एडवांस्ड सर्च

मशहूर हुईं मसाबा

मसाबा को धूप से एलर्जी हो गई और यहां तक कि फैशनेबल टेनिस कपड़े पहनने का आनंद भी जाता रहा. फिर वे जमनाबाई नरसी स्कूल से मीठीबाई कॉलेज में चली गईं. उन्होंने एक्टन टाउन, लंदन में एक स्कूल में संगीत में भी अपने हाथ आजमाए.

Advertisement
Sahitya Aajtak 2018
कावेरी बामजईनई दिल्ली, 14 November 2017
मशहूर हुईं मसाबा खिलाड़ी से डिजाइनर लक्मे फैशन वीक 2009 में जलवे बिखेरतीं मसाबा

मसाबा गुप्ता के लिए सच्चाई का एहसास कराने वाला पल उस वक्त आया जब वे महाराष्ट्र के सांगली में एक टेनिस मैच खेल रही थीं. यह पल उन्हें झकझोर देने वाला था. वहां जुटी भीड़ में से कोई चिल्लायाः ''तुम विवियन रिचर्ड्स की बेटी हो, अपना खेल कायदे से खेलो, केवल फैंसी कपड़ों पर ही ध्यान मत दो." वे महज आठ साल की उम्र से खेल रही थीं और तीन साल से तो अपने राज्य के लिए खेल रही थीं. इस बात ने उन पर इतना असर डाला कि उन्होंने पूरी तरह से खेल खेलना छोड़ दिया.

वे तब 10वीं क्लास में थीं. अब पीछे मुड़कर उस जमाने को याद करते हुए भारत की सबसे तेज और उत्साही डिजाइनरों में से एक मसाबा कहती हैं, ''टेनिस ने मुझे काफी निराश किया. मैं बहुत नाखुश रही. मेरे पास इतने मौके थे, इतने सारे शानदार कोच थे. मैं एक महान खिलाड़ी की बेटी थी. मुझ पर खासा दबाव था. मेरे पिता हमेशा मेरे साथ थे, वे उस समय मेरी जिंदगी का बेहद सक्रिय हिस्सा थे. ऐसा लग रहा था मानो हरेक को मेरे जीवन का थोड़ा हिस्सा चाहिए था."

मसाबा को धूप से एलर्जी हो गई और यहां तक कि फैशनेबल टेनिस कपड़े पहनने का आनंद भी जाता रहा. फिर वे जमनाबाई नरसी स्कूल से मीठीबाई कॉलेज में चली गईं. उन्होंने एक्टन टाउन, लंदन में एक स्कूल में संगीत में भी अपने हाथ आजमाए. वे कहती हैं ''मैं 16 साल की थी, और अपनी मां (अभिनेत्री नीना गुप्ता जो पहले सत्तर के दशक के कलात्मक सिनेमा की प्रमुख अदाकारा और बाद में लोकप्रिय टीवी कलाकार और निर्देशक बन गई थीं) की अच्छी सहेलियों के साथ रह रही थी. लेकिन मैं बहुत परेशान थी. मैं अपनी आया, अपने कुत्तों और मां की कमी महसूस कर रही थी."

उन्होंने छह महीने वहां जॉज संगीत सीखने में बिताए और फिर एक हफ्ता मुंबई में अपने घर पर बिताया. उनकी एक मित्र फैशन और एपेरल डिजाइन में अंडरग्रेजुएट कोर्स के लिए एसएनडीटी महिला विश्वविद्यालय में प्रवेश परीक्षा दे रही थी. मसाबा स्केचिंग में बढिय़ा थीं इसलिए उन्होंने भी वहीं एडमिशन ले लिया. वे एसएनडीटी में बुनाई और क्रोशिया का काम सीखने लगीं. वे कहती हैं, मुझे यह काम बिल्कुल पसंद नहीं था.

वे सिलाई में इतनी लद्धड़ थीं कि परीक्षा में फेल हो गईं. यहां तक कि उनके शिक्षकों ने पूरी तरह मान लिया था कि मसाबा से यह नहीं हो पाएगा. लेकिन दूसरे साल वहां एक फैशन शो हुआ. इसमें वेंडेल रॉड्रिग्स भी जज थे. उसमें बतौर शो स्टॉपर मसाबा को पसंद किया गया. इसके बाद अजा और अतोसा जैसे बड़े स्टोर्स ने उनसे संपर्क साधा. वे अपने कमरे से ही काम करनी लगीं.

लक्मे फैशन वीक 2009 के बसंत-ग्रीष्म मौसम के लिए जेनरेशन नेक्स्ट आवेदन खुले तो उन्होंने अपने कलेक्शन पर काम करना शुरू कर दिया. वे सवेरे 5 बजे से डिजाइनिंग करना शुरू कर देतीं और फिर 7.30 बजे कॉलेज जातीं. उन्होंने छह डिजाइन तैयार किए और अपने कपड़ों की प्रिंटिंग जोगेश्वरी में करवाई. उस कलेक्शन पर अच्छी प्रतिक्रिया मिली. इस तरह उनके घर के नीचे चल रही यूनिट जुहू में उनके फ्लैट की दूसरी मंजिल के सेट-अप में परिवर्तित हो गई जहां एक मास्टर टेलर था, एक सहायक, उनकी मां और वे खुद.

यह 2009 की बात थी. अब वे 28 साल की हैं. अब उनके तीन अपने स्टोर हैं (दो मुंबई में और एक दिल्ली में). साल के अंत तक तीन और स्टोर खुल जाएंगे. इसके अलावा दुबई समेत पांच शहरों में आठ मल्टी-लेबल स्टोर हैं. इसमें 60 कर्मचारी हैं और प्रोडक्शन और डिजाइन के लिए उनके दो अलग-अलग ऑफिस हैं. अभी उनकी कंपनी का सालाना राजस्व 12 करोड़ रु. है. 2018 तक बढ़कर इसे 20 करोड़ रु. हो जाने की उम्मीद है. सोशल मीडिया में वे खासी लोकप्रिय हैं. इंस्टाग्राम पर उनके पांच लाख फॉलोअर हैं, ट्विटर पर 11 लाख और फेसबुक पर 50,000 हैं. इसके साथ-साथ वे अब अपने माता-पिता के प्रेम की ''वैधानिकता" को लेकर सवाल उठाने वाले सोशल मीडिया ट्रॉलर्स के मुंह भी बंद करने की अच्छी काबिलियत रखती हैं.

मसाबा के उस्ताद रहे रोड्रिग्स कहते हैं कि उन्हें आज भीं मसाबा से हुई पहली मुलाकात याद है. वे बताते हैं कि तब मसाबा अपनी मां नीना गुप्ता की स्कर्ट के पीछे छिप जाने वाली एक छोटी-सी बच्ची थीं. लेकिन अब वे बेहद साहसी हैं. रोड्रिग्स मानते हैं कि यह निर्भयता ही उन्हें अंतरराष्ट्रीय ख्याति के रास्ते पर ले जाएगी. वे उत्साह के साथ कहते हैं ''मैं उसके स्टोर्स पेरिस, लंदन, न्यूयार्क, मिलान और तोक्यो में देखना चाहता हूं." दुबई, सिंगापुर और लंदन जैसे शहरों में उनके शो तो अब खचाखच भरे रहते हैं.

मसाबा कहती हैं, ''सिलिकॉन वैली का दिल माने जाने वाले सैन जोस में लोग अपने भगवान को लपेटने के लिए नल्ली साडिय़ां और पार्टियों में पहनने के लिए मेरे कपड़े इस्तेमाल करते हैं." अब उन्हें अपने काम में मजा आने लगा है, अपने बिजनेस को लेकर मसाबा अब आत्मविश्वास से लबरेज हैं. उनके समकालीन फैशन डिजाइनर गौरव जय गुप्ता कहते हैं कि थोड़े ही समय में जिस तरह से उन्होंने इतने प्रशंसक और बिजनेस में तरक्की हासिल की है, वह काबिले तारीफ है.

व्यक्तिगत जिंदगी में भी वे बेहद खुश हैं. दो साल से उनके पति मधु मांटेना फैंटम फिल्म्स के पीछे की चौकड़ी में से एक हैं (बाकी तीन निर्देशकों में अनुराग कश्यप, विकास बहल और विक्रमादित्य मोटवाणे हैं). वे दोनों अपने एक पालतू कुत्ते के साथ वरसोवा में समुद्र के किनारे के अपने घर में रहते हैं. हाल ही में उन्होंने कुछ समय एंटीगुआ में अपने पिता और उनके जुड़वां भाई के साथ बिताया.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay