एडवांस्ड सर्च

रंगमंचः असंतुलित-सा युगपुरुष

गांधी के आध्यात्मिक गुरु को अतिरेक में पेश करता नाटक

Advertisement
सोपान जोशी 10 October 2017
रंगमंचः असंतुलित-सा युगपुरुष गांधी के आध्यात्मिक गुरु को अतिरेक में पेश करता नाटक

बात सन् 1893 की है. इंग्लैंड में पढ़ कर लौटा 24 सालका एक वकील मुंबई में अपने पैर जमाने की कोशिश कर रहा था. उसकी भेंट हुई हीरे-मोती के एक व्यापारी से, जो भारतीय अध्यात्म के गहरे जानकार थे. दोनों की गाढ़ी छनने लगी. फिर साल-दो-साल बाद वह वकील दक्षिण अफ्रीका चला गया. कई साल तक दोनों के बीच पत्राचार होता रहा. आगे चल कर यही व्यापारी उस वकील का आध्यात्मिक गुरु बना. उन्होंने उस वकील को धर्म और अध्यात्म को समझने की दृष्टि दी, उसके कमजोरी के पलों में मित्रता के साथ उसे सत्य और अहिंसा के मार्ग पर चलने की हिम्मत दी.

वही वकील महात्मा गांधी के रूप में हमारी आजादी की लड़ाई का नायक बनकर उभरा. वे व्यापारी थे राजचंद्र मेहता. इन दोनों की कहानी युगपुरुष नाम के एक नाटक में पिरोने का श्रेय जाता है गुजरात के धरमपुर में स्थित श्रीमद् राजचंद्र मिशन को. नाटक कई शहरों में कई भाषाओं के मंचन से होता हुआ हाल ही में देश की राजधानी दिल्ली पहुंचा.

एक अद्भुत व्यक्तित्व को दर्शाने का काम तो यह नाटक करता है, और वह भी नई पीढ़ी के लिए, जिनके पास ऐसे संदर्भों का अभाव है. लेकिन ऊंचे लोगों को दर्शाना आसान नहीं होता. मंचन और लिखाई में संतुलन और सुरुचि का अभाव दिखा. मुट्ठी बांध कर वंदे मातरम् के आक्रामक नारे लगाते हुए गांधीजी कतई नहीं जमते. श्रीमद् राजचंद्र के मुंह पर हमेशा वैसी ही बनावटी मुस्कान बनी रहती है, जैसी आजकल के बाजारू बाबाओं के चेहरे पर दिखती है. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay