एडवांस्ड सर्च

ईश्वर चंद्र विद्यासागर: जिनकी वजह से विधवाओं को मिला नया जीवन

आज भी विधवाओं को वो दर्जा नहीं मिल पाता जिनकी वे हकदार हैं. विधवाओं की पैरवी करने वाले ईश्वर चंद्र विद्यासागर की वजह से उन्हें दूसरा जीवन मिला था.

Advertisement
aajtak.in
ऋचा मिश्रा नई दिल्ली, 07 October 2017
ईश्वर चंद्र विद्यासागर: जिनकी वजह से विधवाओं को मिला नया जीवन Ishwar Chandra Vidyasagar

आज भी समाज में विधवाओं को वो दर्जा नहीं मिलता, जिनकी वे हकदार हैं. आम औरतों के तरह वे समाज में चैन से नहीं रह पातीं. लेकिन ऐसा कब तक चलता, किसी ना किसी को तो आवाज उठानी ही थी. तब विधवा महिलाओं के लिए मसीहा बनकर सामने आए ईश्वर चंद्र विद्यासागर. जिनकी तमाम कोशिशों के बाद विधवा पुनर्विवाह कानून बना. महिलाओं को दूसरा जीवन देने वाले ईश्वर चंद्र विद्यासागर का जन्म आज ही के दिन 26 सितंबर 1820 को हुआ था . विधवाओं की पैरवी करने वाले को हमारा नमन...

जानें उनके बारे में

ईश्वर चंद्र विद्यासागर के बचपन का नाम ईश्वर चन्द्र बन्दोपाध्याय था.

उन्होंने विधवाओं की दोबारा शादी कराने की पैरवी की.

...जब इंदिरा गांधी ने नाश्ते में मांगी जलेबी, मठरी

साल 1856 में 'विडो रिमैरिज एक्ट XV' को आगे बढ़ाया.

वे उच्चकोटि के विद्वान थे. उनकी विद्वता के कारण ही उन्हें विद्दासागर की उपाधि दी गई थी.

नारी शिक्षा के समर्थक थे. उनके प्रयास से ही कलकत्ता में लड़कियों के लिए कई जगह स्कूलों की स्थापना हुई.

सतीश धवन, जिन्होंने हिंदुस्तान को आसमान तक पहुंचाया

विधवा महिलाओं को नया जीवन देने के साथ वह बाल विवाह के खिलाफ भी थे. साथ ही सती प्रथा के खिलाफ आवाज उठाकर नारी सम्मान की परंपरा शुरू की.

वैज्ञानिकों ने बढ़ाया भारत का मान, कामयाब हुआ मंगल मिशन

उन्हें सुधारक के रूप में राजा राममोहन राय का उत्तराधिकारी माना जाता है. 1856-60 के बीच इन्होंने 25 विधवाओं का पुनर्विवाह कराया था.

उस समय हिन्दू समाज में विधवाओं की स्थिति बहुत ही शोचनीय थी. विधवा-पुनर्विवाह कानून पारित तो हुआ लेकिन समाज में इसे लागू कराना आसान नहीं था. तब विद्यासागर ने अपने इकलौते पुत्र का विवाह एक विधवा से करवाया था.

विधवा महिलाओं को दूसरा जीवन देने वाले ईश्वर चंद्र विद्यासागर का निधन 29 जुलाई 1891 को हुआ.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay