लमडॉग मिलियनेयर की कामयाबी के बाद, बसु कहते हैं, शो का हौसला इतना बढ़ा कि यह छुपे रुस्तमों की कहानी बन गया. प्रतियोगियों के सामान्य ज्ञान की परख करने के अलावा निर्माता उनकी जिंदगी की कहानी जानने और उनकी ''वाक्पटुता और अभिव्यक्ति" को समझने के लिए उनका इंटरव्यू करते हैं. विविधता की नुमाइंदगी केबीसी के लिए अहम है. इसलिए लैंगिक पहचान के अलावा—आधी प्रतियोगी महिलाएं हैं—यह शो भौगोलिक इलाकों, पेशों और उम्र का भी ख्याल रखता है.

बसु केबीसी को ''एजुटेनमेंट" कहते हैं. इसके निर्माण में कला और विज्ञान, दोनों की भूमिका है. ''कला लोगों की कल्पनाशक्ति को खींचती है और विज्ञान पुष्टि करने के लिए है." उनका प्रोडक्शन हाउस बिग सिनर्जी आठ अलग-अलग जबानों में यह शो बना चुका है, पर बसु और 300 लोगों की उनकी टीम अब भी हर वक्त चुनौती अनुभव करती है. वे कहते हैं, ''फॉर्मेट की थकान से इनकार नहीं किया जा सकता. ध्यान खींच पाने की कमी भी एक बात है. लोगों की टीवी देखने की आदतें बदल रही हैं." मगर बसु इस भरोसे पर दांव लगा रहे हैं कि ऐसे तथ्यों का सामने आना, जो किसी खास सियासी अफसाने के हिसाब से नहीं गढ़े गए, अब भी नौजवानों को आकर्षित कर सकता है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay