एडवांस्ड सर्च

एक शर्मीली सुपरस्टार

शर्मीली अभिनेत्री ने चकाचौंध के मुकाबले अपने निजी स्पेस को अहमियत दी. इस वजह से भारी सार्वजनिक चीरफाड़ की शिकार उनकी मृत्यु ज्यादा त्रासद बन गई

Advertisement
मधु जैननई दिल्ली,मुबंई, 06 March 2018
एक शर्मीली सुपरस्टार इलेस्ट्रशनः अरिंदम मुखर्जी

जगमगाती, खिलखिलाती, जिंदादिल. घरघराते कैमरे के सामने श्रीदेवी ऊर्जा से भरी रहती थीं जैसे सोडा बोतल से तेज आवाज के साथ बाहर आने को उतावला झाग. पर जैसे ही कैमरा थमता, वह चुलबुलाहट काफूर हो जाती. पलभर पहले अपनी मौजूदगी से पूरे माहौल को जगमगाए रखने वाली श्रीदेवी का चेहरा कैमरा बंद होते ही भावशून्य हो जाता. उनकी बड़ी-बड़ी खूबसूरत आंखों की हलचल न होती, तो ऐसा लगता जैसे उनमें जान ही बाकी न हो. भारत की पहली सुपरस्टार अदाकारा जब ऐक्टिंग नहीं कर रही होती थीं, तो ऐसी वॉकी-टॉकी डॉल जैसी बनी रहतीं जिसकी बैटरी अचानक खत्म हो गई हो. उन्हें एक अंतर्मुखी या किसी से ज्यादा घुलने-मिलने में रुचि न रखने वाला व्यक्तित्व कहना बड़ी भूल होगीः उनके ज्यादातर साक्षात्कारों में उनकी न जाने कितनी छवियां उभरकर सामने आती हैं. किसी भी सार्वजनिक कार्यक्रम में श्रीदेवी थोड़ी सकुचाई-सी, सबसे बच-छिपकर चलतीं कहीं किनारे ही रहना पसंद करती थीं. शायद उनका स्टार होना, उनको जिंदगी के बहुत से आनंद से दूर करता था. दुबई के होटल के बाथटब में क्या हुआ, कैसे हुआ इन सब चर्चाओं की विडंबना के बीच सबसे ज्यादा दिल तोडऩे वाली बात है—श्रीदेवी का अचानक इस दुनिया से विदा हो जाना.

अपने बचपन से बाहर आने से पहले श्रीदेवी दुनिया की नजरों में आ चुकी थीं. उनका नाम श्री अम्मा यंगर अयप्पन यानी श्रीदेवी था और उन्हें पप्पी नाम से बुलाया जाता था. उनके पेशेवर जीवन की शुरुआत महज चार साल की कच्ची उम्र में ही हो गई थी, जब उन्होंने एम.ए. तिरुमुगम की तमिल फिल्म थुनइवन में भगवान मुरुगन का किरदार निभाया. यह फिल्म 1969 में रिलीज हुई थी. अपनी पहली फिल्म के दौरान वे शर्ले टेंपल (उस वक्त की चर्चित बाल कलाकार) से महज चंद माह बड़ी थीं. घुंघराले बालों वाली अमेरिकी स्टार शर्ले से उलट श्रीदेवी ने रुपहले पर्दे को अलविदा नहीं कहा. सिनेमा के अपने 50 साल के करियर में एक प्यारी बच्ची से एक युवती, युवती से एक स्टार और स्टार से इंग्लिश-विंग्लिश की अधेड़ उम्र महिला तक का किरदार उन्होंने पूरी सहजता से जिया.

आधी सदी के करियर में उनके हिस्से में बहुत सी उपलब्धियां रहीं हैं—तमिल, तेलुगु, मलयालम, कन्नड़ और हिंदी की 300 से ज्यादा फिल्में. सिगाप्पु रोजक्कल, मीनदुम कोकिला और मुंद्रम पिराई दक्षिण की उनकी सबसे लोकप्रिय फिल्में रही हैं. 2012 में इंग्लिश विंग्लिश से उन्होंने अपनी दूसरी पारी की शुरुआत की. इस पारी में उन्होंने मॉम और एक तमिल फिल्म पुली भी की. श्रीदेवी ने शरीर भले छोड़ दिया हो लेकिन पर्दे पर उनकी कहानी अभी थोड़ी बाकी है. शाहरुख खान की आगामी फिल्म ज़ीरो में वे विशेष भूमिका में दिखेंगी.

हिंदी सिनेमा में श्रीदेवी का करियर पी. भारतीराजा की 1979 में आई फिल्म सोलवां सावन से शुरू हुआ. यह भारतीराजा की ही तमिल फिल्म 16 वयतिनिली का रीमेक थी. हालांकि जितेंद्र के साथ 1982 में आई दूसरी फिल्म हिम्मतवाला के बारे में कहा जा सकता है कि इस फिल्म से उन्होंने हिंदी सिनेमा को कहा कि लो मैं भी आ गई हूं और उत्तर में छा जाने वाली हूं. इस फिल्म के बाद श्रीदेवी ने पीछे मुड़कर नहीं देखा. हालांकि इस फिल्म से उनको 'पुष्ट जांघों वाली' हीरोइन का वही अनुचित तमगा दे दिया गया जो कभी दिवंगत तेलुगु स्टार सिल्क स्मिता को मिला था.

बहरहाल, इस तमगे से श्रीदेवी को कोई नुक्सान तो नहीं ही हुआः शेखर कपूर की मि. इंडिया के 'काटे नहिं कटते' गाने पर पारदर्शी नीली शिफॉन साड़ी में लिपटीं श्रीदेवी के डांस ने ऐसा धमाल मचाया कि वे हिंदी सिनेमा में कलात्मक कामुकता का बेंचमार्क बन गईं. यश चोपड़ा ने भी श्रीदेवी की इस खूबी को चांदनी और लम्हे में भरपूर उकेरा. श्रीदेवी उन चंद अभिनेत्रियों में थीं जो अमिताभ बच्चन, अनिल कपूर, विनोद खन्ना, कमल हासन जैसे टॉप ऐक्टर्स के साथ ऑनस्क्रीन केमिस्ट्री बनाने में सक्षम हुईं.

कपूर कुनबे के उलट श्रीदेवी का किसी फिल्मी घराने से ताल्लुक नहीं था. फिर भी उनमें से ज्यादातर की तरह वे एक सच्ची कलाकार थीं. मनोरंजन के विभिन्न पहलुओं को समेटती एक पूर्ण कलाकार श्रीदेवी को शायद वन-वूमन-इंडस्ट्री कहा जा सकता है. वे गा सकती थीं, नाच सकती थीं, नकल कर सकती थीं, कमाल की कॉमेडी से जितना गुदगुदा सकती थीं, उतना ही अपने गंभीर अभिनय से रुला भी सकती थीं. दर्शकों को इससे ज्यादा क्या चाहिए. उन्होंने छह फिल्मों में डबल रोल किया जिसमें चालबाज और लम्हे शामिल हैं. इससे उनकी बहुमुखी प्रतिभा बाहर आई.

अस्सी के पूरे दशक और '90 के दशक के भी कुछ समय तक हिंदी सिनेमा में पूरी तरह छाई रहने वाली श्रीदेवी के दक्षिण के सिनेमा के लंबे और महत्वपूर्ण करियर की चर्चा और उनके साथी कलाकारों की बात के बिना श्रीदेवी की फिल्मी यात्रा की बात अधूरी है. श्रीदेवी तीन मुख्यमंत्रियों के साथ सिनेमा के पर्दे पर दिखी हैं. बाल कलाकार के रूप में (बेबी श्रीदेवी) एम.जी. रामचंद्रन और जयललिता (तमिलनाडु) और बाद में एक किशोरवय कलाकार के रूप में एन.टी. रामराव के साथ जो कि आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे हैं. तमिल फिल्म नाम नाडु में उन्होंने एक छोटे लड़के का किरदार निभाया था जो एमजीआर को गाना गाते हुए सुन रहा है, तो फिल्म आदि पराशक्ति में उन्होंने मुरुगन का किरदार निभाया जिसमें जयललिता मुख्य अभिनेत्री थीं.

मैंने पहली बार उन्हें तेलुगु फिल्म बोब्बिली पुली में देखा था जिसमें 19 वर्षीया श्रीदेवी एनटीआर की फिल्म में मुख्य अभिनेत्री थीं. यह 1982 की बात है. तब एनटीआर जीवन के 60वें बसंत से बस एक ही कदम पीछे थे और उन्होंने हाल ही में तेलुगु देशम पार्टी (टीडीपी) बनाई थी. जल्द ही वे आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री भी बने. दमदार आवाज और करिश्माई छवि वाले एनटीआर जैसी बड़ी शख्सियत, जिनके सामने अभिनय करना मामूली बात नहीं थी, इस किशोरवय अभिनेत्री ने वहां भी छाप छोड़ी. जहां एनटीआर राजनीति के गलियारे में कदम रखने की तैयारी कर रहे थे, वहीं श्रीदेवी के रूप में हिंदी सिनेमा को एक सुपरस्टार अभिनेत्री मिलने वाली थी.

संपूर्ण और बहुमुखी प्रतिभासंपन्न अदाकारा श्रीदेवी ऐसी कलाकार थीं जो पलक झपकने भर की देरी में हंसी-मजाक और तमाशे वाले कैरेक्टर से त्रासदी और करुणा से भरे गंभीर कैरेक्टर में समा सकती थीं. यदि कोई भारतीय कलाकार चार्ली चैपलिन से बराबरी कर सका तो वे श्रीदेवी थीं. यह उनके सिर्फ कॉमिक टाइमिंग का कमाल नहीं था बल्कि चार साल की कच्ची उम्र से शुरुआत करके वे तो ऐक्टिंग में ही पली-बढ़ीं थीं. वे तूफान-सी चपलता से नृत्य कर सकती थीं, गा सकती थीं. सदमा, चांदनी और क्षण क्षणं जैसी फिल्मों में उन्होंने गाया भी है. एक बार उन्होंने एक बड़ी यादगार बात कही थी कि सेट पर आते ही मेरे शरीर में जान आ जाती है. इसमें कोई हैरानी नहीं कि उन्हें एक समय श्स्विच ऑन्य स्टार कहा जाता था जो डायरेक्टर के मुंह से 'कट' निकलते ही अपनी निजी दुनिया में चली जाती थीं. उन्होंने यह भी माना कि वे इतनी शर्मीली थीं कि अपनी मां के पल्लू के पीछे छुप जाया करती थीं.

अभिनेत्रियों, खासतौर से दक्षिण भारत की अभिनेत्रियों की मांएं अक्सर बेटियों के साथ छाया की तरह साथ रहा करती हैं. वे न सिर्फ पर्दे के पीछे से बेटियों को कंट्रोल करती हैं बल्कि उनकी कमाई पर भी कब्जा जमाए रखती हैं. रेखा, जयसुधा, नीतू सिंह जैसी कई अन्य अभिनेत्रियों की मांओं ने बेटियों को फिल्मों में इसीलिए भेजा ताकि उनकी कमाई से परिवार चल सके. फिल्मों में काम करने के लिए तो रेखा का स्कूल तक छुड़ा दिया गया था (चेन्नै का एक कॉन्वेंट जहां से जयललिता ने भी पढ़ाई की थी). श्रीदेवी को भी पढऩे का अवसर नहीं मिला. हालांकि वे किसी फिल्मी परिवार से ताल्लुक नहीं रखती थीं, फिर भी वे अक्सर कहती थीं कि उन्हें फिल्मों में ऐक्टिंग के लिए बाध्य किया नहीं गया.

उन्होंने अपनी माता राजेश्वरी अयंगर और अपने भाई बहनों का हमेशा साथ दिया. पेशे से वकील उनके पिता अयप्पन यंगर का 1991 में देहांत हो गया. श्रीदेवी के पिता ने तमिलनाडु विधानसभा की शिवकाशी (जहां उनका जन्म हुआ था) सीट से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ा तो श्रीदेवी ने उनके लिए चुनाव प्रचार भी किया था. पिता कभी नहीं चाहते थे कि उनकी बेटी फिल्मों में काम करे. 1976 में वे करीब 13 साल की थीं जब हीरोइन के रूप में उन्हें पहला मौका के. बालचंदर की फिल्म मूंदरू मुदिचू में मिला जिसमें रजनीकांत और कमल हासन मुख्य भूमिकाओं में थे.

शायद उन्हें एक मां और एक पत्नी के रूप में अपना रोल सबसे ज्यादा पसंद था. '80 के दशक में ही मिथुन चक्रवर्ती से उनका रिश्ता होने की अफवाह थी लेकिन निर्माता बोनी कपूर के साथ शादी करके उन्हें वह घर, वह परिवार मिल गया जिसकी कमी उन्हें लंबे समय से महसूस हो रही थी. और शायद एक ऐसा पल्लू भी जिसके पीछे वे चाव से छुप जाना चाहती हों.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay