एडवांस्ड सर्च

फिर किसानों पर लाठियां

एक घंटे इंतजार के बाद मामला बिगड़ा और पुलिस को लाठीचार्ज के साथ आंसू गैस के गोले दागने पड़े. जब किसान ट्रैक्टर ट्रालियों से अपने गांव जा रहे थे तो पुलिस ने उनको रोक लिया.

Advertisement
aajtak.in
सरोज कुमार नई दिल्ली, 16 October 2017
फिर किसानों पर लाठियां जुल्म टीकमगढ़ के थाने में बंद कर किसानों की पुलिस ने पिटाई की

मध्य प्रदेश के मंदसौर में किसानों पर गोली चलने की घटना के चार माह बाद एक बार फिर शिवराज सिंह चौहान सरकार किसान उत्पीडऩ के मुद्दे पर घिर गई है. ताजा घटना गांधी जयंती के ठीक एक दिन बाद 3 अक्तूबर को बुंदेलखंड के टीकमगढ़ जिले की है, जिसमें किसानों पर लाठीचार्ज के बाद थाने में निर्वस्त्र कर उनकी पिटाई करने का आरोप है. जिले को सूखाग्रस्त घोषित कराने के लिए किसान कलेक्टर को ज्ञापन देने गए थे. कांग्रेसी नेताओं के साथ पहुंचे किसान कलेक्टर से अपनी बात कहना चाहते थे, लेकिन कलेक्टर की जिद थी कि वे ज्ञापन लेने नहीं आएंगे. यही प्रशासनिक चूक सरकार पर भारी पड़ गई.

एक घंटे इंतजार के बाद मामला बिगड़ा और पुलिस को लाठीचार्ज के साथ आंसू गैस के गोले दागने पड़े. जब किसान ट्रैक्टर ट्रालियों से अपने गांव जा रहे थे तो पुलिस ने उनको रोक लिया. थाने ले जाकर उनको निर्वस्त्र कर दिया और लॉकअप में बंदकर पीटा. घटना के बाद कांग्रेस के हाथ एक बार फिर वह मुद्दा आ गया जिसके जरिए वह सत्ता में वापसी का सपना देख रही है. सरकार घटना की जांच का ऐलान कर डैमेज कंट्रोल की कोशिश कर रही है. वहीं विपक्ष मंदसौरगोलीकांड के भरे जख्मों को टीकमगढ़ की घटना के साथ फिर से खरोंचने में जुटा है.

दरअसल, कांग्रेस ने किसानों की समस्याओं को लेकर खेत बचाओ, किसान बचाओ आंदोलन किया था. यह आंदोलन जिले को सूखाग्रस्त घोषित कराने सहित किसानों का बिजली बिल माफ करने, मौसम की मार के चलते बर्बाद हो चुकी फसलों का उचित मुआवजा दिलाने की मांग को लेकर किया गया. टीकमगढ़ के मानस मंच के समीप हजारों किसानों जुट गए. नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह और युवक कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कुणाल चौधरी भी यहां मौजूद रहे. जुलूस की शक्ल में किसानों का हुजूम दोपहर करीब तीन बजे जिला संयुक्त कार्यालय भवन पहुंचा, जहां अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राकेश खाखा के नेतृत्व में पुलिस ने किसानों को बाहर रोकने के लिए भारी-भरकम इंतजाम किए थे. किसानों का हुजूम शांतिपूर्वक कलेक्टर कार्यालय तक पहुंचा. काफी नारेबाजी के बाद पुलिस से वार्ता हुई और तय हुआ कि कलेक्टर अभिजीत अग्रवाल को ज्ञापन सौंपने कांग्रेसी नेताओं का दस सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ही जाएगा. लेकिन संयुक्त कार्यालय के मुख्य दरवाजे पर कांग्रेसियों का प्रतिनिधिमंडल ठहर गया और कलेक्टर को ज्ञापन लेने के लिए ऑफिस से बाहर आने की बात कही गई. कलेक्टर के इनकार के बाद युवा कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कुणाल चौधरी मुख्य दरवाजे पर ही धरने पर बैठ गए. करीब एक घंटे तक जब कलेक्टर ज्ञापन लेने नहीं पहुंचे तो बाहर खड़े किसान उग्र हो गए और पत्थरबाजी शुरू हो गई.

पुलिस ने लाठीचार्ज और पानी की तेज बौछार फेंकी, जिससे किसान और कांग्रेसियों को चोटें आईं. अग्रवाल को अपनी चूक का एहसास हुआ और वे फौरन धरने पर बैठे कांग्रेसी नेताओं से ज्ञापन लेने पहुंच गए. कलेक्टर के पहुंचने तक पत्थरबाजी और लाठीचार्ज चरम पर पहुंच गया. दस हजार से ज्यादा किसानों को देखते हुए एएसपी राकेश खाखा ने भी कलेक्टर से मुलाकात कर ज्ञापन लेने के लिए आग्रह किया था.

शाम करीब पांच बजे किसान अपने गांव लौट रहे थे. इस बीच टीकमगढ़ देहात थाने की पुलिस ने किसानों को पकड़कर लॉकअप में डाल दिया. यहां किसानों को निर्वस्त्र कर एक बार फिर पिटाई की गई. इसकी खबर कांग्रेस नेताओं को लगी तो उन्होंने थाने पर हंगामा काटकर किसानों को मुक्त करा लिया.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह को पूरी घटना की जांच कराने के निर्देश जारी कर दिए हैं, लेकिन गुस्सा थमा नहीं है. टीकमगढ़ में किसानों के समर्थन में व्यापारियों ने एक दिवसीय बंद रखा. इस घटना के बाद भाजपा के प्रवक्ता राहुल कोठारी कहते हैं, ''कांग्रेस के भीतर नेतृत्व की लड़ाई चल रही है. नेता मीडिया में आने के लिए पुलिस पर पथराव कर बवाल भी कराने लगे हैं. प्रदर्शन कांग्रेस का था किसानों का नहीं. किसानों की आड़ में राजनीति की जा रही है.'' बहरहाल, भाजपा सरकार की परेशानी कम होने का नाम नहीं ले रही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay